आखिर क्यों हुई मंगल की गवाही शुक्रवार को जांच को प्रभावित करने कोई कसर नहीं छोड़ रहे राहुल बघेल निष्पक्ष जांच नहीं हुई तो न्यायालय जाने की तैयारी ... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, August 20, 2021

आखिर क्यों हुई मंगल की गवाही शुक्रवार को जांच को प्रभावित करने कोई कसर नहीं छोड़ रहे राहुल बघेल निष्पक्ष जांच नहीं हुई तो न्यायालय जाने की तैयारी ...





रेवांचल टाईम्स - यादव समाज भी शिकायत की तैयारी में थाना प्रभारी राहुल बघेल की कार्यप्रणाली और पद के दुरुपयोग कर षडयंत्र पूर्वक फसाने के मामले में राहुल बघेल की शिकायत में एडिशनल एसपी द्वारा की जा रही जांच में अचानक धूमा के मंगल यादव को धूमा थानेदार राहुल बघेल के साथ सरकारी गाड़ी क्रमांक एमपी 03 ए 5079में बैठ कर गवाही देने सिवनी क्यों जाना पडा... शिकायतकर्ता सतीश और गवाह बतौर यशवंत यादव के बयान हेतु नोटिस जारी किए गए थे लेकिन अलग-अलग पैंतरे बदल स्वयं को बचाने जिस तरह से थाना प्रभारी राहुल बघेल ने शिकायतकर्ता यशवंत यादव से ही झूठा शिकायती पत्र लिखवा लिया था ठीक वैसे ही एडिशनल एसपी के यहां चल रही जांच में स्वयं को बचाने के लिए अब धूमा थानेदार राहुल बघेल ने यशवंत यादव के ही रिश्तेदार को गवाही के ही दिन स्वयं साथ सरकारी गाड़ी में बिठालकर ले जाकर पद कर्तव्य और नियमों का उल्लंघन करते हुए पूरी जांच प्रक्रिया को प्रभावित करने की कोशिश की है। आखिर  जब थानेदार राहुल बघेल के खिलाफ हुई शिकायत की जांच में शुक्रवार के दिन बयान दर्ज होने थे तब ही उसी दिन थाना प्रभारी धूमा राहुल बघेल ने

स्वयं को बचाने और जांच को प्रभावित करने धूमा थाने की सरकारी गाड़ी में बिठाकर स्वयं के पक्ष में शुक्रवार को मंगल यादव की गवाही कराने सिवनी ले जाने को मंगल यादव का कहना है कि मुझे कोई नोटिस नहीं मिला केवल पुलिस ने जबरन गवाही कराने लाई है और मैं बहुत परेशान हूं। और अब कहीं अगली पैंतरे बाजी में कहीं मंगल को पिछली दिनांक में नोटिस तामील कराने फिर रची जा सकती है साजिश वहीं मंगल की जबरन गवाही को लेकर  क्षेत्र के यादव समाज के लोग पुलिस के द्वारा अनावश्यक परेशान करने और जबरन  गवाही के मामले पर थाना प्रभारी धूमा राहुल बघेल के खिलाफ कार्रवाई के लिए  तैयारी हो सकते हैं। जिस मामले की शिकायत की जांच एडिशनल एसपी कर रहे हैं और जिस दिन गवाहों के बयान होने थे उसी दिन राहुल बघेल थाना प्रभारी यदि एडिशनल एसपी के साथ कंधे से कंधे मिलाकर समकक्ष चलते नजर आये और वहीं कान में गुफ्तगू करते देख शिकायतकर्ता व गवाहों के मन में चल रही जांच में संदेह पैदा होना लाजमी हैं। वहीं आप भी ऐसे में क्या मायने निकालेंगे और क्या कहेंगे एक जांचकर्ता और शिकायत में आनावेदक बयान के दिन साथ में रहकर न जाने क्या दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। और वहीं जब शिकायत की जांच में शुक्रवार को आवेदक और गवाहों के बयान दर्ज होने थे तो उस दिन थाना प्रभारी राहुल बघेल आखिर क्यों दूसरों से गवाहों को फोन लगवा कर मिलने को बोल रहे थे।

        थाना प्रभारी धूमा राहुल बघेल की शिकायत पर जांच तो चल ही रही है पर जांच में गवाह को परेशान करने ,कराने धूमा के ही चमचों और दल्लों से फोन करवाकर , बुलाकर जांच को प्रभावित करने का भी षड्यंत्र रचा गया । जो अब फिर से जांच का विषय बना है ।जिसकी शिकायत पुलिस महानिदेशक भोपाल और माननीय न्यायालय से करने की तैयारी में आवेदक,गवाह लगे हुए हैं।

जहां  राहुल बघेल एस आई धूमा थाना प्रभारी के द्वारा षड्यंत्र पूर्वक शिकायतकर्ता से ही झूठा आवेदन धमकाकर लिखवाने के मामले में जिले के पुलिस अधीक्षक प्रतीक कुमार के द्वारा निष्पक्षता से जांच हेतु एडिशनल एसपी को जांच की कमान सौंपी गई है। तो वही हो रही जांच में यदि जांच के ही गवाहों को धमकाने जांच को प्रभावित करने के लिए धूमा थाना प्रभारी एसआई राहुल बघेल के द्वारा पुनः षड्यंत्र रचा जाये और गवाहों व आवेदकों के सामने जांच अधिकारी और राहुल बघेल की खुलेआम गुफ्तगू हो तो ना जाने जांच क्या दर्शाती है।ऐसे में तो जांच कहां तक निष्पक्षता से होगी।और अब ऐसे में  जांच पर सवाल उठने और उठाने लाज़मी है।

       उक्त मामले पर ना केवल शिकायती पत्र बल्कि शपथ पत्र के साथ सीडी में दिए गए सबूतों के बाद भी यदि जांच निष्पक्षता से नहीं की जाती है। तो  पूरे मामले की शिकायत पुलिस महानिदेशक भोपाल और न्यायलय की शरण जाने की तैयारी है। ना केवल एक -दो शिकायतकर्ता बल्कि पिछले कई महीनों में थाना प्रभारी राहुल बघेल के खिलाफ अनेकों शिकायतें अभी भी अधिकारीयो की जांच की आंच में पक रहीं हैं। जो ना जाने कब पूर्ण हो पायेंगी। अभी है और बहुत कुछ अगले अंक में....

No comments:

Post a Comment