अगर आप भी यूज करते हैं वेस्टर्न टॉयलेट तो जान लें इसके नुकसान, हो सकती है ये गंभीर समस्याएं - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Thursday, January 5, 2023

अगर आप भी यूज करते हैं वेस्टर्न टॉयलेट तो जान लें इसके नुकसान, हो सकती है ये गंभीर समस्याएं



आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी और खराब लाइफस्टाइल की वजह से लोगों को कई तरह की समस्याएं हो रही हैं। स्वस्थ रहने के लिए सिर्फ हमारा खानपान ही नहीं बल्कि हमारी डेली रुटीन की कई आदतें भी काफी मायने रखती हैं। आजकल लोगों की लाइफस्टाइल बदलती जा रही है। घर में भी लोगों को तमाम तरह की सुविधाएं चाहिए। ऐसे में हमारे घर में भी काफी बदलाव हो रहे हैं। आजकल हर घर में इंडियन टॉयलेट की जगह वेस्टर्न टॉयलेट ने ले ली है। वेस्टर्न टॉयलेट आरामदायक तो होता है लेकिन यह आपकी सेहत के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है। जानते हैं वेस्टर्न टॉयलेट सीट से होने वाले नुकसानों के बारे में और यह किस तरह से आपकी सेहत बिगाड़ सकती है।

कब्ज का कारण
पेट साफ करने के लिए बॉडी की पोजीशन काफी मायने रखती है। इंडियन टॉयलेट सीट में पूरे शरीर की मूवमेंट होती है। इसमें पंजे से लेकर सिर तक पूरी बॉडी पर दबाव लगता है। इससे पेट अच्छी तरह साफ होता है। लेकिन वेस्टर्न टॉयलेट में सही बॉडी पोजीशन न बन पाने के कारण इससे एनस और पेट की मसल्स पर कम दबाव पड़ता है, जिससे पेट ठीक से साफ नहीं हो पाता और कब्ज की समस्या होने लगती है।

इंफेक्शन का खतरा
वेस्टर्न टॉयलेट के इस्तेमाल से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। वेस्टर्न टॉयलेट में ज्यादातर लोग टिशू पेपर का इस्तेमाल करते हैं, जिससे संक्रमण का खतरा रहता है। एक रिसर्च के अनुसार, वेस्टर्न टॉयलेट का इस्तेमाल करने से महिलाओं में इंफेक्शन का खतरा भारतीय टॉयलेट की तुलना 78.2 फीसदी बढ़ जाता है।

पाइल्स की समस्या
लगातार वेस्टर्न टॉयलेट का इस्तेमाल करने से कब्ज की समस्या लंबी बीमारी में बदल सकती है। ऐसे में मल त्यागने के दौरान एनस की मांसपेशियों पर काफी जोर पड़ता है। पेट साफ करने के लिए जोर लगाने से लोअर रेक्टम और एनस की नसों में सूजन आ जाती है, जो पाइल्स बन जाती है।

अपेंडिक्स का खतरा
वेस्टर्न टॉयलेट बैठने के लिए भले ही आरामदायक हो,लेकिन यह आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक भी है। वेस्टर्न टॉयलेट में मल त्यागने के लिए पेट पर काफी ज्यादा जोर लगाना पड़ता है। ऐसे में पेट पर पड़ रहे इस दवाब की वजह से अपेंडिक्स का खतरा भी काफी बढ़ जाता है।

फ्रेश होने में लगता है ज्‍यादा समय
इंडियन टॉयलेट में फ्रेश होने में टाइम भी कम लगता है। इसमें पेट साफ होने में 3 से 4 मिनट का समय लगता है। वहीं वेस्टर्न सीट पर 5 से 7 मिनट लग जाते हैं। कई बार लोगों को पेट ठीक से साफ नहीं होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इंडियन टॉयलेट का इस्तेमाल करने से पेट और पाचन तंत्र पर दबाव आता है, जिससे पेट जल्द साफ हो जाता है।

No comments:

Post a Comment