सिवनी जिला कलेक्टर की समस्त जिले वासियों से अपील....... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, April 19, 2021

सिवनी जिला कलेक्टर की समस्त जिले वासियों से अपील.......




रेवांचल टाइम्स - कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर करायें तुरंत जांच कराने की अपील कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग ने कोरोना संक्रमण को देखते हुये जिलेवासियों से अपील की है कि वे सर्दी, खांसी, बुखार और सांस लेने में दिक्कत आदि लक्षण होने पर तुरंत फीवर क्लीनिक पहुँचकर चिकित्सक को दिखायें। आवश्यक होने पर कोरोना की जॉच करवायें। नागरिकों से यह आग्रह किया गया है कि वे मास्क पहने, सैनिटाइजर का उपयोग करें, सोशल डिस्टेंसिंग अपनायें। आमजन को अत्यधिक सतर्कता और सजगता के साथ सामाजिक दूरी, मॉस्क तथा सैनिटाइजर का प्रयोग करते हुए अपने आप का बचाव करना है, जब तक जरूरी न हो घर से बाहर न निकलें।

    कलेक्टर डॉ फटिंग ने जिलेवासियों से अपील की है कि कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर बिना किसी भय के तुरंत फीवर क्लीनिक में चिकित्सक से अपना परीक्षण अवश्य करवाएं। प्रारंभिक लक्षण दिखते ही बुजुर्ग एवं उच्च जोखिम वाले व्यक्ति तुरंत चिन्हित फीवर क्लीनिक में अपना इलाज करायें, यह त्वरित निर्णय उनकी जान के जोखिम को कम करता है और कई बार यह जीवनदायक होता है।

    कलेक्टर ने कहा कि कोविड संक्रमण के प्रारंभिक लक्षण जैसे सर्दी-खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ होने पर फीवर क्लीनिक में अपनी जांच तुरंत करवाएं, स्वयं इलाज न करें, ऐसी स्थिति में कई बार जान का जोखिम होता है। प्रायः यह देखा जाता है कि लक्षण दिखाई देने पर स्वयं इलाज करने की प्रवृत्ति घातक है। ऐसे लोग जो सर्दी-खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, मधुमेह, उच्च रक्तचाप गंभीर श्वसन तंत्र की बीमारी, गर्भवती महिलाएं, अस्थमा, हृदयरोगी, टी.बी., कैंसर, किडनी से संबंधित बीमारी होने पर उच्च जोखिम की संभावना अत्यधिक होती है।


अखिल बन्देवार के साथ रेवांचल टाइम्स की एक रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment