मंडला: आज भी मूलभूत सुविधा से वंचित हैं जिले के बैगा आदिवासी और ग्रामीण - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, November 15, 2020

मंडला: आज भी मूलभूत सुविधा से वंचित हैं जिले के बैगा आदिवासी और ग्रामीण





रेवांचल टाइम्स - आदिवासी बहुल्य जिला मंडला में निवासरत बैगा आदिवासियों के लिए केन्द्र से लेकर राज्य सरकार तक अनके योजनाएं संचालित है पर आज भी ग्रामीण स्तर में निवासरत बैगा आदिवासी लोग मुलभूत सिविधाओ से बंचित है। न पीने के लिए पानी है और न ही चलने के लिए रोड़ जहाँ आज लोग चाँद में बसने की बात कर रहे है पर दुर्भाग्य है आदिवासी बाहुल्य मंडला जिला का जहाँ पर दो दो सांसद होने के बाद भी लोग अपनी मुलभूत सुविधाओं के लिए वंचित है इन बैगा आदिवासियों के लिए साल का करोड़ो का बजट मिलता है पर मिलने वाली राशि जाती कहा ये बात पूछने वाला इस जिले में कोई नही है।

        हम बात कर रहे बिछिया जनपद के अंतर्गत ग्राम पंचायत डुडका के अंतर्गत ग्राम बघरोड़ी की जहाँ पर बैगा आदिवासी निवासरत है जहां पर गाव वालो को पीने के लिए पानी लेने के लिए लगभग आधा से एक किलोमीटर दूर से झोड़ी नाला से पानी लेकर आना पड़ता है और जाने के लिए रोड भी नही उबड़ खाबड़ पगडंडी से होकर जाना पड़ता है।

        वही जब रेवांचल टाइम्स के संवाददाता ने गांव के लोगों से सरकार को मिलने वाली मुलभूत सुविधाओं के बारे में और ग्रामीणों की समस्याओं के बारे में जानना चाहा तो ग्रामीणों ने बताया कि गाँव मे एक सार्वजनिक कुआँ है वह भी वर्षो पुराना है और वह  पूरी तरह से छतिग्रस्त हो चुका है और कुँआ मिट्टी से भर चुका है। और गांव में विभाग के द्वारा एक हैंडपंप था गांव के सभी लोग उसी के सहारे थे लेकिन हैंड पंप भी बर्षो से बिगड़ा पड़ा हुआ अनेको बार पानी की समस्याओं को लेकर ग्राम पंचायत के सरपंच सचिब को बताया है पर वो सुनने को तैयार ही नही है बिगड़े हुए उस हैंड पंप को सुधारने के लिए पंचायत में कई बार जानकारी देने के बाद भी आज तक नही सुधराया गया और न ही कोई  मैकेनिक नहीं आया जो हैंडपंप सुधार सकें आज भी हमारी घरों की बच्चीया और महिलाओं के द्वारा पीने के पानी और अन्य उपयोग में लिए पत्थरीले रास्ते से होकर दूर जाना पड़ता है जब जाकर हम गाँव वाले अपनी प्यास और उपयोग के लिए पानी लाते है शिकायतों के बाद भी जनप्रतिनिधियों और शासन प्रशासन में बैठे जिम्मेदार लोग कोई भी सुनने को तैयार है हम लोगो वर्षो से हमे मिलने वाली मूलभूत सुविधा से वंचित है। बस जनप्रतिनिधि भी चुनाव के समय वोट मांगने आते है और जितने के बाद हम जैसे लोगो की याद भी नही आती है बस वोट मांगते समय बड़ी बड़ी बाते करते है।

            इनका कहना

   हमारे गाँव मे न पानी है और न ही पानी लेने जाने के लिए रोड़ पीने के पानी के लिए आधा से एक किलोमीटर दूर नाला से पानी लाकर उपयोग कर रहे है आज हम और हमारा पूरा परिवार नाले का गंदा पानी पीने के लिए मजबूर है शिकायत के बाद भी कोई सुनने वाला नही है हम गरीबो का तो भगवान ही मालिक है।

                                ग्रामीण

No comments:

Post a Comment