झोलाछाप डॉक्टर कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन कर लोगों का कर रहे उपचार - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Friday, April 23, 2021

झोलाछाप डॉक्टर कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन कर लोगों का कर रहे उपचार

 



झोलाछाप डॉक्टर कोरोना गाइड लाइन का उल्लंघन करते हुए लोगों का कर रहे ईलाज जिम्मेदार अधिकारियों की मिलीभगत से पनप रहे झोलाछाप...?


क्या प्रशासन ने ले देकर मामला सुलटा दिया या कुछ परजीवी टाइप के नेताओं को भीख देकर ये डॉक्टरी कर फल फूल रहा है?


रेवांचल टाइम्स:– निवास विकासखंड मुख्यालय सहित ग्रामीण अंचलों में झोलाछाप डॉक्टर बिना पंजीयन के क्लीनिक चल रहे हैं। इन दिनों मौसम से संबंधित सहित अन्य बीमारियों से बड़ी संख्या मे लोग पीड़ित हो रहे हैं। कोरोना संक्रमण के कारण कुछ लोग इन दिन अस्पताल जाने से बच रहे हैं। ऐसे में कई लोग बिना डिग्री वाले इन झोलाछाप डॉक्टरों से ही इलाज करा रहे है। जिले से बाहर कई स्थानों पर कोरोना के मरीजों के मामले में यह स्थिति सामने भी आई है, जब संक्रमित मरीज ने सरकारी अस्पताल में दिखाने से पहले निजी क्लीनिक या झोलाछाप डॉक्टरों से उपचार कराया। ऐसे में मरीजों की जान पर भी बन आती है। सरकारी अस्पताल में डॉक्टर, स्टाफ व संसाधनों की कमी है। वहीं दूसरी ओर वर्तमान में सिर्फ कोरोना से पीड़ितों पर ध्यान दिया जा रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी अन्य समस्या होने पर लोगों को निजी क्लीनिक या झोलाछापों का ही सहारा लेने पहुंच रहे हैं। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों मे झोलाछाप डॉक्टरों का काम तेजी से और बेरोक टोक चल रहा है। नगर निवास व ग्रामीण क्षेत्रों में इन निजी क्लीनिकों के द्वारा लोगों से उपचार के नाम पर मोटी रकम वसूली जा रही है। पूर्व में भी झोलाछाप डॉक्टरों के इलाज से लोगों की सेहत बिगड़ने के मामले सामने आ चुके हैं।

कल जब निवास के कुछ समाजसेवी निवास बी.एम.ओ डॉ. विजय पैगवार से मिले तब उनका कहना था कि लोग अस्पताल तक नहीं पहुंच पा रहे हैं जबकि निवास अस्पताल में कोविड के रोकथाम की पर्याप्त दवाएं उपलब्ध हैं.

झोलाछाप डॉक्टर को अभयदान किसने दिया..

                                         

*ये है कथित डॉक्टर पी के मजूमदार जो अवैध तरीके से निवास की जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर मोटी रकम कमा रहा है। अभी फर्स्ट लॉक डाउन के समय ही इसकी क्लिनिक को निवास तहसीलदार एवं निवास बी एम ओ डॉ.विजय पैगवार ने शील किया था, पर कुछ ही समय बाद ये झोलाछाप  कथित डॉ फिर अपनी दुकान संचालित करने लगा है। आप देख सकते हैं इतने भयानक कोरोना संक्रमण के समय भी ये प्रशासन की गाइड लाइन को धता बताते हुये खड़े खड़े मरीजो को सलाह दे रहा है। बड़ा सवाल? क्या प्रशासन ने ले देकर मामला सुलटा दिया या कुछ परजीवी टाइप के नेताओं को भीख देकर ये डॉक्टरी कर फल फूल रहा है?


झोलाछाप डॉक्टर के क्लीनिक के पट फिर खुले...

क्या स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई का जरा भी असर नहीं,,,,क्लीनिक पूर्व की तरह ही संचालित फिर,, आखिर क्यों,, बकायदा मरीजों का पहले की तरह ही इलाज किया जा रहा है,,, अब तो ऐसा प्रतीत होने लगा है कि झोलाछाप डॉक्टर प्रशासन से ऊपर हैं।

लापरवाही के परिणाम हो सकते हैं गंभीर

 वही लोगों का कहना है कि इन चिकित्सकों की लापरवाही विकराल रूप धारण कर सकती हैं। नगर के सामाजिक कार्यकर्ता एवं गणमान्य नागरिकों ने जिला प्रशासन व स्थानीय प्रशासन का इस ओर ध्यान आकर्षित करते हुए मांग की है कि नगर में चारों तरफ फैले हुए झोलाछाप डॉक्टरों की सघन जांच की जाए। यदि डिप्लोमा एवं डिग्री फर्जी हो तो उनके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाए। नहीं तो इसका परिणाम बहुत ही घातक हो सकता हैं। एक हाल में मरीजों का इलाज किया जा रहा , एवं वहीं किसी भी प्रकार के लेखा-जोखा नहीं रखा जा रहा है और ना ही कोई भी मरीजों की इंट्री की जा रही ही है। कौन मरीज कहा से आया व कौन सी बीमारी थी, सर्दी, जुखाम, खाँसी वाले मरीज सरकारी हॉस्पिटल जाने से डरते है। कही कोरोना की जांच न हो जाए, ऐसे में झोला छाप ऐसे मरीजों से भारी पैसे ऐंठते हैं। प्रशासन को इस ओर ध्यान देना आवश्यक हैं।

नगर व आसपास के इन क्लीनिकों में काेराेना गाइड लाइन का पालन भी नहीं हाे रहा है। नगर क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरों की भरमार हो गई हैं, न कोई डिग्री न डिप्लोमा बस कही भी किसी डॉक्टर के पास एक दो महीने बैठकर कुछ सीखा और इलाज में लग गए। इन चिकित्सकों को अपनी जान की परवाह भी नहीं है तो यह दूसरों का उपचार कैसे करेंगे। क्योंकि क्लीनिकों पर कोरोना के गाइड लाइन का पालन भी नहीं किया जा रहा हैं। भारी भीड़ जुटाई जा रही हैं जिससे नगर निवास में कोरोना बढ़ने से इंकार नही किया जा सकता।


रेवांचल टाइम्स निवास से देवेन्द्र चौधरी की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment