मोहर्रम पर सवारियां, ताजिया और बुर्राक निकले - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, August 20, 2021

मोहर्रम पर सवारियां, ताजिया और बुर्राक निकले






रेवांचल टाईम्स - शुक्रवार को मोहर्रम माह की 10 तारीख योमे आसूरा पर मातमी धुनों और गाजे-बाजे के साथ बाबा की सवारियां, ताजिया और बुर्राक निकले इस मौके पर मंडला, नैनपुर, बिछिया, निवास, नगर में की गई सजावट आकर्षण का विषय कोरोनाकाल के चलते चहल पहल कम ही रही। शाम करीब 4 बजे से नगर में विभिन्न स्थानों से ताजिया और बुर्राक निकलना शुरू हुए। वही मंडला नगर के उदय चौक में सभी ताजिया एकत्र हुए वही सुरक्षा की द्रष्टि से जगह से नगर में पुलिस व्यवस्था की गई वही सवारियां गश्त करते हुए नैनपुर नगर की जामा मस्जिद के पास एकत्र हुए।

        यहां बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ मौजूद रही। यहां से ताजिया और बुर्राक लेकर लोग करबला की तरफ रवाना हो गए। साल भर के लिए ताजिया और बुर्राक को विदा कर दिया गया। जहां-जहां ताजिया और बुर्राक रुके, लोगों ने मन्नतें मांगी, फातिहा पढ़ी। इसी तरह से नगर के कई स्थानों सहित बाबा की सवारियां निकलीं। लोगों ने बाबाओं से मुलाकात की। समस्याएं बताईं, समाधान पूछा। मस्जिद चौक बांसुरी वादक चौक सहित अन्य कई जगहों से भी बाबा की सवारियां निकलीं।

       इस दौरान अखाड़ा दलों ने हैरतंगेज कारनामे भी दिखाए बताया कि योमे आसूरा के दिन लोगों ने रोजा रखा। कुरान की तिलावत की। इस दिन का इंतजार साल भर रहता है, लिहाजा लोगों ने पूरा दिन अल्लाह की इबादत में निकाला। नमाज पढ़ी, कुरान की तिलावत की एवं अल्लाह का जिक्र किया। अपने लिए, रिश्तेदारों सहित समाज और देश की अमन-सलामति की दुआ मांगी। महिलाओं ने घरों में इसी तरीके से दिन गुजारा।

मोहर्रम माह से इस्लामी कैलेंडर का नया साल भी करीब 10 दिन पहले शुरू हो गया है। जिल हिज का माह जो गुजर गया, उसमें भी कुर्बानी थी, मोहर्रम माह भी कुर्बानी का है। मोहर्रम माह में हुजूर के नवासे हजरत इमाम हुसैन ने अपने 72 साथियों के साथ कुर्बानी दी थी।                                              


नैनपुर से राजा विश्वकर्मा की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment