अखिल भारतीय लोधी क्षत्रिय महा सभा का ग्राम पडरिया में सम्पन्न हुआ कार्यक्रम... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, August 18, 2021

अखिल भारतीय लोधी क्षत्रिय महा सभा का ग्राम पडरिया में सम्पन्न हुआ कार्यक्रम...

 




रेवांचल टाईम्स - मंडला जिले के अंतर्गत आने वाले विकास खंड नारायणगंज मे, 16 अगस्त को रानी अवंति बाई लोधी जन्म जयन्ती के रूप में ग्राम के सभी लोधी स्वजातीय बंधुओं द्वारा दीप प्रज्जवलित कर मिठाई बाट कर एव केक काटकर रानी अवंति बाई लोधी जी का जन्म दिवस को बड़े ही धूम धाम से मनाया गया! ग्राम के सभी युवा,सम्मानीय बुजुर्ग लोगों का जमकर सहयोग मिला!ग्राम के सम्मानित ज़न होशि लाला सिंगरोरे, गोपाल सिंगरोरे, गुन्ना सिंगरोरे, रवि, अनिल, बसंत, शंकर सिंगरोरे,  का तिलक वंदन कर स्वागत किया गया, युवा शक्ति से सुरेंद्र सिंगरोरे, गणेश, श्याम, अरविन्द, सुनील, मनोहर, उमेश, धर्मेंद्र, महेंद्र, छूटटू, राकेश, उपस्थित हुए कारीक्रम को संतोष सिंगरोरे, अशोक सिंगरोरे प्रताप सिंगरोरे, अंत में दुर्गेश सिंगरोरे लोधी ने समस्त ग्राम की लोधी सभा को संबोधन करते हुए कहा कि ये छोटे छोटे कारीक्रम हमारी सामाजिक एकता शक्ति का प्रतीक है,ये कारीक्रम हमे मंच प्रदान करते हैं कि हम संगठित होकर आपने समाज को बेहतर से और बेहतर बनाने के लिए संकल्पित हो सके ,समाज कुरीतियों,को खत्म कर सभ्यता लोधी संस्कृति को बढ़ावा मिल सके! हम एक साथ एक मंच पर बेठ कर आपने सामाजिक विकास उत्थान कल्याण, शोषण, कुरीति के अंत के विषय में सोच सके और हम आने वाले पीढ़ियों को बेहतर से बेहतर समाज प्रदान कर सकते और सामाजिक न्याय व्यवस्था को बनाए रखे! लोधी जातीय के कारीक्रम जेसे अवंति बाई बलिदान दिवस या जन्म जयन्ती कारीक्रम को स्वजातीय तक ना रख कर सर्व जातीय कारी क्रम के रूप में इसको विकसित करके की जरूर हैं, क्यों कि लोधी समाज के पूर्वजो की गोरव गाथा के प्रचार की जिम्मेदारी लोधी समाज के हर व्यक्ति की होनी चाहिए,जिससे देश और समाज प्रेम की भावना का विकास हो और नई पीढ़ीयों के लोगों को  पता चल सके इस देश के निर्माण मे, हमारे लोधी समाज के पूर्वजो का भी योगदान रहा है!इस देश निर्माण में इस देश की मूलवासि जाति का भी योगदान रहा है!

No comments:

Post a Comment