पहले हमें विकल्प तलाशने होंगे - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, June 23, 2020

पहले हमें विकल्प तलाशने होंगे

रेवांचल टाइम्स - भारत और चीन के बीच का तनाव सीमा से चलकर अब नागरिक समाज में उतर आया है | सवाल यह है की चीन  का बहिष्कार कहाँ से कहाँ तक | भारत और चीन के बीच  संघर्ष तो 1962 से चला आ रहा है| परन्तु चीन ने पिछले कई वर्षों में जिस तरह भारत में पांव पसारे हैं  कि भारत के रसोई घर, बेडरूम और ऑफिस, सभी स्थानों पर चीन किसी-न-किसी रूप में मौजूद है|
शाओमी, वीवो, ओपो से लेकर टीवी, फ्रिज बनाने वाली कंपनी से लेकर एमजी मोटर्स तक सभी चीनी कंपनियां हैं| मुख्य रूप से भारत को विभिन्न उद्योगों में इस्तेमाल होने वाली मशीनरी, टेलिकॉम उपकरण, बिजली से जुड़े उपकरण, दवा उद्योग में इस्तेमाल होने वाले अधिसंख्य रसायन भारत को निर्यात करता है| भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा दवा निर्माता है, लेकिन दवा के निर्माण के लिए 70 प्रतिशत थोक दवा, जिन्हें तकनीकी भाषा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल्स इंग्रेडिएंट्स कहते हैं, उनका आयात चीन से करता है|
अगर चीनी आयात पर असर पड़ा, तो असर दवा,ऑटो, इलेक्ट्रानिक वस्त्र टेलीकाम क्षेत्र में दिखेगा | ये आयत प्रभावित होंगे | दो चीनी कंपनियों- जेडटीई और हुवाई ने भारतीय टेलिकॉम कंपनियों को 15 अरब डॉलर मूल्य और उनकी कुल जरूरत के 40 प्रतिशत  उपकरण प्रदाय किये हैं| भारत की सोलर परियोजनाओं में 78 प्रतिशत उपकरण चीन निर्मित हैं|देश में स्थापित 61371 मेगावाट क्षमता के बिजली संयंत्र चीन में बने उपकरणों पर चल रहे हैं| लगभग 75 प्रतिशत मोबाइल फोन बाजार पर चीनी कंपनियों का कब्जा है. आप अपने घर-परिवार में देखिए, अधिकांश मोबाइल चीनी कंपनियों के हैं | भारत में बिकने वाले हर दस में से आठ स्मार्टफोन चीनी कंपनियों के हैं| भारत में स्मार्टफोन बनाने वाली पांच शीर्ष कंपनियों में चार चीन की हैं|
कहने को भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल निर्माता है, इसमें चीनी कंपनियां भी शामिल हैं, लेकिन हम मोबाइल सीधे चीन से आयात नहीं करते हैं| मेक इन इंडिया के तहत चीनी कंपनियां उनका निर्माण भारत में करती हैं| यह सेक्टर सात लाख लोगों को रोजगार देता है|

        भारत और चीन के बीच कारोबार की स्थिति पर भी एक नजर सन् 2000 में भारत और चीन के बीच कारोबार केवल तीन अरब डॉलर का था| अब चीन अमेरिका को पीछे छोड़ कर भारत का सबसे बड़ा कारोबारी साझेदार है| वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार सन् 2018 में दोनों देशों के बीच कारोबार 89.71 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया, पर व्यापार संतुलन चीन के पक्ष में था यानी भारत से कम निर्यात हुआ और चीन से आयात में भारी बढ़ोतरी हुई|भारत ने जो सामान निर्यात किया, उसकी कीमत केवल 13.33 अरब डॉलर थी, जबकि चीन से 76 .अरब डॉलर का आयात हुआ यानी 63.05 अरब डॉलर का व्यापार घाटा था|
 इसी तरह 2019 में चीन से 70.31अरब डाॅलर का आयात हुआ, जबकि 16.75 अरब डाॅलर के उत्पाद निर्यात किये गये. इसका मतलब है कि चीन ने भारत के मुकाबले चार गुने से भी अधिक का सामान बेचा| चीन ने भारत में ई-कॉमर्स, फिनटेक, मीडिया, सोशल मीडिया और लॉजिस्टिक्स में चीनी कंपनियों ने भारी निवेश कर रखा है.
क्या ऐसे में अचानक चीन पर अपनी निर्भरता समाप्त कर सकते हैं?  इसका जवाब शायद नहीं ही है | इसके लिए लंबी मुहिम चलानी होगी और धीरे-धीरे हमें चीनी उत्पादों पर अपनी निर्भरता समाप्त करनी होगी. इसके लिए सबसे पहली शर्त होगी कि हमें सस्ते और टिकाऊ विकल्प उपलब्ध कराने होंगे| विकल्प तलाशने होने ?
                                        राकेश दुबे

No comments:

Post a Comment