प्रशासन की मौन सहमति के चलते नैनपुर नगर की हवाओं में घुल रहा अवैध कार्य और नशे का जहर... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, August 16, 2021

प्रशासन की मौन सहमति के चलते नैनपुर नगर की हवाओं में घुल रहा अवैध कार्य और नशे का जहर...




रेवांचल टाइम्स :- वैसे तो नैनपुर नगर को शांति एवं सुकून वाला नगर माना जाता था। लोग यहां अपने आप को सुरक्षित महसूस किया करते थे। यहां रेलवे द्वारा यात्री ट्रेनों का परिचालन नैनपुर नगर की शोभा हुआ करता था। यात्री ट्रेनों के द्वारा नैनपुर नगर को बड़े शहरों से जोड़ा गया था। जिससे नगर की जनता को आवागमन में अधिक सहायता मिलती थी। नगर के प्रत्येक वार्ड में अमन चैन एवं सुकून दिखाई देता था। प्रशासनिक अमला भी अवैध कार्य करने वाले, क्राइम को बढ़ावा देने वालों पर अपना दंडात्मक चाबुक समय-समय पर चलाता रहता था। जिससे कानून व्यवस्था पर जनता का विश्वास बढ़ता दिखाई देता था। लोग प्रशासन पर भरोसा किया करते थे। लोग सरकारी भूमियों पर कब्जा करने से पहले विचार किया करते थे। कि यदि यहां हमने एक बांस भी गड़ाया तो हमारे ऊपर कड़ी कार्रवाई हो सकती है। नगर के मार्केट में व्यापारियों को भी प्रशासन का पूरा डर था वह अपनी हद में रह कर ही व्यापार किया करते थे।


लेकिन आज नैनपुर नगर की स्थिति इसके बिल्कुल विपरीत है। आज नगर में सरेआम नशे का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। नई युवा पीढ़ी नसे की गिरफ्त में आकर अपना आपा खो रही है एवं लोगों का मानसिक संतुलन भी बिगड़ रहा है। जिससे नगर में दिनों दिन क्राइम बढ़ रहा है। चोरी, लड़ाई झगड़े हर आऐ दिन नगर में सुनने में आ रहे हैं। नगर में गांजे का व्यापार धड़ल्ले से चल रहा है। जिस की गिरफ्त में आकर युवा पीढ़ी अपना मानसिक संतुलन खो रही है। नगर के ऐसे कई युवा घूमते दिखाई देते हैं। जो कि गांजे की लत के चलते अपना संतुलन खो बैठे हैं।

वहीं दूसरी तरफ नगर में सिलोशन का नशा भी आम होता जा रहा है। जिसमें छोटे-छोटे बच्चे फंस कर अपने उज्जवल भविष्य को गवां रहे हैं।


नगर के व्यापारी अपने स्वार्थ के चलते एवं मोटी रकम कमाने के चक्कर में नगर में नकली सिगरेट, बीड़ी का व्यापार धड़ल्ले से कर रहे हैं। ऐसा करके वह लोगों के शरीर एवं स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहे हैं। मानो ऐसा प्रतीत होता है। इन्हें प्रशासन की मौन सहमति प्राप्त हो। नाही इनके गोदामों में कभी छापे पड़ते हैं, नाही इनके द्वारा बिक रही बिड़ी सिगरेट की जांच होती है।


नैनपुर नगर में कोरोना काल से यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद है।लेकिन किसी भी जनप्रतिनिधि ने  आज दिनांक तक ध्यान नहीं दिया। जबकि नगर पालिका अध्यक्ष से लेकर प्रधानमंत्री तक भारतीय जनता पार्टी की सरकार है इसके बावजूद भी जनता को निराशा ही हाथ लगी है।


वार्ड नंबर 14 में सरकारी भूमियों पर सत्ताधारी पार्टी के लोग प्रशासनिक अधिकारियों की सांठ गांठ से धड़ल्ले से कब्जा कर रहे हैं। एवं शिकायत करने पर तहसीलदार द्वारा केवल गरीब मजदूरों के मकान गिराए जाते हैं। लेकिन रसूखदार और सत्ताधारी पार्टी के लोगों के मकान सलामत रहते हैं। जो की जनता के साथ सौतेला व्यवहार करना साबित करता है। आज दिनांक तक रसूखदार के मकान नहीं तोड़े गए वह धड़ल्ले से वार्ड नंबर 14 सरकारी भूमि पर मकान बना कर रह रहे हैं। एवं नगर पालिका द्वारा उन्हें सर्व सुविधाएं दी जा रही है।


नगर के मुख्य चौराहे बांसुरी वादन चौक प्रेम होटल से लेकर राधा कृष्ण मंदिर तक सड़क 60 फीट की बनाई गई है। लेकिन नगर के व्यापारियों द्वारा अपनी दुकानों का सामान बाहर तक निकाल कर सड़क पर कब्जा किया गया है। शिकायत करने पर तहसीलदार द्वारा केवल खानापूर्ति की जाती है, एवं कार्यवाही होने के दूसरे दिन ही व्यापारियों द्वारा पुनः अतिक्रमण कर लिया जाता है। ऐसा प्रतीत होता है की, प्रशासन की सांठगांठ से व्यापारियों के हौसले बुलंद हो चुके हैं एवं मोटी मलाई के चलते प्रशासन ने चुप्पी साध ली है।


बड़ी मस्जिद के पास चौराहे पर कांपलेक्स बनाया गया है। जो कि सरकारी भूमि पर होना दर्शाता है। कांपलेक्स के बाजू से राधा कृष्ण मंदिर की ओर बढ़ते हुए लोगों ने अपने मकान सरकारी भूमि पर बनाए हैं, और बेधड़क आज दिनांक तक निर्माण कार्य लगातार कर रहे हैं। लेकिन प्रशासन कि कोई भी रोक टोक ना होना यह प्रशासनिक अधिकारियों की सांठगांठ को दर्शाता है।


नैनपुर नगर में दिनोंदिन चोरी और झगड़े लड़ाई की वारदातें बढ़ रही है। देर रात तक नगर में पान ठेले खुले रहते हैं। जहां पर शराबियों का जमावड़ा बना रहता है, एवं कई बार आपसी रंजिश के चलते लड़ाई झगड़े हो जाते हैं। नगर में देर रात तक नगर के युवा बेखौफ शराब पीकर घूमा करते हैं। एवं तेज बाइक चलाया करते हैं। लेकिन पुलिस प्रशासन इन पर किसी भी प्रकार की कार्रवाई करते दिखाई नहीं देता।


नगर में इतना सब कुछ होने के बाद भी नगर का प्रशासन और नगर के जनप्रतिनिधि ना जाने क्यों मौन होकर बैठे हुए हैं। इससे प्रतीत होता है कि, जनप्रतिनिधि एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने अवैध कार्य करने वाले, अतिक्रमण करने वाले, एवं नगर का माहौल खराब करने वालों से मोटी रकम वसूलना चालू कर दिया है। 

जिसके चलते नगर में दिनोंदिन अवैध कार्य और क्राइम बढ़ता नजर आ रहा है। जो कि नैनपुर नगर को गर्त की ओर ले जा रहा है। आने वाली पीढ़ियों के लिए यह काफी हानिकारक साबित हो सकता है। यहां तक कि नगर में युवा पीढ़ी के ऊपर माता पिता का भी कोई दबाव नहीं है। जिसके चलते युवा पीढ़ी बर्बादी की ओर बढ़ती नजर आ रही है। 

नैनपुर नगर के माहौल को सुधारने के लिए जल्द ही प्रशासनिक अधिकारियों के तबादले होना अधिक जरूरी है। खासकर एसडीएम नगर में महिला ना होकर दमदार पुरुष होना अधिक आवश्यक है। जिससे नगर का कंट्रोल सही तरीके से हो सके और नगर की जनता को अमन चैन और सुकून वापस मिल सके।


नैनपुर रेवांचल टाइम्स से शालू अली की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment