जबलपुर मंडला मार्ग में उदयपुर बना जुंआ फड़ के आकाओ का गढ़ करोड़ो का खेल... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Thursday, November 3, 2022

जबलपुर मंडला मार्ग में उदयपुर बना जुंआ फड़ के आकाओ का गढ़ करोड़ो का खेल...


रेवांचल टाइम्स - मंडला जिले की सीमा के अंदर ग्राम उदयपुर के ग्राम समनापुर में इन दिनों जम कर जुआ खिलाया जा रहा है वही एक नाम चीन होटल ढाबा में सट्टा का भी  अबैध कारोबार तेजी से पनप रहा है वही इस होटल कम ढाबा में लिखने के साथ साथ खाईबाज बैठे हुए है।      

        वही जानकारी के अनुसार जबलपुर एवं मंडला के नामचीन लोग जिन्हे जुंआ फड़ संचालन का आका कहा जाता है! थाना बीजाडांडी के क्षेत्र में जंगल और घरों में की जगह बदल - बदल कर में रोजाना करोड़ो का दांव लग रहा है। वही सूत्र बताते है आकाओ की रोज नाल के रूप में लाखो मिलते है। उदयपुर ओर उसके आसपास के जंगलो और घरों में रोजाना जुआं फड़ का खेल चल रहा रोजाना कई लाखो की जीत-हार का दांव लगाने पुलिस की कार्यशैली में सवालिया निशान लग रहे जगह बदल -बदल कर जुंआ खिलाने वाले आपराधिक प्रबृति का गिरोह में शामिल है। इस अवैध जुआ सट्टा के कारोवार में पुलिस का संरक्षण देने के आरोप लग रहे शाम ढलते ही जुआं फड़ में जुआरी का जमावड़ा देखा जा सकता है। ग्राम उदयपुर और उसके आस पास ग्राम जुआं का गढ़ बनाता हुआ नजर आ रहा है रोजाना जुआं में कई लाखो का दांव लग रहा है जहाँ अपनी किस्मत आजमाने दूर दूर से जुआरी आ रहे रोजाना शाम ढलते ही जुआं के संचालित फड़ो में चार पहिया दो पहिया वाहनों में दर्जनों संख्या में पहुंच जुआरी द्वारा कई लाखो में हार जीत का दांव लगाया जा रहा है।

             वही जानकारी के सनुसार बीते वर्ष में इस जुआ सट्टा के वीजा दांडी थाना अंतर्गत जम कर विवाद हुआ था जिसमे दो गुटों में से एक गुट के खिलाड़ी की मौत हो गई थी इसके बाद भी स्थानीय पुलिस सबक नही ले रही या शायद समय के हिसाब से घटना पुरानी हो चुकी है और इस तरह के खेलों को खुली छूट देकर कोई बड़ी घटना का इंतज़ार कर रही है।

No comments:

Post a Comment