लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे फर्जी झोला छाप ड़ाक्टर - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, 20 July 2020

लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे फर्जी झोला छाप ड़ाक्टर


झोला छाप ड़ाक्टरो द्रारा संचालित की जा रही है अघोषित क्लीनिंक ।      
 ( ग्रामीण अंचलों मैं लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे फर्जी झोला छाप ड़ाक्टर )       
                     
रेवांचल टाइम्स - जिले में एक लम्बे समय से ग्रामीण अंचलों मैं देखा जा रहा हैं कि यहाँ की भोली भाली जनता को गाँव गाँव अघोषित कम पढ़े लिखे झोला छाप ड़ाक्टरो की फौज अपनी क्लीनिंक संचालित कर यहाँ पर बड़ी से बड़ी गम्भीर बीमारियों के इलाज का दावा कर अच्छी खासी रकम बटोर रहे हैं । वही नैनपुर शासकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मैं पदस्थ बी  एम ओ एवं इनके अधीनस्थ पदस्थ शासकीय ड़ाक्टरो के नाक के नीचे झोला छाप ड़ाक्टरो की दुकान दारी चल रही है । जिला कलेक्टर मण्ड़ला एवं संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के सख्त निर्देशों के बावजूद आज दिनों तक गाँव गाँव  झोला छाप ड़ाक्टरो की क्लीनिंको पर कोई भी निष्पक्ष जांच कर काय॔ वाही नहीं किया गया । उल्टे ऐसे झोला छाप ड़ाक्टरो को बढ़ावा देकर इनसे अच्छी खासी कमाई करने से बाज नहीं आ रहे हैं । नैनपर विकास खण्ड क्षैत्र का ऐसा कोई भी गाँव बाकी नहीं है जहाँ पर झोला छाप ड़ाक्टरो की क्लीनिंक न खुली हो । यहाँ पर झोला छाप ड़ाक्टरो का बोल बाला काफी बढ़ गया है । न यहाँ पर ड़ाक्टरी करने वालों के पास कोई उचित लाइसेंस है ओर न ही इनके पास दवाई दुकान संचालन की ड़िग्री । फिर भी इनके द्रारा धड़ल्ले से गरीब मजबूर को लगातार लूटने का काम किया जा रहा है । इनके खिलाफ कोई विभागीय काय॔ वाही न होना समझ से परे है ।वैसे तो शासन द्रारा इलाज करने और इलाज के लिए लगने वाली दवा को विक्रय करने के लिए एक निश्चित माप दंड तैयार किया गया है । उसी के अधार पर ड़ाक्टर  को इलाज करने के लिए एम बी बी एस या उसके समकक्ष की ड़िग्री होना अनिवार्य है । ठीक उसी प्रकार से दवाई दुकान के संचालन के लिए फार्मासिस्ट की ड़िग्री अनिवार्य है लेकिन इस समूचे क्षैत्र मैं मानो इनको खुली छूट मिली हो । इसके कारण  इनके द्रारा खुल्लम खुल्ला अवैधानिक तरीके से इलाज करते देखा जा सकता है और इनके क्लीनिंक पर अघोषित दवाई का संचालन होते भी देखा जा सकता है ।                                विभागीय अमला बेपरवाह==  ग्रामीण अंचलों मैं झोला छाप ड़ाक्टरो के द्वारा गरोबो की जान से खिलवाड़ किए जाने की चर्चा हमैशा सुर्खियों मैं बनी रहती है किन्तु  उच्च  अधिकारियों का ग्रामीण अंचलों मैं दौरा और निरीक्षण न होने से झोला छाप ड़ाक्टरो के हौसले बुलंद हैं । वनांचल मै साफ दिखाई देगा कि कुछ कतिपय झोला छाप ड़ाक्टर शहरों मैं बैठे ड़ाक्टरो के यहाँ सुई लगाना , ट्रप बाटल लगाना , दवाई गोली का नाम जानने की ट्रेनिंग लेने के बाद यहाँ पर आकर बेधड़क बेरोकटोक  अपनी दुकान दारी संचालित कर रहे हैं । ये अघोषित ड़ाक्टर गरीब आदिवासी और बैगा जनजातियो के जान से खिलवाड़ कर रहे हैं । बावजूद  इन पर कोई शिकंजा नहीं कसा जाता । गाँवों मैं स्वास्थ्य सुविधाओं की  हमैशा कमी के कारण मजबूरन ग्रामीण जनता अघोषित फर्जी झोला छाप ड़ाक्टरो से इलाज करा रहे हैं । ग्रामीण क्षेत्रों मैं जहाँ पर शासन की स्वास्थ्य सुविधा नहीं पहुँच पाती , वहां पर झोला छाप ड़ाक्टर चाँदी काट रहे हैं । बिना किसी रोक- टोक के ग्रामीणों का इलाज कर रहे है । इलाज के दौरान कब और कैसे बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति की मृत्यु हो जाये यहाँ पर निश्चित नहीं है । बिना किसी ड़िग्री के खुद को ड़ाक्टर बताते है और सामान्य टेबलेट  एवं इंजेक्शन खरीदकर यह अपना अवैध कारोबार संचालित कर रहे हैं । कुछ गाँवों मैं तो रेड़क्रास के चिन्ह का उपयोग करते हुए ड़ाक्टर का बोर्ड लगाकर दुकानदारी चमकते दिखाई देगी । बहरहाल जिला कलेक्टर मण्ड़ला एवं संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से जन माँग की गई है कि  नैनपुर विकास खण्ड क्षैत्र के ग्रामीण अंचलों मैं अघोषित झोला छाप ड़ाक्टरो की क्लीनिंको की निष्पक्ष उच्चस्तरीय जांच कर झोला छाप ड़ाक्टरो के खिलाफ सख्त काय॔ वाही सुनिश्चित की जाये ।

No comments:

Post a comment