मूलचंद यादव के साथ धोका-धडी कर भतीजे धूपलाल ने हड़पी जमीन ...मूलचंद को उसकी जमीन का पट्टा दिया जाये - सूरज ब्रम्हे - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, November 9, 2022

मूलचंद यादव के साथ धोका-धडी कर भतीजे धूपलाल ने हड़पी जमीन ...मूलचंद को उसकी जमीन का पट्टा दिया जाये - सूरज ब्रम्हे


                 रेवांचल टाईम्स - बैहर जनपद क्षेत्र के ग्राम कुकर्रा के ब्राह्मण टोला में मूलचंद यादव का परिवार उनकी तीन पीढ़ी से निवास करता आ रहा है। मूलचंद यादव के पिता चंद्रभान पिता दमड़ी के द्वारा कुकर्रा ब्राह्मण टोला में सन 1988 में 19.45 एकड़ जमीन खरीदा गया था। 1988 में ही चंद्रभान द्वारा अपने जीते जी उक्त जमीन को अपने चारों पुत्रों के नाम बराबर बाटकर उस जमीन में अलग-अलग चारों का कब्जा दे दिया था। चारों भाई अपनी-अपनी जमीन में खेती कर अपने परिवार का पालन पोषण करने लगे थे। सन 1988 से 2009 तक उक्त जमीन शासकीय राजस्व अभिलेखों में चारों भाईयों का नाम दर्ज था। किंतु 2009 के बाद दो भाई मूलचंद एवं कुन्दन का नाम राजस्व अभिलेखों से छल - कपट पूर्वक काट दिया गया है। मूलचंद के बड़े भाई हरलाल की मृत्यु के पश्चात मूलचंद यादव के बड़े भाई का बेटा धुपलाल यादव ने राजस्व विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारियों से मिलकर छल - कपट और धोका - धडी से मूलचंद और उसके छोटे भाई मृतक कुंदन  का नाम कटवाकर अपने पूरे परिवार के नाम से जमीन का पट्टा ( ऋण पुस्तिका ) बनवा लिया है। जब इसकी जानकारी मूलचंद को लगी तो मूलचंद ने इसकी शिकायत पुलिस विभाग तथा राजस्व विभाग के अधिकारियों को किया। लेकिन धुपलाल पर कोई कार्यवाही नही की गई ना ही धुपलाल द्वारा बनाया गया फर्जी ऋण पुस्तिका को निरस्त किया गया है। इस मामले की शिकायत लेकर जब मूलचंद यादव नरेंद्र मोदी विचार मंच के राष्ट्रीय संयोजक सूरज ब्रम्हे के पास गए तो श्री ब्रम्हे ने प्रेस के माध्यम से शासन प्रशासन को अवगत कराते हुवे कहा कि राजस्व अधिकारी कर्मचारी से मिलकर धुपलाल यादव द्वारा की गई धोका-धड़ी की वे निंदा करते हैं। श्री ब्रम्हे ने कहा कि राजस्व विभाग के अधिकारी-कर्मचारी द्वारा चंद रुपियों की लालच में आकर चारों भाइयों में हिस्से की जमीन को दो भाइयों के नाम कर भाई से भाई को लड़ाने का काम किया है। राजस्व विभाग के अधिकारियों के लालच के कारण आज ओ परिवार एक-दूसरे का दुश्मन बन गया है। जबकि आज भी चारो भाइयों का अपनी-अपनी जमीन पर कब्जा बना हुआ है। नरेंद्र मोदी विचार मंच के राष्ट्रीय संयोजक सूरज ब्रम्हे ने जिला प्रशासन से मांग की है कि शीघ्र ही इस मामले को गंभीरता से लेते हुवे धुपलाल और सम्बंधित कर्मचारियों पर कार्यवाही करते हुवे धुपलाल द्वारा उक्त जमीन का धोका-धडी से फर्जी तौर पर बनाया गया ऋण पुस्तिका को निरस्त कर । मूलचंद यादव एवं कुन्दन यादव के हक कब्जे के नाम की जमीन का पट्टा ( ऋण पुस्तिका ) मूलचंद यादव तथा कुन्दन यादव के परिवार के नाम से बनाया जाये।।

No comments:

Post a Comment