कोरोना अब जिला प्रशासन पर हो रहा है हावी लापरवाही से बढ़ रहे केस सरकारी अमले में सामंजस्य का अभाव। - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, 2 August 2020

कोरोना अब जिला प्रशासन पर हो रहा है हावी लापरवाही से बढ़ रहे केस सरकारी अमले में सामंजस्य का अभाव।



रेवांचल टाइम्स -  जिले में धीरे धीरे कोरोना बेकाबू होते नजर आ रहा है  वही जिले में एक साथ कोरोना संक्रमित मरीजो के 14  केस की तह तक जाया जाये तो सिर्फ और सिर्फ लापरवाही ही नज़र आ रही है जिले में 14 केस एक साथ निकलने से बड़ा सवाल जिला प्रशासन पर खड़ा हो रहा है जिला प्रशासन मण्डला का अपने अमले पर वश नही है जहाँ निवास, वीजादांडी, नारायणगंज, अनुभाग से हर विभाग का अधिकारी और अमला जबलपुर रेड जोन से आना जाना कर रहा है।
        कोरोना संक्रमित मरीजो के परिणाम सामने है जहाँ रोज अब केस निकल रहे है। कोरोना को हल्के में लेने का नतीजा सामने धीरे धीरे आने लगा है जब सांप निकल जाए तो सब सत्कार करने सरकारी अमला निकल जाता है उस के पहले का होमवर्क कैसा है,क्या उपाय है, इस सब पर चिंतन दूर दूर तक नजर नही आ रहा है जिस ढंग का रवैया अमले का और डॉक्टरो का है वो हैरानी और चौकाने वाला है जिस से अब नैनपुर नगर और वार्ड में नाराजगी देखी जा रही है पर बड़ा सवाल है ये की सन्देह के दायरे में आये मरीजो को घर मे कोरेन्टीन कराना है या होस्पिटल मे फिर इन मरीजों को देख भाल की जवाबदेही किस की है
             वही सूत्र बता रहे है 2 पोज़ोटिव निकलने वाले भाई रात को घर पर आ के आराम से सो रहे है जब नैनपुर से इनका सेम्पल गया है तो ये एक दिन पहले ही घर क्यो किस के आदेश से आ गये और पूरे मोहल्ले में घूम घूम कर संक्रमित कर दिया। जब की ये रेल्वे होस्पिटल में कोरोनोटीन थे । इस मे किस डॉ से लापरवाही हुई और इन दोनो भाइयो ने नगर सहित मोहल्ले को खतरे में डाला। अब 100 मीटर के दायरे में 80 घरो का सर्वे हो रहा है निवारी में और वार्ड न 5 में क्या अब जिला प्रशासन के लिए सिर दर्द बढ़ाने वाले जिम्मेदार पर कार्यवाही होगी या नही ये बड़ा सवाल है। 24 जुलाई को टवेरा से जाकर कृष्णा ने अपने जीजा जी के परिवार को लाया और 24 जुलाई से वो निवारी ग्राम में जहाँ रहता है वहाँ तफरी कर रहा है और जिस गाड़ी में लाये वो अलग फिर किस किस को लेकर गई ये लम्बी चेन बन गई। इस विषय पर गम्भीरता जरूरी है महज चार घरो को कैद करने से जिला और स्थानीय प्रशासन अपनी नैतिक जवाब देही से मुक्त नही हो सकता है। इस मे उन घरों और मोहल्ले वालों का क्या दोष है जो जिले भर के कोरेन्टीन सेंटर टाइम पास का सेंटर बन गए है अनुभाग स्तर के आला अफसर अपना समय काट रहे है। नोकरी कर रहे कर्मचारियों का क्या कभी यहां औचक निरीक्षण दौरा किया नतीजा सामने है सेंटर छोड़ कोरोना पोज़िटिव घर मे आराम कर रहे है कोरोना का प्रसाद मोहल्ले और नगर में बाट रहै है कोरोना को लेकर आला अफसर यहां तक की मण्डला जिला की कलेक्टर श्रीमति हर्षिका जी का भी होम वर्क कमजोर नजर आ रहा है यहाँ निचले स्तर से जानकारी गलत दी गई वही सार्वजनिक कर दी गई जिस को लेवर बताया गया है कल वो लेवर नही रेल्वे का गेट मेंन है और जामगांव में स्टेशन में पोस्टेड है। ये तो हाल है यही हाल यहाँ नगर नैनपुर में है सामंजस्य है ही नही आपस मे जिस घर को कोरोंन टीन किया गया है उस की सूचना स्लिप स्वस्थ अमले को घर के बाहर चीपकानी होती है वो वार्ड नं 4 में घर मे अंदर थी स्वयं कलेक्टर महोदय ने इसे साझा किया और बाहर लगाने के निर्देश दिये है फिर दूसरी लापरवाही जब मरीज़ सेंटर छोड़ कर भाग गया और घर मे आराम कर रहा है और एक दिन बाद रिपोर्ट पोज़िटिव आ रही है। इस मे किस पर ये जवाबदेही तय की जाये। नगर नैनपुर तीन जिलों का सीमा सेंटर है बड़ी लाइन का काम चल रहा है। जहाँ रोज रेल्वे से जुडे कर्मचारियों और अफसरों का आना जाना लगा हुआ है। वही नगर में जो बच्चे इंदौर, जबलपुर, नागपुर, महानगरों से आ रहे है उनकी जांच तक समय पर नही हो पा रही है। कोरोना को लेकर अलग से नियम है फिर होस्पिटल से जो गाड़ी रिफर लेकर जा रही है उसमें इस कोरोना के मरीजो को मण्डला ले जाया जा रहा है। कुल मिला कर कोरोना से लड़ने का जो होम वर्क होना चाहिए वो जिला प्रशासन के पास नजर नही आ रहा है नही। वही सूत्रों की माने तो जिले के जनप्रतिनिधि जिला के कम्बल ओढ़ के अपने घरों में कैद है।महज सरकती अव्यवस्था के बीच मे सरकारी अमला जूझ रहा है कोरोना से अब इस अव्यवस्था के चलते कहा से आप कोरोना जैसी संक्रमित महामारी से कैसे जीत सकते है बहरहाल जिला का नागरिक अपनी किस्मत के भरोसे है। वही नैनपुर के नागरिक मंच ने जिला की कलेक्टर मेडम हर्षिका जी को चेताया है नगर नैनपुर में सेंटर से भाग कर घर मे आराम कर रहे पॉज़िटिव मरीज़ के विषय पर किस पर आरोप तय किया जाये जिस से ऐसे लापरवाही भरी चूक फिर न हो। जब नगर में 2 भाइयो की रिपोर्ट आई और सेंटर पर जा के देखा गया तो दोनों भाई पलंग पर नही थे जिस की सूचना हम ने जिम्मेदारों को दी। जब ये खुलासा हुआ की वो घर पर आराम फरमा रहे है।

नैनपुर से दीपक शर्मा की रिपोर्ट

No comments:

Post a comment