अंजनिया चौकी पुलिस सायबर अपराधों के प्रति जागरूकता अभियान चला रही - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, June 7, 2020

अंजनिया चौकी पुलिस सायबर अपराधों के प्रति जागरूकता अभियान चला रही

अंजनिया चौकी प्रभारी के द्वारा सायबर अपराधों के प्रति जागरूकता अभियान चला रही है 

लॉक डाउन खुलने के बाद पुलिस साइबर अपराधियों के प्रति लोगों को जागरूक कर रही है ।पुलिस अधीक्षक मंडला के मार्गदर्शन में चौकी प्रभारी अंजनिया दुर्गा प्रसाद नगपुरे द्वारा अपने चौकी क्षेत्र के सभी ग्रामों में मुनादी तथा एलाउंसमेंट कराकर साइबर अपराध से बचने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है।वहीं सायबर अपराधियों द्वारा अपनाये जाने वाले तरीकों से भी अवगत कराया जा रहा है।
ऑनलाइन इंटरव्यू के प्रति सतर्क रहें-
उपनिरीक्षक नगपुरे ने बताया कि कहीं किसी ऑनलाइन वेबसाइट पर आपने नौकरी के लिए आवेदन किया है तो साइबर अपराधी उस वेबसाइट से आपका नंबर चुरा कर आपको कॉल कर सकते हैं कि आपने जिस नौकरी के लिए अप्लाई किया है, उसमें आपका चयन कर लिया गया है। इसके लिए आपका ऑनलाइन इंटरव्यू लेंगे और उसके बाद आपसे  इंटरव्यू चार्ज के नाम पर कुछ रूपये वसूल लेंगे। कुछ दिनों बाद फिर कॉल करके आपसे कहेंगे कि आपको ट्रेनिंग पर आना है,तब आपसे ट्रेनिंग चार्ज के नाम पर कुछ रुपये वसूल करेंगे तथा लगातार किसी न किसी बहाने आपसे पैसे लेते रहेंगे और अंत में आपको पता चलेगा कि आप साइबर ठगी के शिकार हो चुके हैं।
 ऑनलाइन सस्ते वाहन खरीदने के पहले करें तस्दीक-

 उप निरीक्षक नगपुरे ने बताया कि ऑनलाइन सस्ते वाहन खरीदने के चक्कर में बहुत से लोग ठगी का शिकार हो चुके हैं। इस प्रकार से ठगी करने वाले  लोग प्रायः व्हाट्सएप  या अन्य सोशल साइट में  यह प्रचारित करते हैं कि मैं सस्ते दर पर अपने वाहन को बेच रहा हूं। वह व्यक्ति व्हाट्सएप पर आपको गाड़ी की फोटो व डाक्यूमेंट्स भेजेगा जिसे चेक करने पर आप पाएंगे कि यह बिल्कुल सही है। फिर वह व्यक्ति कॉल करके आपसे एडवांस के नाम पर  कुछ रुपये जमा करवा लेगा या फिर ट्रांसपोर्ट चार्ज के नाम पर कुछ रुपए आपसे जमा करवा लेगा या फिर खुद को आर्मी के जवान बताकर वाहन बेचने के नाम पर आपसे धोखाधड़ी कर रूपये वसूल कर लेगा और अंत में आपको पता चलेगा की आप ठगे जा चुके है।

बैंकिंग डिटेल्स देनें से बचें,बैंक से संपर्क करें -

नगपुरे ने बताया कि साइबर ठगों द्वारा बैंक अकाउंट धारकों को कॉल किया जाता है और कहा जाता है कि आपका बैंक खाता, एटीएम बंद होने वाला है आपको जानकारी अपडेट करानी है तथा  जानकारी देने के बाद आपके मोबाइल में ओटीपी आएगा वह बताना है।तब आपका बैंक खाता या ए.टी.एम बंद नहीं होगा और जैसे ही यह जानकारी आप देते हैं ।आपके बैंक खाते से पैसे निकल चुके होते हैं।इनके अलावा कई बार लॉटरी, इनाम, विदेश यात्रा,एक महीने में पैसे डबल या आपके किसी दोस्त की फेसबुक आई डी हैक कर फेसबुक मैसेंजर  मे आपसे पैसों की मांग की जाती है । तथा अन्य कई प्रकार के प्रलोभन के नाम पर आपके पास कॉल आता है और आप जानकारी के अभाव में सायबर अपराधी कॉलर को अपने बैंक खाता व ए.टी.एम की जानकारी व ओटीपी दे देते हैं जिसके माध्यम से यह अपराधी आपके बैंक खाता से आपकी मेहनत की कमाई की राशि उड़ा ले जाता है।या इन सायबर अपराधियों की  बातों में आकर आप इन्हें पैसे जमा कर देते हैं तथा बाद में आपको पता चलता है कि आप ठगी का शिकार हो चुके हैं ।इसलिए इस प्रकार की कॉल आने पर आप अपनी बैंक खाते से एटीएम की जानकारी किसी को मोबाइल फोन पर न दें। 

इनका कहना है

आजकल सायबर अपराधी ठगी के नये नये तरीके अपना रहे हैं।अपनी गोपनीय जानकारी किसी भी को न दें।संदेह होने पर संबंधित बैंक जाकर तस्दीक करें व तत्काल पुलिस को सूचना दें।दुर्गा प्रसाद नगपुरेचौकी प्रभारी अंजनिया


रेवांचल टाइम्स से राकेश पटेल अंजनियां की खबर

No comments:

Post a Comment