नगर पालिका की अनदेखी से, सार्वजनिक प्याऊ के आसपास फैली रहती है गंदगी बना हुआ है बीमारियों का खतरा... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, August 27, 2021

नगर पालिका की अनदेखी से, सार्वजनिक प्याऊ के आसपास फैली रहती है गंदगी बना हुआ है बीमारियों का खतरा...

 




रेवांचल टाइम्स :- नैनपुर नगर के मुख्य चौराहे बांसुरी वादन समेत अस्पताल, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, बाजार समेत अन्य सार्वजनिक स्थलों पर शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए प्याऊ बनाए गए हैं, यहां वॉटर कूलर की भी व्यवस्था नगर पालिका या फिर सामाजिक संस्थाओं द्वारा की गई है, पर प्याऊ के आसपास पसरी गंदगी से न केवल पेयजल दूषित हो रहा है.


बल्कि इन प्याऊ के आसपास जलजमाव एवं गंदगी के कारण मच्छरों का प्रकोप भी बढ़ गया है। नगर पालिका की अनदेखी का आलम ये है कि, न तो इन सार्वजनिक वाटर कूलर के आसपास सफाई कराई जाती है और प्याऊ के जरिये उपलब्ध कराए जाने वाले पानी की शुद्धता को लेकर जिम्मेदारी गंभीर हैं। अधिकतर प्याऊ के नल या तो खराब हैं या चोरी कर लिए गए हैं। प्याऊ के आसपास पसरी रहने वाली गंदगी से आसपास के छोटे बड़े व्यापारी एवं दुकानदार खासे परेशान हैं।


नगर का पुराना अस्पताल हो या फिर नया सिविल अस्पताल में रोजाना सैकड़ों मरीजों एवं उनके परिजनों की आमद रहती है। यहां आने वालों को पेयजल मुहैया कराने के लिए प्याऊ बनाया गया हैं, पर सफाई नहीं होने से इनके आसपास गंदगी फैली रहती है। लापरवाही ऐसी है कि प्याऊ के पास ही न केवल कपड़े धोए जाते हैं, बल्कि जूठे बर्तन साफ होते हैं। प्याऊ से निकलने वाले पानी की निकासी की भी पुख्ता व्यवस्था नहीं है। नतीजतन कई मरीज एवं उनके परिजन दुकानों से बोतलबंद पानी खरीदकर लाते हैं। वहीं अधिकतर यही पानी पीने को मजबूर हैं।


वैसे तो अभी यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद है कुछ साप्ताहिक ट्रेनों का आवागमन है नैनपुर स्टेशन से हो रहा है लेकिन नैनपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर यात्रियों को पेयजल उपलब्ध कराने के लिए कई वॉटर कूलर एवं नल लगाए गए हैं, पर इनके आसपास फैली रहने वाली गंदगी के कारण यात्री इस पानी का उपयोग करने से बचते हैं। हालांकि अधिकतर यात्रियों के पास इसके अलावा कोई विकल्प नहीं होता, लिहाजा गंदगी से घिरी प्याऊ और वॉटर कूलर से ही पीने के लिए पानी भरा जाता है। प्लेटफार्म पर पसरी अव्यवस्थाओं का फायदा वेंडर उठाते हैं और तय कीमत से अधिक में पानी की बोतल बेचते हैं। 


नैनपुर नगर पालिका स्थित बस स्टैंड पर यात्रियों को पेयजल मुहैया कराने के उद्देश्य से दो प्याऊ बनाए गए हैं। इनमें से एक का निर्माण नगर पालिका द्वारा किया गया है तो दूसरे का निर्माण समाजसेवी संस्था द्वारा बस स्टैंड में स्थित मंदिर के बगल में किया गया है। इन दोनों ही प्याऊ से नल ही गायब कर दिए गए हैं। बमुश्किल एक नल से ही पानी है, जिससे लोग अपनी प्यास बुझाते हैं। इन दोनों ही प्याऊ के आसपास कचरा एवं गंदगी फैली रहती है। पानी की निकासी नहीं होने से प्याऊ से निकलने वाला पानी भी यहीं जमा होता है, जिससे मच्छर और मक्खी पनप रहे हैं। मजबूरन यात्री आसपास की चाय-नाश्ते की दुकानों एवं बोतलबंद पानी पर ही निर्भर हैं।


बांसुरी वादन चौक स्थित वाटर कूलर की भी यही दशा है यहां पानी का भराव होने के कारण गंदगी फैल रही है। जिस पर नगर पालिका परिषद ध्यान बिल्कुल नहीं दे रही जिसका खामियाजा व्यापारियों को भुगतना पड़ रहा है पीने का पानी के लिए अधिक परेशान होना पड़ रहा है।


✒️ नैनपुर रेवांचल टाइम्स से शालू अली की रिपोर्ट 

No comments:

Post a Comment