आरटीओ चैक पोस्ट में कागजात जाँच के नाम पर चल रही खुली अबैध वसूली कार्यवाही के नाम मे वसूल रहे मनमाना रुपया - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, January 3, 2021

आरटीओ चैक पोस्ट में कागजात जाँच के नाम पर चल रही खुली अबैध वसूली कार्यवाही के नाम मे वसूल रहे मनमाना रुपया

 





रेवांचल टाईम्स - पुलिस के द्वारा अबैध वसूली का ये कोई पहला मामला सामने नही आया है इसके पहले भी चैक पोस्टों कागजातों की सत्यता की जांच के नाम पर अबैध वसूली की जानकारी निकल कर सामने आई है।

         घंसौर के नजदीक ग्राम बालपुर में लखनादौन घंसौर मंडला मार्ग स्टेट हाईवे क्रमांक 40 में अवैधानिक तरीके से बनाएं गए परिवहन चेकपोस्ट में वाहनों से धड़ल्ले से अवैध वसूली की जा रही है इस अबैध वसूली की शिकायत ट्रक चालक और संचालको के द्वारा परिवहन आयुक्त को शिकायते की पर आज तक कोई कार्यवाही न होने से ट्रक ड्राइवर और ट्रक मालिक अपने आप को लुटा हुआ महसूस कर रहे है वही ट्रक चालकों से रेवांचल की टीम ने बात की तो उन्होंने अपनी आप बीती बताई कि घँसोर मे जो अस्थाई चैक पोस्ट बनाया गया है उसमें कागज़ात पूर्ण होने के बाबजूद ट्रक चालकों से एक हजार से लेकर पांच हजार रुपये तक कि काग़ज़ातों की जांच को लेकर डिमांड की जाती है और फिर मोलभाव कर बेरियर में बने काउंटर में पैसे देने पड़ते है वहा से हमे एक पर्ची दी जाती है उस पर्ची को नाके में दिखाकर आगे जाने दिया जाता है गाड़ी के सभी कागजात पूर्ण होने के बाबजूद भी जबर्दस्ती पैसे लिए जा रहे है। 



         सिवनी जिले के अंतर्गत स्टेट हाईवे क्रमांक 40 लखनादौन घंसौर मंडला मार्ग पर एक नए चेक पोस्ट को प्रारंभ किया गया है इस चेक पोस्ट में वाहनों को कागजात की जांच की आड़ में जबरदस्त वसूली की जा रही है वाहन चालको और मालिकों को परेशान किया जा रहा है मनचाहे पैसों की मांग की जाती है न देने पर कागजात छुड़ाकर जमा कर लिया जाता है और घंटों वाहनों को खड़ा कर दिया जाता है वही सघन वन क्षेत्र एवं ग्राम के बाहर बने इस चैक पोस्ट जहां मोबाइल नेटवर्क भी आसानी से नहीं मिलता है ऐसे वीरान जंगल में चैक पोस्ट नियुक्त कर्मचारियों के द्वारा जोर-जबर्दस्ती करके लूटपाट का वातावरण निर्मित किया जा रहा है। 


        सबसे अहम सवाल यह है कि इस मार्ग पर इस चेक पोस्ट की आवश्यकता क्यों पड़ रही है जबकि जितने भी वाहन इस मार्ग से गुजर रहे हैं उनके कागजात की जांच तो चैक पोस्ट द्वारा पूर्व में स्थापित चेकपोस्टो में की जा चुकी होती है और जो कि मध्य प्रदेश की सीमा प्रारंभ होने से लेकर और राज्य के अंदर की राष्ट्रीय राजमार्गों में कागजातो की जांच की जाती है पर इस बालपुर चैक पोस्ट पर पदस्थ कर्मचारियों के द्वारा तो काग़ज़ातों की चेकिंग के नाम पर अवैध वसूली कर की जा रही है वही ट्रक संचालकों के कहना है कि हमारे अधिकांश वाहन दिल्ली हरियाणा से उत्तर प्रदेश की सीमा से मध्यप्रदेश होकर छत्तीसगढ़ स्थित रायपुर बिलासपुर दुर्ग भिलाई जाते हैं उन वाहनों के कागजातों की सर्वप्रथम मुरैना जिले में स्थापित चेक पोस्ट मैं जांच की जाती है उसके बाद विदिशा जिले में स्थापित जिला चेक पोस्ट मैं जांच की जाती है और उसके बाद सागर जिले के मालियों चेक पोस्ट में भी जांच की जाती है और उसके बाद मंडला जिले की सीमा में स्थित पंडुतला चेकपोस्ट मोतीनाला में भी कागजों की जांच की जाती है पर इन सभी चेक पोस्टों में एक ही मार्ग पर वाहनों के कागजातों की सत्यता की  जांच बार बार कर ली जाती है तो फिर   सिवनी जिले के बालपुर के आगे से न तो कोई अन्य राज्य सीमा है और न ही किसी दूसरे राज्य से लगा हुआ है तो इस नए चेकपोस्ट की आवश्यकता क्यों पड़ रही है जबकि राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 में जबलपुर सिवनी नागपुर मार्ग में पूर्व से ही ग्राम खवासा में एक चेक पोस्ट पूर्व से ही स्थापित है जहां उत्तर भारत से अधिकांश वाहन इस राष्ट्रीय राजमार्ग से होकर गुजरते हैं और वे मुरैना जिला के चेक पोस्ट से होकर खवासा चेक पोस्ट पर काग़ज़ातों को जांच करवा के आगे जाते हैं फिर सिवनी जिले में इस चेक पोस्ट की आवश्कता क्या ये समझ के परे है या कहे कि इस चैक पोस्ट के माध्यम से टोटल अबैध वसूली करने का जरिया है वही हम लोगो से हो रही इस अबैध तरीके इस वसूली का जिम्मेदार कौन है पर कोई सुनने वाला नही 

         वही जबकि मंडला से पांडुतला चेकपोस्ट 65 किलोमीटर की दूरी मैं है और सिवनी जिले के घंसौर में बालपुर से तो को राज्य की सीमा भी नही लगती है जो कि इस चेक पोस्ट को प्रारंभ किया गया है जबकि इस चैक पोस्ट से महज 50 किलोमीटर से मंडला जिला लगा हुआ है और जिले से 65 किलोमीटर की दूरी में चेक पोस्ट को बनाया गया है पर ये अस्थाई चैक पोस्ट जो बनाया गया है वो ट्रक संचालको और ट्रक मालिको के साथ बिल्कुल भी न्याय संगत नहीं है जबकि दिल्ली हरियाणा यूपी का पूरा ट्राफिक झांसी ललितपुर सागर नरसिंहपुर लखनादौन घंसौर मंडला होकर बिछिया चिल्पी के रास्ते छत्तीसगढ़ को जाता है एक ही मार्ग में 51 चैकपोस्ट यह कौन सा नियम है वही ना तो वहां कोई अंतर्राराज्यीय सीमा है और ना ही अन्य राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय मांगों का संगम है फिर इस चेक पोस्ट का औचित्य क्या है जबकि सिवनी जिले में पूर्व से ही चारों तरफ से चैक पोस्ट स्थापित किए गए हैं और नए चेक पोस्ट को खोलकर जिले की सीमा को सील कर दिया गया है सिवनी छिंदवाड़ा मार्ग पर भी  चेक पोस्ट एवं सिवनी बालाघाट मार्ग पर रामगढ़ चेक पोस्ट और सिवनी नागपुर मार्ग पर खवासा चेक पोस्ट इस प्रकार पूरी सिवनी जिला परिवहन चेकपोस्ट खुलवाया है ये समझ के परे है और जिम्मेदार जनप्रतिनिधि और अधिकारियों के द्वारा कोई ध्यान न देना ये बड़ी बात है।

      आज सारे देश की अर्थव्यवस्था की हालत क्या है यह सभी भली-भांति जानते हैं ऊपर से डीजल की मूल्यवृद्धि इन सारे अहम मुद्दों को देखते हुए ट्रांसपोर्ट व्यवसाय की हालत बहुत खराब चली है इसके बाद भी इस तरह की अराजकता यदि राज्य सरकार करेगी तो हालात और बिगड़ते रहेंगे हैं और ये ट्रक संचालको विवश होकर या तो व्यवसाय छोड़ना पड़ेगा या अन्य राज्यों से होते हुए ज्ञातव्य तक पहुंचने की व्यवस्था बनानी पड़ेगी।

          वही ट्रक संचालकों ने बालपुर में बने नए चेकपोस्ट को तत्काल बंद करने अग्रिम कार्यवाही की मांग की है और जिला परिवहन अधिकारी और जिन की अनुसंशा अधिकारियों के द्वारा शासन विभाग को गुमराह करके अथवा चेक पोस्ट में जो गुंडागर्दी एवं लूटपाट अवैध वसूली हो रही है उस पर तत्काल रोक लगाएं।

                वही जब रेवांचल टाईम्स की टीम ने घँसोर के बालपुर में नये चैक पोस्ट में पदस्त अधिकारियों कर्मचारियों से ट्रक चालकों से चल रही अबैध वसूली की जानकारी के बारे जानना चाहा तो नाके में पदस्त कर्मचारियों ने कुछ भी बोलने से मना कर दिया गया वही जब चैक पोस्ट के प्रभारी के मोबाईल न में जब कॉन्टेस्ट किया गया तो उनका न 9753377770 बन्द बन्द आया और कोई भी जिम्मेदार ने इस बात से अवगत नही कराया कि आखिर ट्रक चालकों से एक हजार से लेकर पांच हजार रुपये की बात का ले रहे है और इन्हें इस तरह की अबैध वसूली करने का अधिकार किसने दिया है।

              इनका कहना है

            आपको जो भी जानकारी लेनी है आप हमारे वरिष्ट अधिकारियों से बात कर ले आपको पूरी जानकारी वही बता सकेगें में अभी कुछ दिन पहले ही आई हूं मुझे ज्यादा कुछ पता नही है कि यहाँ किस बात का पैसा ले रहे है और कितना ले रहे है आपको हमारे वरिष्ठ अधिकारी ही बता पाएगें।

                           सुमन दीक्षित

                  उपनिरीक्षक चैक पोस्ट बालपुर सिवनी

                 अभी तक तो मुझे कोई शिकायत प्राप्त नही हुई है अगर  शिकायत आती है तो शिकायत की जांच की जाऐगी और अपने जो बतलाया है दिखवाया जाऐगा और सम्बधितो के ऊपर कार्यवाही की जाऐगी।

                             मुकेश जैन

                        परिवहन आयुक्त

                       ग्यालियर मध्यप्रदेश

No comments:

Post a Comment