सोमवार अलसुबह जोरदार आवाज के साथ भूकंप के झटकों से शहर के लोगों की नींद टूट गई - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, November 9, 2020

सोमवार अलसुबह जोरदार आवाज के साथ भूकंप के झटकों से शहर के लोगों की नींद टूट गई


रेवांचल टाइम्स:- सिवनी घबराहट में लोग अपनी जान की सुरक्षा के लिए घरों से बाहर निकल गए। 

हर दिन शहर के कई इलाकों में भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे है, लेकिन रविवार का दिन लोगों के लिए अच्छा रहा। इस दिन भूकंप के झटके नहीं आने तो लोगों ने चैन की सांस ली थी वहीं सोमवार सुबह फिर तेज भूगर्भीय हलचल ने लोगों का चैन छीन लिया।


यहां ज्यादा महसूस किए गए झटके: शहर के डूंडासिवनी, छिड़िया, पलारी, बारापत्थर, कटंगी रोड क्षेत्र, जनता नगर, गणेश चौक, शुक्रवारी क्षेत्र समेत शहर के अन्य इलाकों में भी सोमवार सुबह 6.46 बजे भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। हालांकि रिक्टर में यह भूकंपीय हलचल दर्ज नहीं हुई है।


पूरा घर हिल गया, दीवारों में आ गई दरारें: डूंडासिवनी, छिड़िया पलारी क्षेत्र के दिनेश ठाकरे, अखिलेश राय, दिलीप नेमा समेत अन्य लोगों ने बताया कि सोमवार सुबह 4 से 5 बजे के बीच 2-3 बार हल्के झटके महसूस किए गए वहीं 6.46 बजे तेज झटका आने से पूरा घर हिल गया। 

कई लोगों के घरों की दीवारों में दरारें आ गई।

कारण जाने उत्सुक है लोग: शहर में बीते 3 माह से भूगर्भीय हलचल हो रही। 

नवंबर के महीने शुरू होते ही अब यह हलचल तेज हो गई है। 

इस माह तेज आवाज के झटके रिक्टर में दर्ज भी हो चुके है। लगभग हर दिन डोल रही धरती से लोग अब दहशत में आ गए हैं। 

रातों में लोग अपने घरों में जाने से भी डर रहे है। 

भूगर्भीय हलचल का पता लगाने के लिए टीम आने वाली है। 

इससे लोगों में बार-बार आ रहे भूकंप के कारण जानने की उत्सुकता बढ़ गई है भूकंपीय हलचल की जांच के लिए आज आएगा 3 सदस्यीय दल: भारत सरकार के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र से 3 सदस्यीय दल सोमवार को सिवनी पहुंचकर जिले में हो रही भूकंपीय हलचल की जांच शुरू करेगा। 

प्रभावित क्षेत्रों में उपकरणों की मदद से भू-गर्भीय हलचल के कारणों का पता लगाने की कोशिश भी करेगा। 

दल के सदस्य जिला प्रशासन के अधिकारियों से मिलकर आवश्यक जानकारी (डाटा) भी एकत्रित करेगा।

रेवांचल टाइम्स से मुकेश जायसवाल की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment