एनजीटी एवं पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एक भी नियम- निर्देशों का पालन नही कर रहे क्रेशर चालक - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Wednesday, January 13, 2021

एनजीटी एवं पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एक भी नियम- निर्देशों का पालन नही कर रहे क्रेशर चालक





 रेवांचल टाईम्स - मण्ड़ला जिले के  नैनपुर जनपद पंचायत क्षैत्र के ग्रामीण अंचलों मैं संचालित गिट्टी  क्रेशर ड़ोलोमाईट क्रेसर खदानों में पत्थरों को तोडऩे के दौरान उडऩे वाली धूल से आसपास के इलाकों को बचाने के लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने सख्त नियम जरूर बनाए है लेकिन मैदानी स्तर पर इसका पालन कही पर भी  नहीं हो पा रहा है। यहाँ के  अधिकांश खदानों में न तो पानी का छिड़काव किया जा रहा है और ना ही विंड बे्रकिंग वाल बनाई गई है। इससे यहां प्रदूषण पर कंट्रोल ही नहीं हो पा रहा है। नैनपुर जनपद पंचायत क्षैत्र में करीब 25 से 50 गिट्टी एवं ड़ोलोमाईट  क्रेशर खदानें है। खदान संचालकों को संचालन अनुमति देते समय स्पष्ट रूप से पर्यावरणीय नियम के पालन के शपथ पत्र लिए जाते हैं।इनकी धूल से श्रमिकों और आसपास के इलाकों में पडऩे वाले प्रभाव को देखते हुए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने भी सख्त आदेश जारी किए हैं, जिनमें उन्हें धूल का कंट्रोल हर हाल में करना है इसके बावजूद खोहरी गजना कजरवाड़ा,  चदिया माल ,सर्रा पिपरिया,  खुरसीपार, चिचौली ,चरगाव, परसवाड़ा चक्र बन्जाराटोला एवं चरगाव , मुगदरा,भड़िया , भटियाटोला समेत और भी  अन्य अंदरुनी इलाकों में मौजूद क्रेशरों में नियमों की अनदेखी की जा रही है। अधिकांश क्रेशरों का स्थल निरीक्षण कर लिया जाए तो विंड वाल, जल छिड़काव, प्लांटेशन, तारपोलिंग नहीं मिलेगी क्रेशर पर ये हैं बोर्ड के नियम==



1. क्रेशर को तीन आेर से विंड ब्रेकिंग वाल से घेरना 2. वाइब्रेटिंग/रोटरी स्कीन को एमएस/जीआई शीट से कवर्ड करना 3.जीरो गिट्टी के डस्ट के ट्रांसफार्मर बिंदु पर टेलीस्कोपिक सूट से कवर करना 4.पत्थर में क्रेसिंग के पूर्व जल छिड़काव करना 5. क्रेशर के चारो ओर पांच मीटर चौड़ी हरित पट्टी का प्लांटेशन करना 6. फाइन डस्ट को तार पोलिंग से ढंकना 7. क्रेशर परिसर के अंदर एप्रोच रोड में दिन में चार बार जल छिड़काव करना 8. वर्कर को नोस मास्क प्रदान करना 9. खदान को फेसिंग कर घेरना। क्रेशरों को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और एनजीटी के नियम पालन के लिए नोटिस जारी कर चेतावनी तत्काल देकर यहा पर मौका  स्थलो की शूक्ष्म जाच करना नितात आवश्यक है इसके साथ बोर्ड नियमों के पालन पर ही लाइसेंस जारि किया जाये

 ज्ञातव्य हो कि नैनपुर जनपद पंचायत क्षैत्र के ग्रामीण अंचलों मैं संचालित गिट्टी क्रेसरो एवं ड़ोलोमाईट क्रेसरो  का गत दिनों मौका मुआयना एवं स्थल निरीक्षण के दौरान देखा गया कि यहाँ पर लगे गिट्टी क्रेसरो के मालिकों के द्वारा अपने स्वीकृत क्षैत्र फल के अतिरिक्त भूमि मैं स्वीकृत गिट्टी खदाने बना रखी है जो शासन एवं प्रशासन के नियम निर्देशों की खुली धज्जिया उठाते हुए अपने मनमाफिक बड़ी बड़ी खदाने बनाकर यहाँ पर अवैध उत्खनन करने से बाज नहीं  आ रहे हैं वही ब्लास्टिग की तेज आवाज से ग्रामीण जनसमुदाय ड़रे हुये रहते हैं यहाँ पर जो गिट्टी खदाने बनी हुई है उसके आस पास बाऊन्ड़्री बाल भी नहीं बनाया गया है जिससे यहाँ की पालतू मवेशियों को भी जान का खतरा बना हुआ है विभागीय नियम निर्देशों को परे रख गिट्टी क्रेसर संचालकों के द्वारा अपने स्वयं के नियम कायदे बनाकर यहाँ पर कार्यरत गरीब  मजदूरों का खुला शोषण निरन्तर कर रहे हैं गत दिनों यहाँ के कुछेक ग्रामीणों ने आगे आकर मीडिया को बताया कि इनकी निजी जमीन मैं गिट्टी क्रेसर संचालक अपने लिये काला पत्थर की खुदाई करवाते है और इन्हें परिश्रम के रूप मैं 210 रूपये प्रति ट्रेक्टर ट्राली के हिसाब से राशि देते हैं पत्थर खदानो मैं स्वास्थ्य से संबंधित कोई भी दवाइयाँ बगैर नहीं रखी जाती है ना ही कोई ऐसी व्यवस्था होती है जिससे यहाँ पर लगे पत्थर तोड़ने वाले गरीब मजदूरों को समय आने पर स्वास्थ्य सुविधा  उपलब्ध हो सके जान माल की परवाह किये गरीब श्रमिक पूरे दिन कठिन परिश्रम करते हैं किन्तु  इन्हें वाजीब दाम भी नहीं मिलता है खनिज पत्थर की तुड़ाई और रायल्टी की चोरी यहाँ पर सरेयाम किया जा रहा है यहाँ पर प्रायः सभी गिट्टी क्रेसरो मैं विभागीय नियम निर्देशों की खुली धज्जिया उठाई जा रही है जिससे मौका मुआयना एवं स्थल निरीक्षण के पश्चात स्पष्ट देखा जा सकता है संबंधित खनिज विभाग के जिम्मेदार शासकीय तंत्र को  बार बार यहाँ पर नियम -निर्देशों के  विपरीत संचालित स्टोन क्रेसरो के खिलाफ सख्त काय॔ वाही करने की लगातार जन माँग की जाती है किन्तु वाहरे जिले  प्रशासन एवं संबंधित विभाग के जिम्मेदार अधिकारी जो आज पर्यन्त यहाँ पर नियम निर्देशों के विपरीत संचालित गिट्टी क्रेसरो के खिलाफ कभी भी निष्पक्ष उच्चस्तरीय जांच करने की हिम्मत नहीं जुटा पाये  है 


 रेवांचल टाइम्स नैनपुर से राजा विश्वकर्मा की खास रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment