पलक झपकते ही पकडता हैं सांपो को ये शख़्त - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Saturday, September 26, 2020

पलक झपकते ही पकडता हैं सांपो को ये शख़्त





रेवांचल टाइम्स - इनर वाईस ग्रुप समाज में जागरूकता के लिए अनेक कार्य कर रहा है जिसके साथ छुपी प्रतिभा को जनमानस तक पहुंचाने का कार्य कर रहा है। अपने युट्युब चैनल के माध्यम से उन प्रतिभाओं को मंच दे रहा है।इस तारतम्य में सांपो से खेलने वाले शख्स की खोज हुई।मण्डला जिला जिसमें शहर की आधी आबादी कृषि पर निर्भर है खेत,पेड़-पौधे की अधिक मात्रा होने से आय दिन यहां पर अनेकों प्रकार के सांप निकलते हैं। अक्सर लोग अपनी जान बचाने के लिए सांपो को मार देते हैं। वहीं एक ओर शहर के एक शख्स सीताराम कछवाहा का जीवों के प्रति अद्भुत प्रेम हैं जहां कहीं भी सांप निकल जाये वह अपने आवश्यक कार्य छोडकर उनकी रक्षा के लिए दौड़ पड़ते है।इसलिए लोगों ने प्यार से "किंग आफ स्नेक" नाम दिया। दिन-रात,धूप-बरसात की परवाह किये बिना अपने जान को जोखिम में डालकर रेस्क्यु करते हैं। उन्होंने बताया कि अगर हम मानव हैं और किसी जीव की हत्या कर देते हैं तो मानव होना निरर्थक है। यह बेजुबान जीव भी पर्यावरण का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं इनकी रक्षा का कर्तव्य हमारा है। सांपों के बारे में इनका कहना है कि अधिकांश सांप जहरीले नहीं होते हैं पर लोग दहशत की वजह से हत्या कर देते हैं। कुछ ही प्रकार के जहरीले सांप हमारे शहर पर पाये गये जिनमें ब्लेक कोबरा,ईण्डियन करेंत,बैनडेड करेंत,सा स्केल वाईपर, रसल सांप हैं। सांपो को पकडकर वहां उपस्थित लोगों को इसकी जानकारी देने के साथ उचित उपचार  के लिए जागरूक करते हैं। सांपो को सुरक्षित किसी जंगल पर जाकर छोड दिया जाता है। सीताराम कछवाहा ने "इनर वाईस ग्रुप" के युट्यूब इंटरव्यू पर बताया कि उनका मुख्य आजीविका का साधन बैंड धमाल है पर जीवों के प्रति प्रेम ने सांप पकडना शौंक बना दिया। यह काम नि:शुल्क करते हैं। जो व्यक्ति स्वेच्छा से जो दे दें वह रख लेते हैं जहां आवश्यकता पडी तो दान भी कर देते हैं। उन्होंने बताया कि अधिकांश लोग झाड़ -फूंक के चक्कर में पड़ते हैं इसलिए अपनी जान गवां देते हैं। जबकि जिला चिकित्सालय में इनकी वेक्सीन है। इनकी टीम में मोहित और गिरी हर वक्त रहते हैं।आज वह चर्चित हैं दिन में 4-8 सांपो का रेस्क्यु कर लेते हैं। उनका कहना है कि अगर शासन-प्रशासन की अनुमति या मौका मिले तो सभी बडे जीवों के रेस्क्यु करने का सपना है।

आप भी इनके न. को सुरक्षित रखें आवश्यकता पडने पर सम्पर्क करें जीवों की हत्या न करें।

सीताराम कछवाहा-9993255571


क्या हवा के जरिये भी फैल सकता है Coronavirus? कितनी देर तक वायरस की रहती है मौजूदगी? नए रिसर्च में...

No comments:

Post a Comment