Heart Care: कोविड के दौर में दिल की बीमारी का खतरा ज्यादा है, कैसे करें खुद का बचाव - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, August 27, 2021

Heart Care: कोविड के दौर में दिल की बीमारी का खतरा ज्यादा है, कैसे करें खुद का बचाव



दिल और लंग्स के मरीजों को कोरोना संक्रमण का ज्यादा खतरा है. ऐसे में जो लोग पहले से हार्ट की समस्याओं से जूझ रहे हैं, उन्हें ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है. कुछ आसान टिप्स से दिल को स्वस्थ रख सकते हैं.

Heart Care: कार्डियोवैस्कुलर डिजीजेज यानी सीवीडी भारत में मौत का प्रमुख कारण है. कार्डियोवैस्क्युलर या सर्कुलरी सिस्टम हृदय, धमनियों, शिराओं और रक्त नलिकाओं से बना होता है. इनसे जुड़ी कोई भी समस्या सीवीडी कहलाती है. इस तरह सीवीडी, हृदय और रक्त नलिकाओं से जुड़े कई रोगों का समूह है. शुरू में कोरोना महामारी लंग्स को प्रभावित करने के लिए समझा जाता थी, लेकिन उसने दिल को भी संभावित नुकसान पहुंचाया है.


कोरोना काल में दिल की बीमारी से बचाव के उपाय


सबूत बताते हैं कि कोविड-19 ने कार्डियोवैस्क्युलर बीमारी के मरीजों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है. इस दौरान, जांच और इलाज के लिए अस्पतालों में आनेवाले दिल के मरीजों की संख्या को बढ़ते हुए देखा गया है. महामारी ने संक्रमित मरीजों के दिल और लंग की सेहत को बुरी तरह प्रभावित भी किया है. कई मरीजों को दिल की समस्याएं जैसे कार्डियोमायोपैथी विकसित हुई हैं. दिल और लंग्स के मरीजों को कोरोना संक्रमण का ज्यादा खतरा है.


ऐसे में जो लोग पहले से हार्ट की समस्याओं से जूझ रहे हैं, उन्हें ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है. आपके लिए कुछ आसान तरीके बताए जा रहे हैं, जिनको अपनाकर आप अपने दिल को स्वस्थ रख सकते हैं.


45 मिनट रोजाना व्यायाम करें- घर से काम करते हुए सामान्य से ज्यादा बैठना पड़ रहा है. ये तनाव में और इजाफे का कारण बन भी बन रहा है. रिसर्च में साबित हुआ है कि व्यायाम करने के बावजूद देर तक बैठने का संबंध बदतर स्वास्थ्य नतीजों दैसे दिल की बीमारी, टाइप 2 डायबिटीज और कैंसर से जुड़ता है. इसलिए दिल को स्वस्थ रखने के लिए के लिए 45 मिनट का रोजाना व्यायाम अहम है.


बॉडी मास इंडेक्स को ठीक रखें- थोड़ा अधिक वजन होना भी मोटापा का प्रमुख जोखिम फैक्टर है. मोटापा एक मेडिकल स्थिति है जो आपकी दूसरी बीमारियों और स्वास्थ्य समस्याओं जैसे दिल का रोग, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और खास कैंसर का खतरा बढ़ाता है. इसलिए अपने वजन को रोजाना नापें और कोशिश करें कि आप अपने आदर्श वजन के करीब रहें. आप बॉडी मास इंडेक्स को 18.5-24.9 को बनाए रखें.

No comments:

Post a Comment