थाना लांजी से उचित न्याय नहीं मिलने के कारण पीड़िता ने एसपी बालाघाट को किया शिकायत - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Wednesday, August 5, 2020

थाना लांजी से उचित न्याय नहीं मिलने के कारण पीड़िता ने एसपी बालाघाट को किया शिकायत

बालाघाट|लांजी थाना के अंतर्गत ग्राम मोहझरी निवासी दुर्गेश भूते ने बताया कि दिनांक 18 5 2020 को शिकायतकर्ता दुर्गेश भूत की सगी बहन सरस्वती द्वारा फांसी लगाया गया था उक्त घटना की रिपोर्ट पुलिस थाना लांजी में किया गया था उक्त पुलिस बल के साथ-बीट प्रभारी द्वारा ग्राम मोहझरी पहुंच कर घटनास्थल की जानकारी लेते हुए मर्ग कायम कर जांच को विवेचना में लिया गया किंतु उक्त जांच प्रभारी द्वारा सत्यता की जांच ना करते हुए साक्ष्य को छुपाने का कार्य किया गया

शिकायतकर्ता द्वारा आगे बताया गया कि मेरी छोटी बहन सरस्वती दिनांक 18 5 2020 को रात्रि में सपरिवार सहित खाना खाकर प्रतिदिन की तरह खाना खाकर सो गई थी किंतु सुबह लगभग 5:00 बजे मेरी मां गीताबाई शौच करने के लिए बाड़ी में गई तब उसने देखा की सरस्वती जाम के पेड़ पर रस्सी से लटकी हुई है

यह की घटना दिनांक को शिकायतकर्ता के घर हो या किसी भी व्यक्ति के साथ अपीलीय घटना घट जाए तो उसकी जानकारी तुरंत नहीं मिल पाता


चुकीं उक्त मृतिका सरस्वती घटना दिनांक के समय किसी बात को लेकर परेशान  थी किंतु परिवार के लोग परेशानी की समस्या को समझ नहीं पाए और उनको आभास नहीं हुआ की सरस्वती मानसिक रूप से परेशान है

शिकायतकर्ता दुर्गेश भुते ने बताया कि सरस्वती के आत्महत्या करने के 1 सप्ताह बाद बकरी चराने गया था वहीं पर दोनों वाद विवाद करने लगे   ग्राम के मुकेश पिता जियालाल आठवडे देखा जो सरस्वती के मरने के पश्चात परिवार के सदस्यों को बताया की मृतक सरस्वती के लाश के पास एक मोबाइल प्राप्त हुआ है जिसका मोबाइल नंबर ९१६५५१७५३५ है जो मृतक सरस्वती बाई का है

जिस पर घटना दिनांक को लगभग 8 10 बार मैसेज एवं फोन काल मृतिका के फोन पर फोन आया जिसका मोबाइल नंबर ९३४०२८७१०६ से किया  गया मृतक के मोबाइल मोबाइल पर चार बार मैसेज किए गए जिसमें लिखा था कि आपने जो मुझे गाली गलौज दिए वह मुझे सहन नहीं हो रहा है ऐसी गाली आप किसी को मत देना एक मैं तो जा रही हूं आपकी लाइफ से अब अपनी जिंदगी में खुश रहना आपने मेरी कभी इज्जत नहीं किया और मैं आपके साथ सब कुछ करने के बाद भी मुझे गाली गलौज दिए जो मैं सहन नहीं कर पा रही हूं और मैं अपनी जान दे रही हूं मैं आपसे बहुत प्यार करती थी लेकिन आप इस प्यार को कभी समझ ही नहीं पाय उक्त मैसेज से ऐसा प्रतीत होता है कि उक्त घटना में प्रेम प्रसंग बना हुआ था और मुक्त मोबाइल क्रमांक के संबंधित व्यक्ति से प्यार था ।


जबकि थाना प्रभारी लांजी को मृतिका सरस्वती बाई का फोन मिला और अभी भी फोन लांजी पुलिस के गिरफ्त में है किंतु जांच प्रभारी द्वारा मुख्य बिंदु को आधार न मानकर शिकायतकर्ता दुर्गेश भूते को गोल गोल घुमाया जाकर प्रताड़ित किया जा रहा है जो अ संवैधानिक है

अगर जांचकर्ता पुलिस अधिकारी द्वारा सही मामले को तूल पकड़ कर मोबाइल नंबर एवं मैसेज की जानकारी को लेकर जांच करे तो दूध का दूध और पानी का पानी निकल जाएगा

चुकी इस संबंध में शिकायतकर्ता द्वारा सीएम हेल्पलाइन नंबर  11849506 पर शिकायत दर्ज कराया गया किंतु अभी तक शिकायतकर्ता को उचित न्याय नहीं मिल पाया है

रेवांचल टाइम्स बालाघाट से खेमराज बनाफरे की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment