सिविल हॉस्पिटल नैनपुर में पुताई ठेकेदार और उपयंत्री की चल रही हैं। मनमानी... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Friday, September 30, 2022

सिविल हॉस्पिटल नैनपुर में पुताई ठेकेदार और उपयंत्री की चल रही हैं। मनमानी...


रेवांचल टाईम्स - मंडला जिले के अंतर्गत विकास खंड नैनपुर में बने स्वास्थ्य केन्द्र में चल कार्य में भ्रष्टाचार की बू आ रही है दीवार को बीना घिसाई किये ही ठेकेदार कर रहा हैं। पुताई 

     शासन लाख चाह ले कि आम आदमी को अच्छी सुविधाओं से लबरेज रहें मगर उस विभाग के कर्मचारी और ठेकेदार चाहते ही नही की जनता को इसका लाभ मिले और उसका पूरा फायदा अधिकारी कर्मचारी और ठेकेदार मलाई खा कर जनता को भोगने के लिये छोड़ देते हैं। वही जनता सिर्फ चीखने और चिलनने के अलावा कुछ होता हैं। इसी तर्ज पर नैनपुर नगर में 100 बिस्तर का अस्पताल का निर्माण किया गया हैं। जिसकी गुणवत्ता तो उसके इंजीनियर भी नही बता सकते हैं। क्योंकि हॉस्पिटल की दीवार ऐसी की कोई जोर से एक मुक्का मार दे तो हॉस्पिटल की दीवार से आरपार हाथ निकल जाये वही लगतार घटिया निर्माण कार्य की खबर समाचार पत्र में प्रकाशित होती रहीं मगर अधिकारी और उपयंत्री ने एक नही सुनी और हॉस्पिटल की बिल्डिंग का निर्माण कार्य पूरा हुआ और 1 साल के अंदर ही नवनिर्माण भवन की हालत ऐसी हो गई कि  मरम्मत कार्य किये जा रहें हैं। इसी तर्ज पर हॉस्पिटल की पुताई की जा रही हैं। जोकि देखने लायक हैं। क्योंकि विभाग ने जिस ठेकेदार को ठेका दिया है। वो ऐसी पुताई कर रहा हैं। जोकि 1 माह भी नही टिक सकती हैं।


 ठेकेदार दीवार को बिना घिसाई किये कर रहा हैं। पुताई 

      हॉस्पिटल विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के सामने ठेकेदार बिना दीवार की घिसाई किये ही पुताई कर रह हैं। दूसरी तरफ पेंट पपड़ी बनकर उधड़ने भी लगा है। जबकि पुताई हुये मात्र 3 दिन ही हुये हैं। जिस बात की जानकारी संवाददाता के द्वारा अधिकारी और कर्मचारियों से पुताई की लागत और उपयंत्री का नाम और ठेकेदार के नाम की जानकारी चाही गई तो कर्मचारी मौन साधना में चले गये हैं। वही विभाग कार्यवाही करने के बाजये ठेकेदार को खुलकर सहयोग कर रहा हैं। देखना है। कि क्या हॉस्पिटल विभाग ठेकेदार पर क्या कार्यवाही करता हैं। या एक बार मामला कमीशन के चक्कर मे शान्त होकर रह जाता है।

No comments:

Post a Comment