गुरु पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु को ऐसे चढ़ाएं तुलसी की पत्ती, कारोबार में होगी वृद्धि - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, July 23, 2021

गुरु पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु को ऐसे चढ़ाएं तुलसी की पत्ती, कारोबार में होगी वृद्धि



आज आषाढ़ शुक्ल पक्ष की उदया तिथि चतुर्दशी और दिन शुक्रवार है। चतुर्दशी तिथि आज सुबह 10 बजकर 43 मिनट तक रहेगी। उसके बाद पूर्णिमा तिथि शुरू हो जाएग। जब पूर्णिमा दो दिनों की होती है, तो पहले दिन का व्रत किया जाता है और दूसरे दिन स्नान-दान करके पुण्य प्राप्त किया जाता है। साथ ही आज चंद्रोदय का समय है शाम 7 बजकर 10 मिनट तक है।

पूर्णिमा तिथि पर सूर्योदय के समय स्नान-दान का भी महत्त्व बताया गया है और पूर्णिमा तिथि का सूर्योदय कल होगा, इसलिए स्नान-दान की पूर्णिमा कल मनायी जाएगी | कहते हैं कि पूर्णिमा के दिन श्रीहरि विष्णु जी स्वयं गंगाजल में निवास करते हैं। आचार्य इंदु प्रकाश से जानिए पूर्णिमा के दिन कौन से उपाय करना होगा शुभ।
अगर आप अपने दाम्पत्य संबंधों की मजबूती को बरकरार रखना चाहते है, तो आज आप अपने जीवनसाथी के साथ किसी साफ पानी के स्त्रोत, किसी नदी, तालाब या पोखर के पास जाएं और वहां जाकर, उस स्त्रोत के जल को दोनों हाथों में लेकर, वरूण देव का ध्यान करते हुए और अपने रिश्ते की मजबूती के लिये भगवान से प्रार्थना करते हुए, जल को धीरे-धीरे करके वापस उसी पानी के स्त्रोत में डाल दें । लेकिन अगर आपका जीवनसाथी किसी काम में व्यस्त है या आपसे कहीं दूर है, तो आप स्वयं ही साफ पानी के किसी स्त्रोत के पास जाकर अपने और अपने जीवनसाथी के निमित्त यह उपाय कर लें।


अगर आप अपने कारोबार में वृद्धि सुनिश्चित करना चाहते हैं तो आज सुबह स्नान आदि के बाद 11 तुलसी के पत्ते लीजिये। अब उन तुलसी के पत्तों को अच्छे से धोकर, साफ कपड़े से पोंछ लीजिये। इसके बाद एक कटोरी में थोड़ी-सी हल्दी लेकर पानी की सहायता से उसका घोल बना लीजिये। अब उन तुलसी के पत्तों पर हल्दी से ‘श्री’ लिखकर भगवान को अर्पित कीजिये। साथ ही भगवान से अपने कारोबार में वृद्धि के लिये प्रार्थना कीजिये।
अगर आप अपने परिवार की धन-सम्पदा में बढ़ोतरी करना चाहते है, तो आज स्नान आदि के बाद भगवान विष्णु की विधि-पूर्वक धूप-दीप आदि से पूजा करें, पूजा के दौरान विष्णु जी के मंत्र | मंत्र है-‘ऊँ नारायणाय विद्महे | वासुदेवाय धीमहि | तन्नो विष्णु प्रचोदयात् |का जप करें और शाम के समय चंद्रदेव को अर्घ्य दें |
अगर आपका कोई ऐसा काम है, जिसे आप जल्द से जल्द पूरा करना चाहते हैं तो उसे पूरा करने के लिये आज आपको स्नान आदि के बाद साफ कपड़े पहनकर लक्ष्मी-नारायण के मंदिर में जाना चाहिए और भगवान को कटे हुए गोले के टुकड़े और मिश्री का प्रसाद अर्पित करना चाहिए। साथ ही अपने काम के जल्द से जल्द पूरा होने की प्रार्थना करनी चाहिए।


अगर बिजनेस को लेकर आपका पार्टनर आपकी कोई बात नहीं मान रहा है, सिर्फ अपने डिसीजन आप पर थोप रहा है तो ऐसी सिचुऐशन को ठीक करने के लिये आज आपको नारायण के मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है-
‘ऊँ नमो भगवते नारायणाय।‘
अगर आप अपने घर की सुख-समृद्धि बनाये रखना चाहते हैं तो आज आपको स्नान आदि के बाद थोड़ी-सी रोली लेनी चाहिए और उसमें दो-चार बूंद घी डालना चाहिए। अब घी और रोली को अच्छे से मिला लीजिये। इसके बाद इस रोली से अपने घर के मन्दिर के बायीं और दायीं दोनों तरफ स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं।
  •  

No comments:

Post a Comment