सरपंच सचिब कर रहे हैं मनमानी....मनरेगा के नाम पर मची शासकीय पैसे की लुट..... पंचायत का भ्रष्टाचार चरम सीमा पर - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, March 27, 2021

सरपंच सचिब कर रहे हैं मनमानी....मनरेगा के नाम पर मची शासकीय पैसे की लुट..... पंचायत का भ्रष्टाचार चरम सीमा पर



रेवांचल टाईम्स :- आदिवासी बाहुल्य जिला मंडला में जिला प्रशासन है मंत्र मुक्त शिकायतें के बाद भी नही हो रही कार्यवाही...

पूरा मामला जिला मंडला के जनपद पंचायत नारायणगंज में मनरेगा के नाम पर अधिकारी ठेकेदार और सरपंच सचिव की मिलीभगत के चलते लूट मचा कर रखी गई है।जनपद पंचायत के अंडर में आने वाली ग्राम पंचायतों में मनरेगा का कार्य ठेकेदारी प्रथा से जोरों शोरों से करवाया जा रहा है। मनरेगा के कामों में मशीन का भरपूर मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है। गरीब जनता और ग्रामीणों का हक मारने में अधिकारी पीछे नहीं हट रहे हैं। जनपद पंचायत के अधिकारी और कर्मचारियों ठेकेदारों को भरपूर सहयोग प्रदान करते हैं। जिससे ठेकेदार खुलेआम पंचायतों में मनरेगा का कार्य अपने हिसाब से चलाते हैं और मशीनों द्वारा उस कार्य को पूर्ण करवाते हैं इसमें ना ही सरपंच सचिव आपत्ति लेते हैं और ना ही कोई जनप्रतिनिधि।

मंडला जिला आदिवासी बाहुल्य जिला है और यहां भरपूर मात्रा में बैगा आदिवासी ग्रामीण में निवासरत हैं और इनके विकास के लिए राज्य शासन हो या केन्द्र शासन हो इनके उत्थान के लिए अनेक योजनाएं संचालित कर रखी पर जिम्मदार जनप्रतिनिधि और जबाबदार लोगों ने अपने निजी स्वार्थ के चलते इनका शोषण करने पीछे नही जिस कारण आज तक विकास नही हो पाया पर इनसे जुड़े लोगों का विकास जरूर हुआ है और इन्हीं में से पंचायतों में सरपंच चुने जाते हैं इन भोले-भाले सरपंचों को जनपद पंचायत के अधिकारी पूरी पूरी जानकारी प्रदान नहीं करते वह अपने हिसाब से इन सरपंचों से काम करवाते हैं और इन सरपंचों का भरपूर फायदा उठाते हैं चाहे वह मनरेगा का कार्य हो चाहे पुल पुलिया का काम हो चाहे तलाब का काम हो इन भोले भाले सरपंचों को अधिकारियों द्वारा पूरी जानकारी नहीं दी जाती।

No comments:

Post a Comment