पुलिस उप महानिरीक्षक बालाघाट नें की मण्डला के चिन्हित सनसनीखेज मामलों की समीक्षा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Saturday, September 12, 2020

पुलिस उप महानिरीक्षक बालाघाट नें की मण्डला के चिन्हित सनसनीखेज मामलों की समीक्षा

 जिलें के चिन्हित मामलों में कोर्ट से मिली शत-प्रतिशत सजा के लिये मण्डला पुलिस को दी बधाई


रेवांचल टाइम्स मंडलादिनांक 11.09.2020 को पुलिस उप महानिरीक्षक बालाघाट रेंज बालाघाट श्री अविनाश शर्मा द्वारा जिला मण्डला के चिन्हित जघन्य सनसनीखेज मामलों की समीक्षा बैठक ली गई। पुलिस कन्ट्रोल रुम मण्डला में आयोजित इस बैठक में पुलिस अधीक्षक मण्डला श्री दीपक कुमार शुक्ला, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मण्डला श्री विक्रम सिंह कुशवाह, जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री अरुण मिश्रा, अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) मण्डला सुश्री आकांक्षा उपाध्याय के साथ साथ थाना प्रभारी कोतवाली निरीक्षक निलेश दोहरे, थाना प्रभारी महाराजपुर निरीक्षक श्री रामेश्वर ठाकुर तथा थाना प्रभारी बीजाडांडी निरीक्षक सुदर्शन टोप्पों उपस्थित रहें ।  बैठक में पुलिस मुख्यालय की महत्वपूर्ण “चिन्हित अपराध योजना” के अंतर्गत जिला मण्डला में चिन्हित किये गये जघन्य सनसनीखेज अपराधों की समीक्षा की गई ।
पुलिस उप महानिरीक्षक बालाघाट द्वारा वर्ष 2020 में अभी तक मण्डला पुलिस द्वारा चिन्हित किये गये सभी 16 अपराधों की प्रकरणवार समीक्षा कर विवेचना के संबंध आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये । पुलिस अधीक्षक मण्डला द्वारा बैठक में पुलिस उप महानिरीक्षक बालाघाट को जानकारी देते हुए जिले में चिन्हित किये गये 16 अपराधों में से 13 में विवेचना पूर्ण कर चालान माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किये जाने के साथ साथ न्यायालय में विचाराधीन कुल 46 पूर्व के चिन्हित प्रकरणों की भी विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई ।  बैठक में पुलिस उप महानिरीक्षक बालाघाट द्वारा जिला मण्डला के वर्ष 2019 एवं वर्ष 2020 में न्यायालय द्वारा निर्णय दिये गये सभी 11 चिन्हित प्रकरणों में आरोपियों को आजीवन कारावास सहित अन्य कठोर दण्ड से दण्डित करवाने के लिये मण्डला पुलिस की प्रशंसा की गई । उन्होनें आगे भी इसी प्रकार सभी प्रकरणों में बेहतर अनुसंधान करते हुए सभी मामलों में पीड़ित पक्ष को न्याय दिलवानें का प्रयास करने के लिये मण्डला पुलिस को प्रोत्साहित किया साथ ही प्रदेश स्तर पर चिन्हित अपराधों में शत प्रतिशत सजायाबी करवाने वाले चुनिंदा जिलों में मण्डला जिलें के भी सम्मिलित होने पर बधाई दी ।
चिन्हित अपराध योजना म.प्र. पुलिस की अत्यंत महत्वपूर्ण योजना है जिसके अतंर्गत ऐसे गंभीर तथा सनसनीखेज अपराध जिनका आम जनमानस पर गहरा प्रभाव पड़ता है उन्हें चिन्हित श्रैणी में लाकर न्याय व्यवस्था पर आमजनता के विश्वास को दृढ़ करने तथा आरोपियों को कठोर दण्ड दिलवाने के लिये तकनिकी विशेषज्ञों, एफएसएल वैज्ञानिकों तथा विधि विशेषज्ञों की सहायता से लेकर अत्यंत सूक्ष्मता से अनुसंधान कर माननीय न्यायालय में चालान प्रस्तुत किया जाता है । इस योजना के अंतर्गत वर्ष 2019 में निर्णित सभी 06 प्रकरणों तथा वर्ष 2020 में अभी तक निर्णित सभी 05 प्रकरणों में न्यायालय द्वारा आरोपियों को दण्डित किया जा चुका है तथा सजायाबी का प्रतिशत शत-प्रतिशत है ।  पुलिस अधीक्षक मण्डला श्री दीपक कुमार शुक्ला के निर्देशन में जिला मण्डला में घटित होने वाले गंभीर तथा सनसनीखेज प्रकृति के अपराधों को चिन्हित श्रैणी में लाकर विवेचना के दौरान नियमित रुप से विवेचना की प्रगति की समीक्षा कर विवेचक, जिला अभियोजन अधिकारी तथा जिलें के अन्य तकनिकी विशेषज्ञों के लगातार सामंजस्य से अधिक से अधिक साक्ष्य एकत्र कर न्यायालय में चालान प्रस्तुत किये जा रहें हैं जिससे पीडित पक्ष को माननीय न्यायालय से न्याय प्राप्त हो सके ।  पुलिस उप महानिरीक्षक बालाघाट रेंज बालाघाट द्वारा बैठक में चिन्हित अपराधों की समीक्षा के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर उत्पन्न परिस्थितियों, न्यायालयीन प्रक्रियाओं में परिवर्तन के कारण उत्पन्न परिस्थितियों को देखते हुए पुलिस विभाग की आगामी रणनीति, अपराधों की रोकथाम के लिये आवश्यक प्रयासों तथा बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों के बचाव आदि विषयों पर भी विस्तारपूर्वक चर्चा कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिये गये ।

No comments:

Post a Comment