मध्यप्रदेश शासन के द्वारा महिलाओं को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में तो 50/ आरक्षण दिया गया किन्तु अक्षिकक्षिक महिलाओं का कार्यभार संभालने उनके शिक्षित पति है तैयार, खेमराज सिंह... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, July 13, 2022

मध्यप्रदेश शासन के द्वारा महिलाओं को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में तो 50/ आरक्षण दिया गया किन्तु अक्षिकक्षिक महिलाओं का कार्यभार संभालने उनके शिक्षित पति है तैयार, खेमराज सिंह...

 




रेवांचल टाईम्स - हमारा भारत देश दिनोंदिन विकसित नहीं होने का कारण यह है कि हमारे भारत देश में संविधान तो लागू किया गया है किंतु नेताओं के द्वारा या पार्लियामेंट के द्वारा न्यायपालिका का सही तरीके से निर्वाण नहीं हो रहा है बता दें कि मध्यप्रदेश शासन द्वारा तीरीय स्तरीय पंचायत चुनाव में मध्यप्रदेश शासन के द्वारा महिलाओं को 50% आरक्षण दिया गया है किंतु मध्य प्रदेश के ऐसे  अनेक विभिन्न ग्रामीण अंचल है जहां पर महिलाएं अशिक्षित है एवं उनके पति शिक्षित होने के कारण पंचायत की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर  रहे बता दें कि अगर मध्य प्रदेश शासन के द्वारा महिलाओं को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में 50% आरक्षण दिया गया तो महिलाओं को ही अपने कार्य का निर्वहन करने दिया जावे न की विजय हुए महिलाओं के पतियों को पंचायत का कार्यभार संभालने का मौका दिया जाए अभी तक यह देखा गया है कि मध्य प्रदेश शासन के द्वारा महिलाओं को आगे करके मध्य प्रदेश शासन के विरुद्ध एवं संविधान के विरुद्ध महिलाओं के पतियों के द्वारा ग्राम पंचायत का निर्वहन किया जा रहा है ऐसे में सबका विकास सबका साथ कब काम आएगा जब मध्यप्रदेश शासन के द्वारा महिलाओं को 50% आरक्षण देकर चुनाव जितवा है तो मध्य प्रदेश शासन के द्वारा महिलाओं के कार्यक्रमों से पंचायत का निर्वहन किया जावे ना कि उनके पतियों के द्वारा पंचायत का कार्यभार संभाला जावे एक तरफ शासन महिलाओं को 50% आरक्षण देकर चुनाव विजय कराई है किंतु ग्रामीण अंचल में महिलाओं के पतियों के द्वारा ही अपने दबंग ताई को दिखाते हुए पंचायत का निर्वहन किया जाकर अपनी मनमानी कर रहे थे ऐसे में मध्यप्रदेश शासन को यह निर्णय लेना चाहिए कि जिस उम्मीदवार पंचायत चुनाव में  विजय प्राप्त किए हैं उन्हीं के माध्यम से पंचायत का निर्वहन किया जावे न कि कार्यभार संभाले का मौका उनके पतियों के द्वारा तिरीय स्तरीय पंचायत चुनाव का लाभ उक्त महिलाओ के पतिओ को दिया जावे अधिकतर यह देखा गया है कि ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं की एवज में उनके पतियों के द्वारा संविधान के विरुद्ध गलत कार्य करते हुए पंचायत के कार्य भाल का संचालन किया जाता है जो असैवेधानिक है क्योंकि इसमें निम्न स्तर 

 के अधिकारियों का सपोर्ट ज्यादा रहता है 

हम भी खुश और तुम भी खुश वाली बात चरितार्थ है।


रेवांचल टाईम्स लांजी बालाघाट से खेमराज सिंह बनाफरे

No comments:

Post a Comment