जेल के कैदियों को काली-सफेद धारी वाली ड्रेस क्यों पहनाते थे? कैसे हुई इसकी शुरुआत? - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, July 11, 2021

जेल के कैदियों को काली-सफेद धारी वाली ड्रेस क्यों पहनाते थे? कैसे हुई इसकी शुरुआत?



नई दिल्ली। आपने कई ऐसी फिल्में देखी होगी, जिसमें जेल (Jail) का सीन होगा. जेल में मौजूद लोग अक्सर सफेद और काली धारी वाली यूनिफॉर्म (uniform) में दिखते हैं. सभी ड्रेस एक जैसी होती है, जैसे वे किसी सेना (Army) या स्कूल (School) में भर्ती हों. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर जेल (Jail) में कैदियों को एक किस्म की यूनिफॉर्म क्यों दी जाती है. आज के नॉलेज पैकेज में हम आपको इसके बारे में बताएंगे…

इतिहास से जुड़ी है कहानी
जेल में कैदियों को यूनिफॉर्म देनी की कहानी इतिहास से जुड़ी है. बताया गया कि 18वीं सदीं में अमेरिका में ऑबर्न प्रिज़न सिस्टम आया. माना जाता है कि यहीं से आधुनिक किस्म की जेल की शुरुआत हुई. यहीं, ग्रे-ब्लैक कलर की धारीदार पोशाक भी दी गई.

क्यों दी जाती है ड्रेस?
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सबसे बड़ी वजह है कि ड्रेस तय होने से अगर कोई कैदी भागेगा, तो लोग उसे पहचान लेंगे और पुलिस को बता देंगे. इसके अलावा उनके अंदर अनुशासन की भावना भरने के लिए भी ड्रेस दी जाती है. ये भी बात है कि ग्रे-ब्लैक स्ट्रिप्स को एक ‘सिंबल ऑफ शेम’ रूप में प्रस्तुत किया गया. लेकिन जब कैदियों के मानवाधिकार की बात हुई, तो सिंबल ऑफ शेम वाली बात हटा दी गई. इसके बाद करीब 19वीं सदी में काली सफेद ड्रेस चलन में आई.



क्या सभी देशों में एक जैसी ड्रेस है?
ऐसा नहीं है कि पूरी दुनिया में भारत (India) की तरह कैदियों को सफेद और काली धारी वाली यूनिफॉर्म दी जाती है. अलग-अलग देशों में अलग-अलग किस्म की ड्रेसेज़ हैं. भारत की बात करें, तो बताया जाता है कि अंग्रेजों के समय कैदियों की मानवाधिकारी वाली बातें मानी गई. ऐसे में वहीं से ये ड्रेस चलन में आई. लेकिन सभी कैदियों को ड्रेस नहीं दी जाती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जो कैदी सजा याफ्ता होते हैं, उन्हें ड्रेस दी जाती है. इसके अलावा जिन्हें हिरासत में रखा जाता है, वे सामान्य कपड़ों में ही रहते हैं.

No comments:

Post a Comment