निजी कंपनी के षणयंत्र से थाने बन गए “सीमेंट की दुकान लगे ग्लोसाइन बोर्ड... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, September 5, 2021

निजी कंपनी के षणयंत्र से थाने बन गए “सीमेंट की दुकान लगे ग्लोसाइन बोर्ड...

 


रेवांचल टाईम्स - एक निजी सीमेंट कंपनी थाने में विज्ञापन बोर्ड लगाकर मुफ्त में अपना प्रचार-प्रसार कर रही है। जबकि किसी भी थाने में ऐसे बोर्ड की कोई आवश्यकता नही है। 

,सिवनी जिले के बंडोल, छपारा और सिवनी यातायात थाना में एक निजी सीमेंट कम्पनी ने अपने बड़े-बड़े विज्ञापन बोर्ड लगाकर थाने को “सीमेंट की दुकान” बना दिया है। कहने के लिए भले ही इन बोर्डों में थाने का नाम लिखा गया हो लेकिन बोर्ड के दोनों किनारों पर सीमेंट की दो बोरियों की फोटो लगाकर खुलेआम विज्ञापन किया जा रहा है।

जब आप पुलिस थाने जाते हैं तो गेट पर निजी सीमेंट कंपनी के बोर्ड देखने को मिलते हैं। ऐसे में एक बार तो धोखा हो सकता है कि यह पुलिस स्टेशन है या कोई “सीमेंट की दुकान”। क्योंकि जिस तरीके से कंपनी में छल करते हुए सरकारी जगह पर थाने का नाम लिखने के बहाने अपना विज्ञापन किया है, वह कहीं ना कहीं कानूनी रूप से अपराध की श्रेणी में भी आता है। आखिरकार किसी निजी कंपनी को यह अधिकार कहां से मिला कि वह थाने जैसे सरकारी परिसर में अपनी कंपनी का खुलेआम प्रचार प्रसार करें।

     सीमेंट कंपनी के विज्ञापन गणित को समझिए-


थाने के नाम के साथ अपनी सीमेंट का विज्ञापन कर रही कंपनी ने बड़ी प्लानिंग के साथ इन बोर्डों को लगवाया है। इन्हें इस तरह रखवाया गया है कि उसका विज्ञापन होता रहे। जैसे जब भी कोई थाना गुड वर्क करते हैं तो वह आरोपियों को थाना कार्यालय के सामने खड़ा करके फोटो खिंचवाते हैं और फिर उसे पुलिस अधीक्षक मीडिया सेल भेज दिया जाता है। यहां से समाचार के लिए पत्रकारों के पास पहुँचता है और फिर यह न्यूज पोर्टल, समाचार पत्र, न्यूज चैनल में दिखाई देता है। ऐसे में उस सीमेंट कम्पनी को बिना कुछ किये ही लाखों लोगों तक पहुंचने का लाभ मिलता है और फ्री में विज्ञापन भी हो जाता है।

      क्या कहता है नियम?-

थानों में लगे सीमेंट के विज्ञापन वाले बोर्डों को देख कर मन में एक सवाल तो जरूर आता है कि आखिर ये किस नियम के तहत लगाए गए हैं, अब जरा समझते हैं की नियम क्या कहता है? नियमानुसार किसी भी सरकारी परिसर से कोई भी निजी विज्ञापन नहीं किया जा सकता है। सरकारी जगहों पर जनता से जुड़ी हुई जागरूकता या ऐसी कोई जानकारी जो लोगों के हित में हो या थाने में आने वाले लोगों को उनके अधिकार के लिए संदेश देने जैसे विज्ञापन लग सकते हैं, लेकिन उनमें भी किसी भी प्रकार का निजी विज्ञापन नहीं होगा। ऐसे में जहां पर भी थाने का नाम लिखते हुए सीमेंट वाले विज्ञापन बोर्ड लगाए गए है वह पूरी तरीके से अवैध है और इन पर विधि सम्मत कार्यवाही भी होनी चाहिए।

No comments:

Post a Comment