आदिवासी जिला मंडला में प्रधानमंत्री आवास योजना बनी भ्रष्टाचार करने की योजना जिम्मेदारो ने मचाई लूट, पोर्टल बना मज़ाक, रोजगार सहायक ने पैसे लूट में नहीं छोड़ी कोई कसर... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, January 4, 2023

आदिवासी जिला मंडला में प्रधानमंत्री आवास योजना बनी भ्रष्टाचार करने की योजना जिम्मेदारो ने मचाई लूट, पोर्टल बना मज़ाक, रोजगार सहायक ने पैसे लूट में नहीं छोड़ी कोई कसर...






रेवांचल टाईम्स - आदिवासी बाहुल्य जिला इन दिनों सरकारी योजनाएं केवल भ्रष्टाचार के लिये उपयोग किया जा रहा है जिम्मेदार उन हितग्राहीमूलक योजनाओं में हितग्राहियों से बिना फ़ाइल खर्च के कोई काम नही करते है। जिस कारण आज भ्रष्टाचार नही रुक रहा है यू कहे कि आज ये सेवा शुल्क के रूप में काम किया जा रहा है बिना लिए दिये कोई काम नही ग्राम पंचायतों से लेकर जिलों तक मे काम नही होते है।

        मण्डला देश के कोने कोने को गरीब अब आवास हीन न रह सके जिसके लिए सरकार रोटी, कपड़ा और मकान से जीवन जीने की मूलभूत आवश्यकताऐं दे रही हैं और उन गरीबो को उनका हक मिल सके वो हर यथा सँभव प्रयास कर रही हैं जिसे पूरा करने के लिये सभी सरकारें प्रतिबद्ध होती है जिसको लेकर केंद्र में जो भी सरकारें रही हैं प्रमुखता से रोटी, कपड़ा और मकाल के कान्सेप्ट को अपनाती हैं। देश के हर गरीब को पक्की छत नव हो जिसके लिये सरकारों द्वारा विभिन्न योजनाएं संचालित हो रही हैं  वतर्मान में हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी सोच व गरीबों के हितों को देखते हुए ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों प्रधान मंत्री आवास योजना लागू की जिसमें मापदंडों को निर्धारित किया गया है साथ ही साथ गुणवत्ता व पारदर्शिता का भी ध्यान रखा जा रहा है। पर आवंटित -प्रधानमंत्री आवास सभी पात्र हितग्राहियों को मिल सके व उनका पक्के मकान का सपना पूरा हो सके जिसके लिये केंद्र व राज्य सरकार हमेशा मॉनिटरिंग बनाये रखते हैं इसके बावजूद भी गरीबों के हक का जो निवाला भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रहे हैं जहाँ पर गरीब हितग्राहियों के आवास सूची में नाम तो आ गये हैं इसके बावजूद इनके आवास कागजो में सिमटकर रह गये हैं।


    वही जानकारी के अनुसार जिले की जनपद पंचायत अन्तर्गत नारायणगंज की ग्राम पंचायत पटेहरा में सरपंच सचिव एवं रोजगार सहायक की मिली भगत से ग़रीबो को मिलने वाली वाली योजनाओं में डाका डाला जा रहा है। 


पहला मामला -

    

ग्राम पंचायत पटेहरा में सूत्रो की जानकारी  रोजगार सहायक उमेश सिंगरोरे के पिता गोरेलाल/बैजनाथ के नाम से पीएम आवास पोर्टल में स्वीकृत बता रहा है। किन्तु यह आवास की किस्त स्वा.गोरेलाल सिंगरोरे की पत्नी   के नाम से निकाली जा रही है, क्योंकि  गोरेलाल  की मृत्यु तकरीबन 1 वर्ष पहले हो चुकी है और आवास की सूची में इन्हीं का नाम बताया जा रहा है। परन्तु किस्त स्व.गोरेलाल की पत्नी  के खाते में दिनांक 30/07/2022 को जियो टेक कर प्रथम किस्त 25 हजार रूपए डाल  दी गयी, जिसपर हितग्राही द्वारा प्लंथ का काम नहीं कराया और पंचायत रोजगार सहायक की मिली भगत से अपनी मां के आवास का जियोटेग दिनांक 05/12/2022 को पंचायत द्वारा किया गया और द्वितीय किस्त भी हितग्राही के खाते में  45 हजार  दिनांक 05/12/2022 को पुनः डाल दी गयी। जब इस संबंध में शिकायत आने लगी तो आननफानन में रातों रात प्लंथ काम कराया। जिसकी जांच उपरांत स्पष्ट हो सकेगा। पंचायत द्वारा ऐसा क्यों किया गया की आवास की स्वीकृति किसी के नाम तो किस्त किसी और को जारी की गयी।


दूसरा मामला -

सूत्रों का कहना है कि ग्राम पंचायत पटेहरा में लक्ष्मण पिता किशनलाल के नाम से पीएम आवास स्वीकृत हुआ था जो आवास आज तक नहीं बना और आवास की सभी किस्तें अर्थात आवास कंप्लीट तक की किस्त निकल चुकी हैं। पर आवास निर्माण नहीं हुआ।  जिसमें सचिव रोजगार सहायक से जानकारी ली गई तो उनका कहना है कि हमें नहीं मालूम की पूरा पैसा कैसे निकल गया है। 


तीसरा मामला -

जानकारी में आया है। की ग्राम पंचायत पटेहरा की लापरवाही का नमूना हितग्राही रामकिशोर सिंगरौरे के नाम से आवास स्वीकृत हुआ है पर आवास की राशि की किस्त राम किशोर यादव के खाते में जमा की जा रही है।


चौथा मामला -

पीएम आवास इमलिया बाई पति स्वर्गीय शिवनारायण सिंगरोरे के नाम से स्वीकृति हुआ, जिसकी किस्त  25 हजार रूपए किसी दूसरे क नाम पर डाली गई, जिसमें वह व्यक्ति राशि खर्च कर लिया जिसकी शिकवा शिकायत और सीएम हेल्पलाइन लगने पर आनन फानन मे पंचायत सचिव/रोजगार सहायक एवं पीसीओ द्वारा इमलिया बाई के लड़के अखिलेश सिंगरोरे से ही पैसा यह कहकर लिया गया की अभी तुम सीएम हेल्पलाइन कटवा दो और एक दो दिन के लिए हमें 13 हजार  हमें दे दो हम वह पैसा आपकी मां के खाते में डाल देंगे जिससे उनका आवास का रूका काम प्रारंभ हो जायेगा और आपका पैसा 13 हजार एक दो दिन में आप को वापस  कर दिया जायेगा। किन्तु अखिलेश ने बताया पंचायत सचिव और रोजगार सहायक से मैंने अनेकों बार अपने  पैसा की मांग की गई किन्तु मेरा पैसा वापस नहीं किया जा रहा है।


इनका कहना है - 

आपके द्वारा मामला जानकारी में आया है जल्द जांच हेतु विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया जायेगा।

                            आशाराम भारतिया

                  अध्यक्ष जनपद पंचायत, नारायणगंज, मण्डला

No comments:

Post a Comment