भारी बारिश के बावजूद भी मध्‍य प्रदेश के 14 जिलों पर सूखे का खतरा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, August 26, 2021

भारी बारिश के बावजूद भी मध्‍य प्रदेश के 14 जिलों पर सूखे का खतरा



भोपाल. भारी बारिश के बावजूद मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कुछ जिलों में सूखे के हालात बन सकते हैं. मौसम विभाग की ओर से जारी आंकड़ों पर गौर करें तो यह साफ है कि अगर आने वाले एक पखवाड़े में बारिश नहीं होती है तो प्रदेश के करीब 14 जिले ऐसे हैं जो सूखे की चपेट में आ सकते हैं.

मौसम विभाग के मुताबिक, एमपी में अब तक 685.5 मिलीमीटर बारिश हुई है. सामान्य बारिश का आंकड़ा 708.7 मिलीमीटर है. इस लिहाज से अब तक प्रदेश में सामान्य से 3 फीसदी कम बारिश हुई है. प्रदेश के 14 जिले ऐसे हैं जहां 20 से 43% तक सामान्य से कम बारिश हुई है.


हालांकि, मौसम विभाग के मुताबिक अभी बारिश की उम्मीद पूरी तरीके से खत्म नहीं हुई है. बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना जताई जा रही है. अगर यह कम दबाव का क्षेत्र बनता है तो 27 अगस्त के बाद दो या तीन दिन तक तेज बारिश हो सकती है, जिससे काफी हद तक हालात सामान्य हो सकते हैं.

मौसम विभाग की मानें तो अभी तक बंगाल की खाड़ी में 5 सिस्टम बने हैं. इनमें से पिछले दिनों कम दबाव का क्षेत्र लगभग 10 दिन तक ग्वालियर चंबल संभाग में ही स्थिर रहा था, जिस वजह से वहां बाढ़ की स्थिति बन गई थी.

अच्‍छी बारिश की उम्‍मीद
मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश के 14 जिले ऐसे हैं, जहां पर सामान्य से कम बारिश हुई है. इनमें इंदौर, धार, बड़वानी, खरगोन, बुरहानपुर, हरदा, दमोह, पन्ना, कटनी, जबलपुर, सिवनी, बालाघाट जैसे जिले शामिल हैं. इन जिलों में ही अच्छी बारिश की उम्मीद जताई जा रही है. अगर ऐसा नहीं हुआ तो फिर किसानों के लिए परेशानी खड़ी हो सकती है.

No comments:

Post a Comment