देवउठनी ग्यारस में नर्मदा पुत्रों का क्रमिक अनशन मुख्यमंत्री को देंगे नर्मदा गौ संदेश - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Wednesday, November 25, 2020

देवउठनी ग्यारस में नर्मदा पुत्रों का क्रमिक अनशन मुख्यमंत्री को देंगे नर्मदा गौ संदेश




रेवांचल टाईम्स - मां नर्मदा व गौवंश के संरक्षण संवर्धन के लिए अन्न त्याग कर सात सूत्रीय मांगों को लेकर सत्याग्रह कर रहे समर्थ सदगुरु भैयाजी सरकार ने कहा देवउठनी ग्यारस से सत्याग्रह का संदेश जनजन को देने प्रदेश व्यापी होगा आंदोलन ।

बारंबार उच्च न्यायालय के आदेशों के प्रति शासन प्रशासन की उदासीनता, दबंग पूँजीपतीयों माफियों का बेखोफ होकर खुलकर अंधाधुंध अवैध निर्माण अतिक्रमण खनन से बड़ी तीव्रता से मां नर्मदा का स्वरूप विकृत हो रहा है प्राकृतिक जल संरचनाएं जल संग्रहण हरित क्षेत्र खत्म हो रहा शासन प्रशासन की उदासीनता लापरवाही से जन जन आक्रोशित है।

 समर्थ सद्गुरु भैयाजी सरकार देवउठनी ग्यारस 25 नवम्बर को दोपहर 1 बजे से ग्वारीघाट उमाघाट सिद्ध तीर्थ क्षेत्र में मां नर्मदा पूजन के साथ जन जागरण क्रमिक अनशन करेंगे एवं सायं 7 बजे नर्मदा महाआरती में शामिल होंगे,नर्मदा पुत्र भक्त प्रेमी नर्मदा शुद्धिकरण संरक्षण हेतु हो रहे मां नर्मदा गौ सत्याग्रह का महासंकल्प लेंगे।


राज्य सरकार शासन -प्रशासन से नर्मदा गौ सत्याग्रह की प्रमुख मांगें

1)मां नर्मदा तट एच.एफ.एल.से 300 मीटर तक के हरित क्षेत्र को मान. उच्च न्यायालय के आदेशानुसार सीमांकन कर प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर तत्काल संरक्षित किया जाए।

2)माँ नर्मदा को जीवंत इकाई का दर्जा देकर ठोस नीति व कानून बनाए।

3)दबंग ,भू -खनन माफिया पूँजीपतियों द्वारा लगातार हो रहे हरित क्षेत्र में अवैध निर्माण,अतिक्रमण भंडारण,खनन तत्काल प्रतिबंधित कर अवैध साधन संसाधन भंडारण सामग्री को  राजसात किया जाए।

4)अमरकंटक तीर्थ क्षेत्र में हो रहे निर्माण अतिक्रमण खनन पूर्णतः प्रतिबंधित किया जाए।

5)माँ नर्मदा के जल में मिल रहे गंदे नालों विषैले रासायनों को बंद करने व अपशिष्ट द्रव्य पदार्थों के प्रबंधन हेतु प्रभावी ठोस कार्ययोजना लागू की जाए।

6)बेसहारा गौ वंश के लिए आरक्षित नगरीय निकायों की गौचर भूमि को संरक्षित किया जाए एवं अवैध अतिक्रमण निर्माण कब्जा से मुक्त कराया जाए।

7)मां नर्मदा पथ के तटवर्ती गांव नगरों को जैव विविधता क्षेत्र घोषित कर समग्र गौ नीति के साथ गौ अभ्यारण सुनिश्चित किये जाएं।

सभी नर्मदा गौ भक्त प्रेमियों परिवारों से विन्रम अपील है कि मां नर्मदा गौ सत्याग्रह में शामिल होकर सच्चा धर्म निभाए मां नर्मदा गौवंश को बचाने प्रारम्भ हुई इस मुहिम में आगे आये।


निवेदक-मां नर्मदा गौ सत्याग्रह जन जागरण जन आंदोलन समिति जाबालिपुरम मध्य प्रदेश।

No comments:

Post a Comment