एक अभिव्यक्ति-किसान रो रहा खून का आशु हम हमारे स्थानीय अन्न दाताओ के हितार्थ हम समर्थन करते है - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, December 8, 2020

एक अभिव्यक्ति-किसान रो रहा खून का आशु हम हमारे स्थानीय अन्न दाताओ के हितार्थ हम समर्थन करते है


रेवांचल टाईम्स - जिस देश मे जवानो और किसानो के प्रति श्रध्दा भाव रखते है और लाल बहादुर शास्त्री जी ने भी गोरंवित नारा दिया जय जवान-जय जवान जिसकी देश मे हर जगह जय जय के उद्घोष से उनके प्रति सम्मान परोसा गया वास्तव मे वो इसके हकदार है 

      क्योकि मौसम के हर पड़ाव मे जिस प्रकार देश का जवान देश क़ि सीमाओं पर हर परिस्थिति से जूझकर अपने देश क़ि रक्षा दुश्मनों से करते है वही हमारे किसान भी हर मौसम पर खेती कर जो अनाज उत्पन करते है वो भी अदुतीय है जब किसान के खेतो मे उगने वाली फसलो और उनके कार्य परिश्रम से उनकी फसलो का सही दाम न मिले तो दुख होता है

    हम तो स्थानीय किसानो से जब सुनते है उनकी आप बीती तो मन दुखी हो जाता है और शर्मा भी आती है उन रजनीति पार्टी से जो किसानो और जवानो के नाम से जो राजनीति का नंगा नाच करते है 

     हम तो एक ही बात समझते है क़ि हमारे स्थानीय किसान मित्रो क़ो जो एम. एस. पी. (समर्थन मूल्य) जो निर्धरित है 1850 रुपए तो क्यो किसान भाईयो क़ो 800 से 1300 रुपए तक उनका बिक्री मूल्य दिया जा रहा आखिर क्यो ....

     हम तो एक ही बात समझते है सिवनी मे सिचाई हेतु बनाई गई नहर समय रहते क्यो नही खोली गई एक महीने के बाद छोड़े से जो उनको प्रति एकड़ 20 किन्ट्ल उत्पादन होता था अब लेट होने के कारण 10 किन्ट्ल होगा आखिर क्यो.....

      हम तो एक ही बात समझते है क़ि प्रति एकड़ 2बोरी यूरिया देने का प्रवधान है वही किसानो क़ो मिलने मे भारी परेशानी होती है जो यूरिया क़ि प्रति बोरी 267 रुपए क़ि होती है वही बोरी ब्लैक मे 450 रुपए मे बिकने की खबर सुनने को मिली आखिर क्यो....

      हम तो एक ही बात समझते है क़ि शहरो मे 24 घंटे बिजली और त्री फेस संतुलन वोल्टेज से मिलती है तो गाव मे मात्र 10घंटे ही उसमे भी वोल्टेज कि कमी जिसके कारण किसानो को सिचाई मे परेशानी होती है कम वोल्टेज के कारण कही किसानो क़ि मोटर जल रही तो कही ट्रांसफर तो कही फूय्ज उड़ रहे आखिर क्यो....

          एक बात समझ से परे जब हर राजनैतिक दल और नेता किसानो का शुभ चिंतक है तो आज तक किसानो क़ि समस्या का हल क्यो नही हो पा रहा है  किसानो से ही बाजारों मे रौनक होती है खुशियों होती है आखिर इस खुशियों का दुश्मन और कोई नही राजनैतिक  पार्टी और उसके नेता जिम्मे दार है जो समय रहते किसानो क़ो समय समय पर उनको मदद करते तो येसी परिस्थिति नही बनती

        मे अन्न दाताओ को उनके हक के प्रति उनके जायजा मांगो का आत्मा से समर्थन करता हू और पूर्ण रूप से किसी भी राजनैतिक पार्टी का समर्थन नही करता और विरोद भी नही किन्तु सरकार मे देश का हर नागरिक  अधिकार है उन अधिकारो के प्रति मांग मे सहयोग करता हूँ।

No comments:

Post a Comment