कड़ाके की ठंड में डिहाइड्रेशन की प्रॉबलम के साथ कब्ज के जोखिम को इन तरीकों से करें दूर - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Monday, January 2, 2023

कड़ाके की ठंड में डिहाइड्रेशन की प्रॉबलम के साथ कब्ज के जोखिम को इन तरीकों से करें दूर



सर्दियों का मौसम चल रहा है और नॉर्थ इंडिया में कड़ाके की ठंड हो रही है। पारा दिन ब दिन नीचे आता जा रहा है, जिससे हाड़ कंपाने वाली सर्द हवाएं शरीर को चीरती हुई जाती है और ऐसे मौसम में लोग पानी पीने से थोड़ा परहेज़ करते हैं, जिसकी वजह से उनको डिहाइड्रेशन का सामना करना पड़ता है। डिहाइड्रेशन की वजह से एक और समस्या निकल कर बाहर आती है और वो है कब्ज की प्रॉब्लम। कब्ज और डिहाइड्रेशन का नाता पुराना है और सर्दियों में इनका रिश्ता और मजबूत हो जाता है। लोग काम में व्यस्त हो जाते हैं, जिसकी वजह से पानी पीना भूल जाते हैं। पानी न केवल भोजन को पचाने के लिए जरूरी है बल्कि कई तरीकों से पूरे शरीर की जरूरत को भी पूरा करता है। अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहने का मतलब है कि पसीने के दौरान लिक्विड सब्सटेंस के नुकसान को पूरा करने के लिए पर्याप्त पानी पीना, और एक्सरसाइज के दौरान, भोजन को तोड़ने और मल को आसानी से पास करने के लिए लिक्विड डाइट की एक निश्चित मात्रा की भी जरूरत होती है।

डिहाइड्रेशन : कब्ज का कारण जब आप खाना खाते हैं, तो ये पेट से आप की आंत में जाता है। जहां पर लिक्विड सब्सटेंस अबजॉर्ब्ड हो जाता है, जिससे डिस्चार्ज करना मुश्किल हो जाता है। व्यायाम की कमी, एक जगह पर अधिक समय तक बैठना, आहार में फाइबर की कमी हो सकती है। आम तौर पर, कब्ज तब भी देखा जाता है जब एक व्यक्ति तेज बुखार में हो या फिर यात्रा कर रहा हो, इसके साथ ही किसी बीमारी को लेकर बहुत अधिक दवाईयां ले रहा हो। क्योंकि इस दौरान पानी का इनटेक कम हो जाता है। ऐसा गर्भावस्था के दौरान भी हो जाता है। पानी पीने से मल को नरम और पास करने में आसानी होती है। फाइबर रिच फूड और प्रोटीन डाइट खाने से भी कब्ज हो सकता है। हालांकि, पर्याप्त पानी पीने और प्रोटीन के साथ अधिक सब्जियां और फल खाने से मल के फ्री फ्लो को कम किया जा सकता है। बहुत अधिक कैफीन युक्त पेय जैसे कॉफी, चाय, कोला और शराब पीने से भी डिहाइड्रेशन होता है।


महिला और पुरूष को रोज कितना पानी पीना चाहिए ? इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन के फूड एंड न्यूट्रिशन बोर्ड के सुझाव के अनुसार, महिलाओं को उनके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से प्रतिदिन 91 औंस पानी औरर पुरुषों को लगभग 125 औंस पानी मिलना चाहिए।

पानी के अलावा और कौन से तरल पदार्थ मुझे हाइड्रेटेड रखने में मदद कर सकते हैं? सब्जियों के रस, साफ सूप और हर्बल चाय भी तरल पदार्थों के अच्छे स्रोत हैं। फलों के रस, हाइड्रेट करते समय, बहुत अधिक अनावश्यक शक्कर होते हैं


शराब से दूर रहें। ये एक डायोरेटिक है, जो आपके शरीर से पानी से छुटकारा दिलाता है और निर्जलीकरण की ओर ले जाता है। कॉफी, चाय और कोला जैसे कैफीनयुक्त ड्रिंक भी डायोरेटिक होते हैं, लेकिन जब तक आप मध्यम मात्रा में पीते हैं, तब तक वे डिहाइड्रेशन का कारण नहीं बनेंगे।


No comments:

Post a Comment