डिंडोरी: स्वच्छ पानी पीने को मोहताज भदराटोला - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, June 9, 2020

डिंडोरी: स्वच्छ पानी पीने को मोहताज भदराटोला

गैर जिम्मेदारों के चलते भदराटोला वासियों की पेयजल की समस्या का नहीं हो पा रहा है निदान, स्वच्छ पानी पीने को मोहताज भदराटोला गर्मी गुजरने को है
पीने को पानी नही जिम्मेदार कर रहे बड़े बड़े दावे

रेवांचल टाइम्स, डिंडोरी -बजाग,9 जून 2020, नल जल योजना, सतही जल योजना, हर घर तक शुद्ध पेयजल, के सरकारों के दावे और अरबों खरबों करोड़ों की परियोजनाएं आमजन के साथ मात्र छलावा है। स्थानीय निकाय पंचायत, जनपद, जिला पंचायत, पीएचई विभाग 
उसका पेयजल समस्या के निदान के लिए स्थापित होने वाला कंट्रोल रूम और जिले में पेयजल के लिए टैंकरों से आपूर्ति के नाम पर लाखों रुपए  कौन डकार जाता है पता नहीं। पर एक आदिवासी गांव के लोगों के पास 50 साल पुराना एक जर्जर कुआं जिसका सुधार भी न करवा पाने वाली व्यवस्था निकम्मी है।
उल्लेखनीय है कि जनपद पंचायत बजाग की विक्रमपुर पंचायत के भदरा टोला में एकमात्र हैंडपंप बंद है जिससे सिर्फ हवा ही निकल रही है पानी के नाम पर पूरी गर्मी गुजर चुकी है और यहां लोग दूरी पर बने एक पुराने बिल्कुल जर्जर हो चुके कुएं से पीने का पानी लाने को मजबूर है, जिसमें न तो पर्याप्त पानी है न ही पीने के लिए उपयुक्त माना जा सकने वाला जल। इस पूरे मामले पर रेवांचल टाइम्स ने 29 मई को खबर प्रसारित किए जाने के साथ ही ग्राम पंचायत के सचिव, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी सेवा विभाग के कार्यपालन यंत्री से चर्चा भी की थी। मैदानी अमले को जानकारी नहीं थी अब कार्यपालन यंत्री पीएचई विभाग का कहना है कि उन्होंने अपनी रिपोर्ट जनपद को दे दी है टैंकर से पेयजल की व्यवस्था करवाना उनका कार्य है।
ग्राम पंचायत ने पूरी गर्मी में मात्र एक दिन एक टैंकर पानी ग्राम वासियों को देकर अपना पल्ला झाड़ लिया है। समस्या जस की तस है ग्रामीणजन हलकान है। जिम्मेदार कागजों पर खानापूर्ति करने में जुटे है।
भगवान भरोसे ग्रामीण जर्जर कुंए से लेकर पानी पीने को मजबूर,कौन जाने कब कोई बड़ी बीमारी हो सकती है दुसित पानी पीने से
यहां न नल जल योजना बनाई गई न कोई कुंआ बनाया गया न ही बंद पड़े हैंडपंप का सुधार हुआ, जैसे तैसे भटकते गरीब मजदूरों की प्यास बुझा रहा है एक जर्जर कुंआ और जिम्मेदार झूठी जानकारियों के बूते अपनी नौकरी चला रहे हैं। 

ग्राम पंचायत सचिव का कहना है टैंकर से पेयजल आपूर्ति की जा रही है गांव में एक कुएं का निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया है। आज हम फिर टैंकर भेजेंगे जर्जर कुएं की सफाई भी करवा दी गई है।
पंचायत के दावे जो भी हो पर पूरी गर्मी गुजरने के बाद कल रेवांचल टाइम्स के संवाददाता ने गांव के लोगों से चर्चा की और उन्होंने बताया कि अब तक समस्या का कोई समाधान पूरी तरह नहीं किया गया है सिर्फ एक टैंकर पानी एक दिन भेजने के बाद पंचायत के ग्रामीणों को ठेंगा दिखा कर अपनी जवाबदारी पूरी कर ली है लोग अब भी परेशान है। पर इसका हल निकालने जिम्मेदारों का कोई
 अता पता नही है।
रेवांचल टाइम्स से अविनाश टांडिया की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment