भ्रष्टाचार और गबन में दोषी सरपंच, सचिव,रोज़गार सहायक और उपयंत्री संजय सार्बे पर हुई जाँच सभी से की जायेगी समान वसूली - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Saturday, January 30, 2021

भ्रष्टाचार और गबन में दोषी सरपंच, सचिव,रोज़गार सहायक और उपयंत्री संजय सार्बे पर हुई जाँच सभी से की जायेगी समान वसूली


रेवांचल टाईम्स :- आदिवासी बाहुल्य जिला मंडला में जिले भर की पंचायतों के कामकाज और भारी भ्रष्टाचार को लेकर आमजन में भारी असंतोष व्याप्त है। वही सरपंच सचिव रोजगार सहायक और उपयंत्री की मिलीभगत से शासन को खुलेआम चूना लगा रहे है और इन्हें प्रशासन से मौन संरक्षण मिल रहा है। जिले में पंचायती राज व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो चुकी है। भ्रष्ट सरपंच सचिब रोज़गार सहायक और उपयंत्री छाती ठोक कर मनमानी कर रहे हैं और प्रशासन खामोश है वही ग्राम पंचायतों में निर्माण कार्य पंचायत द्वारा कराए जाते हैं किन्तु जिले भर में ठेकेदारों का पंचायतो पर कब्जा है और पंचायती राज व्यवस्था को खुली चुनौती दी जा रही है। 

         वही एक और मामला मंडला जिले के जनपद पंचायत मोहगांव की ग्राम पंचायत झुरगी पौड़ी का सामने आया है जहाँ पर शासन के जिम्मेदार उपयंत्री संजय सार्वे ने भ्रष्टाचार करने में और शासन को चुना लगाने में कोई कसर नही छोड़ी हैं वही ग्राम पंचायत के सरपंच सचिब और रोज़गार सहायक भी शासकीय पैसों का बंदरबाट करने में पीछे नही है। 

       वही शिकायत की जांच में तत्कालीन सरपंच रंगबती बाई मरकाम मनोज साहू सचिव मेवा दास मोगरे ग्राम रोजगार सहायक संजय सर्बे पदविहित अधिकारी व कर्मचारी रहे हैं जिनके द्वारा ग्राम पंचायत की योजनाओं का संचालन तथा विभिन्न योजना अंतर्गत प्राप्त राशियों का वित्तीय नियमों का पालन करते हुए समुचित वह की जिम्मेदारी व अधिकार शासन द्वारा दिया गया है परंतु अपचारी सरपंच प्रभारी सचिव ग्राम रोजगार सहायक एवं उपयंत्री द्वारा पदीय दायित्वों के प्रति लापरवाही एवं स्वेच्छाचारिकता करते हुए मध्य प्रदेश पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 की प्रावधान का उल्लंघन किया है। 

    जिसमे इनसे वसूली इस प्रकार से की जा रही है निर्माण कार्यों में कुल 222325.00  रुपए का अधिक व्यय किया गया

            प्रकरण में सरपंच सचिव रोजगार सहायक और उपयंत्री संजय सार्बे के द्वारा अपने पद का दुरुपयोग करते हुए शासकीय निधि की राशि की अफरा-तफरी की गई है फल स्वरुप प्रश्नधीन धनराशि आवेदकों के अनुचित अभिरक्षा में रखे होने के फल स्वरुप मध्य प्रदेश पंचायती राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 की धारा 92 भी आदेशित होती है जिसमें कार्यवाही किया जाना प्रकरण में प्राप्त जांच प्रतिवेदन एवं उपलब्ध अभिलेखों के अनुसार अपरिहार्य  आवश्यक हो गया है अतएव राशि 222325.00 रूपए अंकन दो लाख बाईस हजार तीन सौ पच्चीस मात्र तत्कालीन सरपंच ग्राम पंचायत झुरगी पौड़ी रंगबती बाई मरकाम मनोज साहू सचिव मेवा दास मोगरे ग्राम रोजगार सहायक संजय सार्वे उपयंत्री ने संयुक्त रूप में समान अनुपात में वसूली योग्य पाए जाते हैं। एवं सचिव मनोज साहू  से राशि रुपए 55582.00 मात्र भगवती बाई मरकाम तत्कालीन सरपंच ग्राम पंचायत झुरगीपोडी से राशि रुपए 55582.00 मात्र जमा करने हेतु आदेशित किया जाता है आदेश जारी होने के 1 सप्ताह के भीतर प्रश्न धनराशि न्यायालय में उपस्थित होकर जमा करें अन्यथा मध्यप्रदेश शासन राज्य एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 की धारा 92 के अधीन 30 दिवस के लिए सिविल कारावास की कार्रवाई हेतु न्यायालय स्वतंत्र होगी।


       तत्कालीन सरपंच रंगती बाई मरकाम को मध्य प्रदेश पंचायत राज ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 की धारा 92 की कड़ी का (5) के अधीन छह माह की कालावधी के लिए किसी पंचायत या ग्राम निर्माण समिति तथा ग्राम विकास समिति जा ग्राम सभा समिति का सदस्य होने के लिए निर्धारित किया जाता है साथ ही अपराधी सचिव मनोज साहू द्वारा मध्यप्रदेश पंचायत सेवा नियम 1998 के नियम 3(1)(2)(3) का उल्लंघन किया जाना पाया गया है हेतु अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रभावी अधिकारी जिला पंचायत मंडला को आदेश किया गया है। अपचारी सचिव के विरुद्ध पंचायती राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 के वित्त प्रावधानों के अधीन अनुशंसानत्मक कार्यवाही प्रस्तावित  है। साथ ही रोजगार सहायक मेवाराम मोगरे द्वारा पदीय दायित्वों का उल्लंघन किया जाना पाया गया है। इस हेतु मुख्य कार्यपालन जनपद पंचायत मोहगांव को आदेशित किया गया है कि अपचारी ग्राम रोज़गार सहायक के विरुद्ध मध्यप्रदेश राज्य रोज़गार गारंटी परिषद के पत्र क्रमांक /5335/एन आर ई जी एस- म.प्र./स्था./एन आर-2/12 भोपाल दिनांक 02062012 में वर्णित ग्राम रोजगार की नियुक्ति सम्बंधी नवीन दिशा दिशा की कंडिका 15 में विहित शक्ति के अधीन कंडिका 16 के तहत अनुशासनात्मक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। वही मुख्य कार्यपालन जिला पंचायत मंडला ने जाँच करते हुए आदेश जारी किया है।

No comments:

Post a Comment