9 साल फिर लुढ़का पारा, 3.6 डिग्री दर्ज किया - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Sunday, January 8, 2023

9 साल फिर लुढ़का पारा, 3.6 डिग्री दर्ज किया



जबलपुर। नए साल के पहले सप्ताह ही जलवेदार हुई ठंड रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड तोड़ रही है। जबलपुर सहित आसपास के जिलों में ठंड कहर बरपा रही है। पूरे महाकोशल सहित विंध्य के हाल बेहाल हैं। जबलपुर में तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस के न्यूनतम आंकड़े पर जा पहुंचा जो सामान्य से 7 डिग्री कम था। 9 साल बाद पारा इतने निचले पायदान पर गया है। इसके पूर्व 2013 को आज ही के दिन 8 जनवरी को तापमान 3.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ था, उसके 9 साल बाद आज 3.6 डिग्री मापा गया। शहरी क्षेत्र तो ठीक बाहरी इलाके और ज्यादा ठंड की चपेट में हैं। खमरिया में पारा करीब 2.5 डिग्री तो वहीं जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्व विद्यालय के मौसम विज्ञान विभाग में पारा 3 डिग्री के आसपास रहा। इधर पड़ोसी जिला कटनी में न्यूनतम तापमान 5 डिग्री सेल्सियस मापा गया। मौसम विदों की मानें तो पारे में अभी और उतार के संकेत मिल रहे हैं।

कोल्ड स्टोर सी ठंड
आज सुबह रिकॉर्ड ठंड के बीच चल रही उत्तरी हवाएं चुभ रहीं थीं। हवा में 86 प्रतिशत आर्द्रता मापी गई। रिकॉर्ड आर्द्रता के साथ कोल्ड हवाओं ने शहर को कोल्ड स्टोर बना दिया था। आज सुबह तो ठीक कल दिनभर गलन भरी हवाओं से लोग ठिठुरे जा रहे थे। आज सुबह तो हाल और बेहाल रहे। सड़कों पर गिनती के लोग दिख रहे थे। रविवार अवकाश दिवस होने के कारण लोग घरों में ही दुबके रहे। सड़क पर रात गुजारने वाले लोग कांपे जा रहे थे।

बच्चे-बुजुर्ग-ह्दयरोगी करें बचाव
कड़कड़ाती ठंड के बीच चिकित्सकों ने बच्चे-बुजुर्ग और ह्दयरोगियों को खास बचाव करने की सलाह दी है। चिकित्सकों को अनुसार कड़ी धूप निकलने के बाद ही घरों के बाहर निकलें। ठंड के सीधे संपर्क आने से बचें। गर्म पानी का सेवन करें। बच्चों को इन दिनों विंटर डायरिय की आशंका रहती है।

बीते सालों में ऐसा रहा पारा
8 जनवरी 2013 3.4
28 दिसंबर 2014 4.8
14 जनवरी 2015 4.7
23 जनवरी 2016 5.6
14 जनवरी 2017 4.6
29 दिसंबर 2018 3.8
29 जनवरी 2019 4.4
21 दिसंबर 2020 5.8
30 जनवरी 2021 4.8
8 जनवरी 2022 3.6

No comments:

Post a Comment