मण्डला- नैनपुर नगर में सेवा को धर्म मानकर एक दूसरे के सहयोग से ही जीती संक्रमण से जंग... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, May 29, 2021

मण्डला- नैनपुर नगर में सेवा को धर्म मानकर एक दूसरे के सहयोग से ही जीती संक्रमण से जंग...

 


रेवांचल टाइम्स :- नैनपुर नगर में बढ़ते कोरोना संक्रमण में जहां लगातार लापरवाही व जागरूकता के अभाव में लोगों की जान गई हैं। 

वहीं इस संक्रमण में जागरुकता को लेकर नगर के समाजसेवी, स्वास्थ्य कर्मचारी, नगर पालिका सफाई कर्मचारी, एवं नगर के दानदाताओं की भूमिका काफी अहम रही, क्योंकि इन सभी ने अपने अपने क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हुए कोरोना जैसी वैश्विक महामारी पर लगभग जीत हासिल की है। और उनका संबोधन व संदेश कई लोगों पर प्रभाव डालने वाला रहा है।

इन सभी की कार्य करने की क्षमता जागरूकता व संदेश से लोग इस बीमारी को लेकर जहां गंभीर हो रहे थे। वहीं, लोगों ने  जागरूक होकर बचाव से संबंधित उपाय भी किये हैं। तबीयत खराब होने पर जांच के साथ चिकित्सक की भी सलाह लगातार लोगों ने ली। 

इस कोरोना महामारी में जनता को विषम परिस्थिति में देखने के बावजूद भी कोई नदारद नजर आया तो वह केवल नगर के जनप्रतिनिधि ही थे। इस विषम परिस्थिति में जनप्रतिनिधियों का किसी भी प्रकार का सहयोग नगर की जनता को नहीं मिला। लगातार नगर की जनता आश लगाए अपने जनप्रतिनिधियों को ढूंडती रही।


कोरोना संक्रमण पिछले साल की तुलना में इस बार कुछ ज्यादा ही घातक रहा। महामारी ने जो संकट खड़ा किया था, उसका सामना करना और इस क्रम में जीवन रक्षा के उपयोगों को पहल देना मौजूदा समय की मांग थी। नगर में समाजसेवियों ने, स्वास्थ्य कर्मचारियों ने, एवं नगर पालिका सफाई कर्मचारियों ने अपने स्तर से लगातार लोगों की सेवा को अपना धर्म मानते हुए लोगों की मदद की। उन्होंने कहा कि जहां भी उनके क्षेत्र के लोगों को मदद की जरूरत होगी वह उनके लिए अग्रसर रूप से हमेशा खड़े रहेंगे।


सभी ने अपनी क्षमता के अनुसार इस संक्रमण से लड़ाई लड़ने में नगर का बखूबी साथ निभाया।

नगर में जब संक्रमण तेज गति से फैल रहा था। तब हमारे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की हालत भी बीमार और संक्रमित मरीजों की तरह हो गई थी। संसाधनों की कमी के चलते लोग अपनी जाने तक गवा बैठे। 

जिसे देखते हुए नगर के कुछ समाजसेवी जैसे ओम चौरसिया, दीपक शर्मा, एवं उनकी सहयोगी टीम ने नगर की स्वास्थ्य व्यवस्था को सुचारू रूप से संक्रमण से लड़ने योग्य बनाया। तथा दानदाताओं की मदद से नगर में ऑक्सीजन की कमी, फ्लोमीटर की कमी, एंबुलेंस की कमी, मरीज के परिजनों को भोजन की व्यवस्था, इत्यादि कार्यों की पूर्ति की। जिससे संक्रमित मरीजों को इस महामारी से लड़ने में योगदान मिला।


वहीं दूसरी तरफ नगर के कुछ  लोगों ने आपदा को अवसर में बदलने का कोई मौका नहीं छोड़ा नगर के कुछ व्यापारियों ने पान, मसाला, गुटखा, को दोगुने दामों में बेचकर अधिक मुनाफा कमाया, 


कुछ किराना व्यापारियों ने दोगुने दामों में घरेलू दिनचर्या में उपयोग आने वाली वस्तुओं को बेचकर अपनी तिजोरी भर ली।


नगर के शराब ठेकेदार ने नगर के लगभग प्रत्येक वार्ड में फुटकर दुकानों के माध्यम से भारी मात्रा में शराब की बिक्री की और नगर का माहौल खराब किया। 


कुछ लोगों ने मनमाने दामों में नैनपुर नगर में इलाज ना मिलने पर दूसरे शहर जाकर इलाज कराने वाले लोगों से मनमानी गाड़ियों का भाड़ा वसूला।


दूसरी तरफ आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगों की सहायता के लिए नगर के समाजसेवी युवा निकल कर सामने आए और नगर के दानदाताओं की मदद से आर्थिक तंगी से जूझ रहे जरूरतमंद लोगों को राहत सामग्री पहुंचाने उनके घरों तक पहुंचे। 


कुछ युवाओं जैसे रूपेंद्र राठौर एवं उनकी टीम ने नगर के गरीब मजदूर एवं निम्न वर्ग के लोगों के परिवारों तक गर्म भोजन के पैकेट पहुंचाएं यह सिलसिला लगभग 20 से 25 दिन चला। जिससे जरूरतमंद परिवारों को रोजाना भरपेट खाना मिलता रहा।


वहीं कुछ समाजसेवी युवा जैसे नितिन ठाकुर, कमल दुबे, दिनेश श्रीवास्तव, राजेश हंसाणी, विशाल मर्सकोले, विशाल अवधवाल, शुभम चौरसिया, महेश तिवारी, कमलेश विश्वकर्मा, नितेश बिरहा, एवं शालू अली द्वारा लगातार गरीब जरूरतमंद लोगों को राहत सामग्री के पार्सल ( चावल, दाल, खाने का तेल, मसाले, आंटा, दूध, ब्रेड, बिस्किट, एवं तोश के पैकेट) प्रतिदिन लोगों तक पहुंचाते रहे। जिसके लिए गरीब जरूरतमंद लोगों ने इनका धन्यवाद दिया और इनके कार्य की सराहना की।


बात की जाए बड़े दिलवालों की तो नगर के दानदाताओं ने भी इस संकट के समय मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी, नगर के कुछ दानदाता जैसे, जुगल खंडेलवाल, एकता जयसवाल, निलिमा झारिया, डी.के.सिंघ, योगेश विश्वकर्मा, कमलेश चौहान, शाहिद खान, नसीम खान,नितिन ठाकुर, एवं और भी कुछ ऐसे नगर के दानदाता है जिन्होंने स्वास्थ्य व्यवस्था की लचर हालत देखते हुए ऑक्सीजन सिलेंडर एवं फ्लोमीटर एवं अन्य संसाधनों के लिए भारी मात्रा में आर्थिक रूप से सहयोग दिया है।


वही इस संक्रमण को हराने में सबसे बड़ा सहयोग स्वास्थ्य कर्मचारी और नगर पालिका सफाई कर्मचारियों का रहा है। जिन्होंने लगातार अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों को संक्रमण से मुक्त करने के लिए रात दिन एक करते हुए लोगों का सहयोग किया, एवं नगर की जनता को संक्रमण से बचाने के लिए ढाल बनकर सामने खड़े रहे।


तो इसी तरह सभी के सहयोग से नैनपुर नगर लगभग कोरोना मुक्त हो पाया है और लोगों ने संक्रमण को हराकर इस महामारी की जंग पर जीत हासिल की है। 

नैनपुर नगर के इतिहास में इन सभी की मेहनत का बखान हमेशा किया जाएगा एवं उन्हें भी याद किया जाएगा जिन्होंने इस आपदा को अवसर में बदलने का कोई मौका नहीं छोड़ा।


इन सब में जनता के वह भरोसेमंद जनप्रतिनिधि जिन्हें जनता ने अपना बहुमूल्य मत देकर नगर सरकार कहलाने का दर्जा दिया वह विषम परिस्थिति में जनता के बीच से नदारद नजर आए।


अब संकट के बादल छठने लगे हैं और आशा की एक नई किरण निकल कर सामने आ रही है। कुछ ही दिनों में नैनपुर नगर अनलॉक हो जाएगा, सभी व्यापार, रोजगार, नगर का बाजार, सरकारी दफ्तर, एवं प्राइवेट रोजगार, सभी ओपन हो जाएंगे एक बार फिर सड़कों पर लोगों की भीड़ नजर आएगी। 


रेवांचल टाइम्स न्यूज़ आप सभी से निवेदन करता है की,

इस जंग को जीतने में जिस तरह सभी ने मिलकर सहयोग दिया है। उसी तरह अनलॉक होने के बाद भी सभी कोरोना गाइडलाइन का विशेष ध्यान रखें एवं संक्रमण को पुनः लौटने का न्योता ना दें। बेमतलब घरों से बाहर निकलकर बाजारों में,चौक में, भीड़ एकत्रित ना करें।

        जरूरत होने पर ही घर से बाहर निकले मास्क एवं सैनिटाइजर का लगातार उपयोग करें,

और वैक्सीन अवश्य लें क्योंकि वैक्सीन संक्रमण से लड़ने में सहायक है , और यह भारत सरकार द्वारा प्रमाणित है, और इसका किसी भी प्रकार से कोई साइड इफेक्ट नहीं है, यह पूरी तरह सुरक्षित है।

            शहर वासियों को अगर कोरोना संक्रमण की तिसरी लहर से बचना है, तो उनके लिए पहले से भी ज्यादा एहतियात बरतने के अलावा कोई चारा नहीं है। कोरोना की तिसरी लहर दूसरी लहर से घातक कभी नहीं होगी और कभी भी हमारा नगर संक्रमण से प्रभावित नहीं होगा, अगर सभी लोग मास्क लगाने और शारीरिक दूरी का पालन करने में पर्याप्त सतर्कता बरतें तो। 

         अभी भी समय है। अगर हर नागरिक यह ठान ले कि वह मास्क लगाने के साथ-साथ शारीरिक दूरी का भी ख्याल रखेगा और बेवजह घर से बाहर नहीं निकलेगा, तो निश्चित ही संक्रमण नगर में कभी भी पांव पसार नहीं पाएगा। 


✒️ नैनपुर रेवांचल टाइम्स से शालू अली की रिपोर्ट ✒️

No comments:

Post a Comment