खाद्य विभाग की मौन स्वीकृति से नैनपुर में धड़ल्ले से हो रहा अवैध एलपीजी गैस टंकियों का भंडारण एवं विक्रय - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, January 26, 2021

खाद्य विभाग की मौन स्वीकृति से नैनपुर में धड़ल्ले से हो रहा अवैध एलपीजी गैस टंकियों का भंडारण एवं विक्रय

 


रेवांचल टाईम्स :- आग लगने की कई घटनाओं के बाद भी नैनपुर शहर में एलपीजी गैस का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। बुधवारी बाजार की बांसुरी वादन चौक स्थित कुछ दुकानों में एलपीजी गैस सिलेंडर के अवैध कारोबार को प्रशासन रोकने में विफल रहा है। यहां तक कि गली-मुहल्ले की राशन व पान-बीड़ी की दुकान पर खुले में ही बड़े से छोटे सिलेंडर का उपयोग बेखौफ किया जाता है। अवैध कारोबार के इस सिंडिकेट की पकड़ इतनी मजबूत है कि किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।


एलपीजी गैस के चार प्रकार के सिलेंडर होते हैं। घरेलू उपयोग के लिए 14 किलो 200 ग्राम का बड़ा और पांच किलोग्राम का छोटा सिलेंडर। वहीं 19 किलोग्राम का बड़ा और पांच किलोग्राम का व्यवसायिक सिलेंडर है। घरेलू उपयोग वाले सिलेंडर का रंग लाल और व्यवसायिक सिलेंडर का रंग नीला होता है। घरेलू या व्यवसायिक एलपीजी सिलेंडर लेने के लिए नियमानुसार रजिस्ट्रेशन कराना होता है। बड़े सिलेंडर की भांति छोटे सिलेंडरों की भी बुकिंग होती है। घरेलू एलपीजी सिलेंडर का व्यवसाय में उपयोग करना दंडनीय अपराध है। जबकि नैनपुर बाजार में अवैध रूप से हर प्रकार के सिलेंडर उपलब्ध हैं। अधिक कीमत पर ब्लैक में घरेलू व व्यवसायिक सिलेंडर आसानी से मिल जाता है। वहीं छोटे सिलेंडर नैनपुर बाजार की कुछ मुख्य दुकानों पर खुले आम बिकते हैं। जानकारों के अनुसार बाजार में बिकने वाला छोटा सिलेंडर पूरी तरह से गैर कानूनी है। अवैध होने के बाद भी यह सिलेंडर का व्यापार धड़ल्ले से नगर में चल रहा है।


इससे पूर्व भी खाद्य विभाग द्वारा इस मामले में कार्यवाही की गई थी परंतु अभी भी यह व्यापार धड़ल्ले से नगर में चल रहा है कभी भी किसी बड़ी दुर्घटना से इनकार नहीं किया जा सकता!

No comments:

Post a Comment