आगामी परिणाम को लेकर हाई स्कूल का हुआ आकस्मिक निरीक्षण - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, March 7, 2021

आगामी परिणाम को लेकर हाई स्कूल का हुआ आकस्मिक निरीक्षण





रेवांचल टाईम्स :- मंडला माध्यमिक शिक्षा मंडल हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी परीक्षा वर्ष 2020 में मंडला जिला का परीक्षा परिणाम बहुत ही निराशाजनक था इस बात को गंभीरता से लेते हुए कलेक्टर मंडला श्रीमति हर्षिका सिंह ने मंडला जिला के तमाम अधिकारियों को विद्यालयों के निरीक्षण  का दायित्व सौंपा है। कलेक्टर मंडला द्वारा मंडला जिला के 213 हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी स्कूलों का परीक्षा परिणाम लक्ष्य अनुरूप लाने के लिए प्राचार्य एवं विकास खंड शिक्षा अधिकारियों सहित शिक्षा विभाग तथा जनजाति कार्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को आवश्यक निर्देश भी दिए हैं ।जिसके तहत विद्यालयों का निरीक्षण लगातार जारी है ।इसी तारतम्य विगत दिवस श्री माखन सिंह सिन्द्राम सहायक संचालक शिक्षा द्वारा शासकीय हाई स्कूल सेमरखापा का आकस्मिक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण कर्ता अधिकारी ने विद्यालय में कोविड-19 से बचाव हेतु किए गए उपायों का अवलोकन किया इसके बाद श्री सिन्द्राम प्रत्येक कक्षा में जाकर विद्यार्थियों एवं शिक्षकों से विचार विमर्श करते हुए विद्यार्थियों से प्रश्न भी पूछे तथा शिक्षकों को आवश्यक टिप्स भी दिए। प्राचार्य अखिलेश चंद्रोल द्वारा सहायक संचालक शिक्षा को विद्यालय द्वारा अपनाए जा रहे नवाचारों की जानकारी दी गई। प्राचार्य द्वारा बताया गया कि कक्षा अध्यापन में व्यवधान न आए इसके लिए विद्यार्थी स्वयं प्रतिदिन की रिपोर्ट प्राचार्य को देते हैं, कि अमुक कालखंड लगा अथवा नहीं। इसी प्रकार अर्धवार्षिक परीक्षा में सी, डी व ई ग्रेड प्राप्त विद्यार्थियों की व्यक्तिगत फाइल भी बनाई गई है तथा उन उन पर लगातार ध्यान दिया जा रहा है।  कक्षा कार्य, गृह कार्य और जांच परीक्षा की कॉपियों को प्राचार्य स्वयं देख रहे हैं। लगातार अनुपस्थित विद्यार्थियों के पालकों से प्रतिदिन फोन पर चर्चा की जाती है और जहां संभव होता है तो वहां पर शिक्षक स्वयं उनके घर जाकर उनके पालकों से मिलते हैं तथा बच्चों को नियमित स्कूल भेजने के लिए निवेदन करते हैं। इसके बाद भी कतिपय विद्यार्थी स्कूल नहीं पहुंच पा रहे हैं ।एक छात्रा ने जो कि ग्राम पैजवारा से अकेले आती है ने बताया कि रास्ते में आवारा लड़कों द्वारा छेड़छाड़ की हरकत किए जाने के कारण उसके पिता ने विद्यालय जाने से मना किया है अतः वह अब विद्यालय आने में असमर्थ है। इसी प्रकार एक छात्रा के पालक ने यह बताया कि उसकी पोती किसी अन्य गांव में ईट बनाने का काम करने गई है जिसके कारण वह विद्यालय नहीं आ रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसी तमाम मजबूरियां होती है जिनके कारण पालक चाहते हुए भी अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेज पा रहे हैं। इसके बाद भी प्रचार्य एवं उनके शिक्षक लगातार उन्हें लिखित सूचना एवं फोन पर चर्चा करके विद्यालय आने के लिए प्रेरित कर रहे हैं ।अपने निरीक्षण के दौरान श्री माखन सिंह सिन्द्राम ने शिक्षकों को विषय वार टिप्स दिए एवं परीक्षा की तैयारी कैसे कराई जाए इसके लिए मार्गदर्शन दिए तथा शिक्षक एवं विद्यार्थियों की शत प्रतिशत उपस्थिति पर जोर देते हुए लक्ष्य अनुरूप परीक्षा परिणाम लाने की बात कही। शिक्षक श्री कृष्ण कुमार हरदहा, श्रीमती अनुसूईया मार्को ,श्रीमती गीता चौकसे,प्रभात मिश्रा, डॉक्टर कमलेश हरदहा, एहतेशाम नूर और पवन नामदेव ने अपने-अपने विषयों के अध्यापन की प्रगति की जानकारी देते हुए उन्हें आश्वस्त किया कि लक्ष्य को पाने के लिए हम लोग लगातार प्रयासरत हैं। निरीक्षण के दौरान सहायक संचालक शिक्षा ने होनहार विद्यार्थी अमन बरमैया की तारीफ करते हुए सभी बच्चों से कहा कि सभी को हंड्रेड प्रतिशत अंक लाने हैं, सभी विद्यार्थियों ने अच्छी मेहनत कर आशा अनुरूप परीक्षा परिणाम लाने की बात कही।

No comments:

Post a Comment