एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट को रौंदने का प्रयास, वंशिका के गुर्गे प्रशासन के सबसे खास रेत कारोबारियों ने तहसीलदार के वाहन को किया क्षतिग्रस्त... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, September 1, 2021

एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट को रौंदने का प्रयास, वंशिका के गुर्गे प्रशासन के सबसे खास रेत कारोबारियों ने तहसीलदार के वाहन को किया क्षतिग्रस्त...





रेवांचल टाईम्स - कार्यपालिक मजिस्ट्रेट एवं प्रभारी तहसीलदार जयसिंहनगर दीपक पटेल को आज सुबह रेत ठेकेदार कंपनी वंशिका ग्रुप के गुर्गों द्वारा जान से मारने की कोशिश की गई। ट्रैक्टर से उनके वाहन को ठोकर मार कर क्षतिग्रस्त करने के साथ ही जानलेवा हमला किया गया, बावजूद इसके थाने से ही मामले को रफा-दफा करने के प्रयास के साथ प्रशासनिक हलके में सन्नाटा छाया हुआ है। आखिर क्या वजह है कि जिला प्रशासन वंशिका ग्रुप के गुर्गों की गतिविधियों पर अंकुश लगा पाने में अक्षम साबित हो रहा है आए दिन होने वाली घटनाओं और ठेकेदार कंपनी के गुर्गों की गुंडागर्दी ने जिला प्रशासन को कटघरे में ला खड़ा किया है।


क्या है मामला


प्राप्त जानकारी के अनुसार जयसिंहनगर  के प्रभारी तहसीलदार एवं कार्यपालक मजिस्ट्रेट दीपक पटेल मंगलवार की सुबह लगभग 8:30 बजे जयसिंह नगर क्षेत्र अंतर्गत भटिगवां रेत खदान जा पहुंचे और वहां रेत के अवैध उत्खनन व परिवहन पर अंकुश लगाने का प्रयास करते इसके पूर्व ही अपनी जान बचाकर भागने पर मजबूर हो गए। सूत्रों के मुताबिक जब तहसीलदार भटिगवां खदान की ओर जा रहे थे उसी समय ब्यौहारी के किसी ट्रैक्टर मालिक सोनू यादव के ट्रैक्टर क्रमांक एमपी 18 बी 6458 में रेत भरकर परिवहन किया जा रहा था। तहसीलदार की गाड़ी मौके पर पहुंची और इससे पहले कि वह कोई कार्यवाही कर पाते ट्रैक्टर चालक ने तहसीलदार के चार पहिया वाहन पर ट्रैक्टर चढ़ाने की कोशिश की, जिससे तहसीलदार के वाहन के साथ ही ट्रैक्टर को भी क्षति पहुंची है और ट्राली मौके पर ही पलट गई। इस आकस्मिक घटना से बौखलाए प्रभारी तहसीलदार दीपक पटेल मौके से भाग निकले और पुलिस को सूचना दी। जयसिंह नगर पुलिस ने वारदात को अंजाम देने वाले ट्रैक्टर को चालक सहित पकड़ लिया और ट्रैक्टर थाने में खड़ा कराकर चालक को गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन तहसीलदार के क्षतिग्रस्त वाहन को थाना लाने के बजाए मरम्मत के लिए शहडोल भेज दिया गया।


मनुहार की कोशिश


बताया जाता है कि तहसीलदार और उनके वाहन पर इस हमले की घटना के बाद जयसिंहनगर पुलिस पशोपेश की स्थिति में नजर आ रही है। क्योंकि मामला वंशिका ग्रुप से जुड़ा हुआ है इसलिए ठेकेदार कंपनी के गुर्गों पर कार्यवाही करने के बजाए थाने के कुछ कर्मचारी तहसीलदार की मनुहार करने में जुटे हुए हैं कि ट्रैक्टर मालिक आपके क्षतिग्रस्त वाहन की मरम्मत करा देगा आप मामला खत्म कर दीजिए उधर तहसीलदार भी भावावेश में खदान की ओर चले तो गए लेकिन शायद उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ होगा और अब वह भी मामले को तूल न देने के मूड में नजर आ रहे हैं जबकि जयसिंहनगर ब्यौहारी सहित पूरे जिले में यह मामला चर्चा का विषय बना हुआ है।


क्यों गए थे तहसीलदार


ठेकेदार कंपनी वंशिका ग्रुप ने जिले की सभी रेत खदानें लीज पर ले रखी हैं और उन्हें अपनी सुविधानुसार पेटी कॉन्ट्रैक्ट पर देकर रेत का अवैध अवैध उत्खनन करा रही है। कंपनी के जिम्मेदार लोगों ने रेत खनन एवं परिवहन को अबाध गति से जारी रखने के लिए तगड़ा मैनेजमेंट कर रखा है। आलम यह है कि अधिकारी, कर्मचारी, नेता, पत्रकार एवं अन्य प्रभावी वर्ग के लोग सभी कंपनी द्वारा मैनेज किए जाते हैं। तहसीलदार जयसिंहनगर भी इस मैनेजमेंट से अछूते नहीं है लेकिन जैसे की चर्चा है वह वंशिका ग्रुप द्वारा स्वयं के लिए निर्धारित कथित पैकेज से संतुष्ट नहीं होने के कारण खदान की ओर रुख कर बैठे और इस तथाकथित वारदात का शिकार हो गए।


ट्रैक्टर का काम नहीं


कार्यपालिक मजिस्ट्रेट एवं तहसीलदार पर हमले की इस घटना के बाद जब वंशिका ग्रुप से जुड़े लोगों से इस संबंध में चर्चा की गई तो उनका कहना था की उनके द्वारा कहीं पर भी ट्रैक्टर से काम नहीं लिया जाता है इसलिए हमलावर ट्रैक्टर उनकी कंपनी से संबंध नहीं है। ट्रैक्टर चलवा रहे जयसिंहनगर के कोई पंडित जी यह कहते नजर आ रहे हैं कि उनका ट्रैक्टर पीएम आवास योजना के तहत मकान निर्माण हेतु रेत लेकर आ रहा था जबकि ब्यौहारी निवासी ट्रैक्टर मालिक का स्पष्ट कहना है कि उन्होंने ट्रैक्टर जयसिंह नगर के पप्पू मिश्रा नाम के पंडित जी को चलवाने के लिए दिया है और उन्होंने वंशिका ग्रुप के रेत भंडार में उसे लगा रखा है। कौन सही है कौन गलत है इसका फैसला तो जांच के बाद ही होगा लेकिन यह तो अकाट्य सत्य है ही की ट्रैक्टर चालक ने तहसीलदार के वाहन पर ट्रैक्टर चढ़ाकर अधिकारी को जान से मारने की कोशिश की है और इस मामले में पुलिस या प्रशासन की चुप्पी या लीपापोती भविष्य में किसी बड़े वारदात को आमंत्रित कर सकती है।

No comments:

Post a Comment