मंडला जिले मे स्वामित्व योजना के तहत् ड्रोन कैमरे से होगा ग्रामीण आबादी क्षेत्रों का संपत्ति सर्वेक्षण - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, February 22, 2021

मंडला जिले मे स्वामित्व योजना के तहत् ड्रोन कैमरे से होगा ग्रामीण आबादी क्षेत्रों का संपत्ति सर्वेक्षण



रेवांचल टाईम्स:- शासन द्वारा प्रदेश के ग्रामीण आबादी क्षेत्रों में संपत्ति सर्वेक्षण अभियान प्रारंभ किया गया है। भारत सरकार की स्वामित्व योजना के अधीन संचालित इस सर्वेक्षण का उद्देश्य नक्शे के आधार पर संपत्ति के मालिकाना हक का शासकीय दस्तावेज तैयार करना है। ग्रामों का आबादी नक्शा तैयार करने का काम ड्रोन के माध्यम से किया जा रहा है। इस योजना के क्रियान्वित होने से जहाँ ग्रामीण संपत्ति का शासकीय रिकार्ड तैयार होगा वहीं ग्राम पंचायतों को ग्रामीण आबादी की संपत्तियों की स्पष्ट और सटीक जानकारी उपलब्ध होगी। ग्रामीणजन अपनी संपत्ति के मालिकाना हक का शासकीय दस्तावेज उपलब्ध होने से बैंक से ऋण प्राप्त कर सकेंगे। 

इस संबंध में कार्यालय कलेक्टर से प्राप्त जानकारी के अनुसार ड्रोन द्वारा आबादी सर्वे कर केवल उन संपत्ति धारकों का अधिकार अभिलेख तैयार किया जाएगा जो मध्यप्रदेश भू-राजस्व संहिता 1959 (यथा संशोधित 2018) के लागू होने की 25 सितम्बर 2018 को आबादी भूमि पर अधिभोगी थे। ड्रोन द्वारा आबादी सर्वेक्षण के लिए निश्चित दिनांक से एक दिन पहले सर्वेक्षण की जानकारी ग्रामवासियों को मुनादी के माध्यम से दी जाएगी। पटवारी द्वारा आबादी भूमि की बाहरी सीमा को चूना के माध्यम से मौके पर चिन्हित किया जाएगा। संपत्ति के साथ संलग्न खुला क्षेत्र की सीमाएं चूना से चिन्हित कराई जाएंगी। सीमाएं चिन्हित करते समय यदि कोई विवाद होता है तो ग्राम स्तरीय समिति के सहयोग से इसका निराकरण किया जाएगा। ड्रोन द्वारा निर्मित नक्शे का सत्यापन डोर-टू-डोर सर्वे के आधार पर संबंधित अधिकारियों द्वारा किया जाएगा। घर-घर जाकर किए गए सर्वे के समय जो लोग निवासरत् पाए जाते हैं उनके मामलों में 25 सितम्बर 2018 की स्थिति में संपत्ति का उपयोग में होने तथा उसके पश्चात की तिथि में विधिपूर्वक बसे होने की तसदीक की जाएगी। ग्रामवासियों की ओर से प्राप्त दावे आपत्तियों की जांच विहित रीति से सुनवाई करते हुए की जाएगी।



 आबादी सर्वेक्षण से ग्रामवासियों के लिए ग्रामीण संपत्तियों का अधिकार अभिलेख प्राप्त होगा, प्रत्येक संपत्ति धारक को उसकी संपत्ति का स्वामित्व प्रमाण पत्र मिलेगा। संपत्तियों पर बैक से ऋण लेना आसान होगा। संपत्तियों के पारिवारिक विभाजन, संपत्ति हस्तांतरण की प्रक्रिया सुगम होगी। पारिवारिक सम्पत्ति के विवाद कम होंगे। इसी प्रकार ग्राम पंचायतों को संपत्ति शुल्क के रूप में पंचायत को स्थानीय आय के साधन प्राप्त होगा। पंचायत स्तर पर ग्राम विकास की योजना बनाने में सुविधा होगी। शासकीय एवं सार्वजनिक सम्पत्ति की सुरक्षा एवं रख रखाव आसान होगा। संपत्ति संबंधित विवादों में कमी आएगी तथा संपत्ति के नामांतरण एवं बटवारा का प्रत्यक्ष अधिकार प्राप्त होगा।



    रेवांचल टाईम्स निवास से देवेन्द्र चौधरी की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment