बैगा युवती से कोल युवक विवाह रचाने पर समाज ने किया बहिष्कृत पहाड़ी में झोपड़ी बनाकर 8 माह के बच्चे के साथ रहने पर मजबूर. जानिए क्यों... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, July 25, 2021

बैगा युवती से कोल युवक विवाह रचाने पर समाज ने किया बहिष्कृत पहाड़ी में झोपड़ी बनाकर 8 माह के बच्चे के साथ रहने पर मजबूर. जानिए क्यों...



रेवांचल टाइम्स... आदिवासी बाहुल्य डिंडोरी जिले के समनापुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत रामहेपुर ग्राम पंचायत निवासी कुलदीप कोल ने बैगा  युवती के साथ विवाह रचाने पर समाज से बहिष्कृत कर देने का मामला सामने आया है बैगा दंपति को मजबूरन 8 माह के बच्चे के साथ पहाड़ी में झोपड़ी बनाकर रहना पड़ रहा है पीड़ित दंपत्ति द्वारा इस मामले की शिकायत कलेक्टर एएसपी के साथ सहायक आयुक्त कार्यालय में भी पहुंचकर की गई है एसएसपी को दी गई है शिकायत में पीड़ित दंपत्ति ने आरोप लगाया कि दोनों ने अपनी मर्जी से 3 साल पहले कोर्ट मैरिज किया था दोनों की ही परिवार जनों के साथ समाज ने उन्हें अपनाने से मना कर दिया स्थिति यह है कि समाज और परिवार वाले किसी भी कार्यक्रम में उन्हें नहीं बुलाते दंपति के 8 माह का एक बच्चा भी है नहीं मिल रहा सरकारी योजना का लाभ कलेक्टर को दी गई शिकायत में बैगा महिला सिया बाई ने बताया कि वहां संरक्षित जनजाति में शामिल हैं कोर्ट मैरिज उसने कुलदीप निवासी रामहेपुर जनपद समनापुर के साथ किया था 3 वर्ष हो चुके हैं लेकिन अब तक ना तो शासन प्रशासन से कोई सहायता मिली है और ना ही समाज अपनाने को तैयार है पीड़िता ने बताया कि वहां कक्षा बारहवीं भी पास है इसके बाद भी उसे शासन की योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा ग्राम पंचायत के सचिव द्वारा उसे किसी भी योजना का लाभ नहीं दिया गया वह मजदूरी कर परिवार का पालन पोषण करने को मजबूर है महिला के पति के पास भी कोई भूमि नहीं है पीड़ित दंपत्ति ने शासकीय योजना का लाभ दिलाने की मांग की है रहने के लिए मकान तक नहीं पीड़ित दंपति समाज से बहिष्कृत होने के चलते गांव के किनारे पहाड़ी में झोपड़ी बनाकर लंबे समय से रह रहा है बहिष्कृत करने के मामले में यद्यपि समाज के जिम्मेदार कुछ भी कहने से बचते नजर आ रहे हैं पीड़ित दंपत्ति द्वारा प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाए जाने की मांग की है गौरतलब है कि आदिवासी बाहुल्य जिला डिंडोरी में इस तरह के मामले भी सामने आते हैं जागरूकता के अभाव में इन मामलों पर सामाजिक तौर पर भी दबाव पुलिस और प्रशासन नहीं बना पाता पीड़ित दंपत्ति द्वारा आवश्यक पहल करने की मांग की गई है जिससे उसे आवास या अन्य सुविधाएं मिल सके



रेवांचल टाइम्स से प्रमोद पड़वार की खास रिपोर्ट सच के साथ ✒️✒️

No comments:

Post a Comment