बिना सर्जरी डॉक्टरों ने बच्चे के गले से निकाला सेल और बचा ली जान.... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, July 17, 2021

बिना सर्जरी डॉक्टरों ने बच्चे के गले से निकाला सेल और बचा ली जान....



महाराष्ट्र के बुलढाणा में एक डॉक्टर ने ऐसा कारनामा किया है, जिसकी तारीफ पूरा शहर कर रहा है. एक बच्चे ने सेल निगल थी, जिसके बाद उसकी तबीयत खराब होने लगी. जब स्थानीय स्तर पर लोग इलाज के लिए गए तो वहां के डॉक्टरों ने कहा कि अकोला के सिटी हॉस्पिटल में बच्चे को दिखाएं. बच्चे को सांस लेने में तकलीफ भी बढ़ने लगी थी. साढे तीन साल के इस बच्चे की मुश्किलें बढ़ता देखकर बच्चे के अभिभावकों ने उसे प्रकाश चिल्ड्रन हॉस्पिटल में एडमिट कराया. डॉक्टर सचिन सांगले ने बच्चे की एक्सरे रिपोर्ट निकाली, जिसमें फैरिनगयटीस (अन्न नलिका) में सेल नजर आई.

डॉक्टर ने सलाह दी कि बच्चे को अकोला ले जाकर एंडोस्कोपी कराएं लेकिन अभिभावकों ने डॉक्टर पर दबाव बनाया कि वही कुछ करें. डॉक्टर ने नया तरीका इस्तेमाल किया, जो इससे पहले किसी ने इस्तेमाल नहीं किया था. ऐसे निकाली बच्चे के गले से सेल! डॉक्टर ने फोलिज कैथेटर के एक छोर को बच्चे के मुंह से अंदर डाला, कुछ अंदर तक कैथेटर धकेलने के बाद दूसरे छोर से सलाईन लगा दिया. कैथेटर के सामने के हिस्से में छोटा सा गुब्बारा बन गया. गुब्बारा बनने के बाद धीरे-धीरे उसे बाहर निकाला गया.

जब कैथेटर पूरा बाहर आया तो बच्चे के माता-पिता के साथ डॉक्टर भी हैरान रह गए. गुब्बारे के साथ सेल भी बाहर आ गया. सेल के एक तरफ लाल रंग निकल आया था, जिसके बारे में डॉक्टर ने कहा कि सेल में लिथियम होता है. गले के अंदर उसका विघटन शुरू हो गया था. अगर कुछ देर वह अंदर रहता तो मासूम के लिए जानलेवा बन जाता. लोग पूछ रहे- कैसे किया? यह ऐसे मामलों का डील करने का यह तरीका अनोखा है. बच्चे के गले से सेल भी निकाल लिया, बिना एनेस्थेसिया दिए हुए, जो हैरान करता है. पूरे जिले में ही इस ऑपरेशन की चर्चा हो रही है. लोग डॉक्टर से पूछ रहे हैं कि यह कैसे संभव हुआ.


No comments:

Post a Comment