ग्राम पंचायत सचिव और ठेकेदार ने विधवा महिलाओं से की विश्वासघात महिला भटक यहां वहा... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Friday, April 9, 2021

ग्राम पंचायत सचिव और ठेकेदार ने विधवा महिलाओं से की विश्वासघात महिला भटक यहां वहा...


रेवांचल टाइम्स- आदिवासी बाहुल्य जिला डिंडोरी में भृष्ट भ्रष्टाचार करने और उनको संरक्षण देने वालो की कमी नही आये दिन सरपंच सचिव और उनके ऊपर बैठे जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा ग़रीबो को मिलने वाली योजनाओं में डाका डाला जा रहा है 

       वही पंचायतों द्वारा पंचायत कर्मियों में हितग्राहियों को ठगने विश्वासघात करने एवं परेशान करने जैसा लत बन गई है। जिसके चलते आम गरीब हितग्राही पंचायत कर्मियों के चक्कर काटते परेशान नजर आते हैं। इसी तरह का मामला विकास खण्ड-मेंहदवानी के ग्राम पंचायत सारसडोली की सामने आई है। रुक्मिणी साहू जो कि आंगनबाड़ी सहायिका के पद पर कार्यरत है यह विधवा महिला है इनका कहना है कि सन् 2018 में मुझे ग्राम पंचायत सचिव अनूप मरावी द्वारा शौचालय निर्माण करने के लिए कहा गया कि तुम अपनी पास की राशि से शौचालय बनवाओ तुम्हारे खाते में राशि जमा करवा दुंगा। मैं अपने गहनें बेचकर मटेरियल खरीदकर शौचालय का निर्माण करवाई ठेकेदार द्वारा सिर्फ दरवाजा,सीट, पाइप लगवाया गया। शौचालय बनने उपरांत मैं सचिव के चक्कर काटते-काटते परेशान हो चुकी हूं। हो सकता है सचिव मेरे शौचालय की राशि निकलवा लिया हो और मेरे से विश्वासघात कर रहा हो। शासन से मेरी बिनती है कि सचिव से मुझ गरीब की राशि करीब 7 हजार खर्च हुए हैं दिलवाई जाए। 

वहीं ममता साहू आंगनबाड़ी सहायिका जो कि विधवा महिला है 4 लड़की एवं 1 लड़का है इनका कहना है कि मैं बहुत परेशान हूं बरसात में मेरे घर में करीब 1 फिट पानी भर जाने से हमारी रहन-सहन गंभीर स्थिति में पहुंच जाती है। मैं सचिव से आवास बनवाने के लिए कई बार प्रार्थना की इसके बाद 181 में भी मेरा पुत्र शिकायत किया जिसमें सचिव द्वारा आवास बनवाने की आश्वासन दिया एवं 181 की शिकायत बंद करवा दिया एवं आज दिनांक तक आवास बनवाने का नाम नहीं लिया। इसी तरह मैं अपनी बड़ी बेटी की शादी की जिक्र सचिव महोदय से की तो सचिव ने शासन के नियमानुसार श्रमिक कार्ड के हिसाब से डाक्यूमेंट्स जमा करवा लिया कि शासन से सहयोग दिलवाऊंगा परन्तु आज दिनांक तक सहयोग नहीं दिलवाया मेरे से विश्वासघात किया। वहीं शौचालय की बात करें तो ममता साहू आंगनबाड़ी सहायिका के यहां सन् 2018 में सचिव एवं ठेकेदार द्वारा शौचालय का निर्माण करवाया गया जो कि आज भी वह शौचालय अधूरा पड़ा है उसमें घटिया सामग्री का प्रयोग किया गया ऊपर की छत भी नहीं की गई और न ही दरवाजा लगाया गया जिससे नाम मात्र का उपयोग होता है। परेशान विधवा महिला ममता साहू का कहना है कि जल्द से जल्द मुझे आवास दिलवाई जाए एवं अधूरा शौचालय को पूर्ण करवाई जाए ताकि मेरी परेशानी हल हो सके।

रेवांचल टाइम्स मेंहदवानी से शिवरतन कछवाहा की रिपोर्ट।

No comments:

Post a Comment