ये कैसा सबका साथ सबका विकास आज भी लोगों को ईलाज के लिए खाट का लेना पड़ रहा सहारा, ये जिले की जमी हकीकत...देखे वीडियो... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Saturday, June 18, 2022

ये कैसा सबका साथ सबका विकास आज भी लोगों को ईलाज के लिए खाट का लेना पड़ रहा सहारा, ये जिले की जमी हकीकत...देखे वीडियो...






रेवांचल टाईम्स डेस्क - आदिवासी बाहूल्य जिला में विकास बहुत ही तेजी से बढ़ रहा है जिसका जीता जागता उदाहरण सभी के सामने है हर चुनाव में जनप्रतिनिधियों के  द्वारा केवल लोगो के साथ छलावा के अलावा कुछ नही किया जाता है, आख़िर ये कैसा सबका साथ सबका विकास ये केवल शोलोगन पढ़ने बहुत ही अच्छा लगता पर क्या आज किसी जिम्मेदार ने देखा कि विकास किस ओर तेजी बढ़ रहा है जिले विकास किसका हो रहा, विकास केवल भ्रष्टाचार ग़बन शासकीय राशि का दुरूपयोग का हो रहा है और जनता सब जनती है पर करे भी तो क्या समय समय इन भ्रस्ट लोगो के कारनामों की शिकायतें और अखबारों के माध्यम से पोल खोलती भी है पर जिला प्रशासन इन भ्रस्ट लोगो पर नकेल कसने में न कामयाब है और दिन व दिन जिले में भ्रष्टाचार तेजी से बढ़ रहा जिसका खामियाजा जनता को उठाना पड़ रहा है।


        मंडला के घुघरी के ग्राम बहराटोला में एक प्रसूति महिला सुनिया मरकाम की डिलेवरी की सूचना पर 108 एंबुलेंस कर्मी ईएमटी राजेश, पायलट कोमल, योगेंद्र राजपूत के साथ मौके पर पहुंचे तो मरीज के घर तक कच्चा मार्ग था। जिसके चलते एंबुलेंस कर्मचारियों ने प्रसूति महिला को खटिया में लिटाया और खटिया सहित करीब तीन किमी तक पैदल चलकर एंबुलेंस तक पहुंचे।  प्रसूति महिला को 108 एंबुलेंस से तत्काल तबलपानी उपस्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है।



       आजादी के सात दशक के बाद भी जिले के कई गांव ऐसे हैं, जहां बुनियादी सुविधाएं भी लोगों को नहीं मिल पा रही है। सड़क न होने की वजह से ग्रामीणों को तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसा ही हाल घुघरी विकासखंड के ग्राम बहराटोला का सामने आया है। जहा पर घर की बीमार महिला को अस्पताल तक ले जाने के लिए गांव तक एंबुलेंस नहीं पहुंच सकती है। क्योंकि यहां तक सड़क नहीं बनी है। गांव की दुर्दशा देख ग्रामीण भगवान से यहीं कामना करते हैं कि बीमार न पड़ें। ग्रामीण गांव से किसी बीमार मरीज को खटिया पर टांग कर तीन किलोमीटर दूर  मुख्य मार्ग तक ले जाते हैं। वही एक मरीज को ले जाने के लिए 4 आदमी की जरूरत पड़ती है। नेताओं और अफसरों तक ग्रामीणों ने सड़क को लेकर कई बार आवेदन दिया गया शिकायत की, मगर निदान नहीं हुआ है। वैसे तो 108 एंबुलेंस सेवा जरूरतमंदों के बहुत काम आ रही है। कई बार एंबुलेंस कर्मी अपनी ड्यूटी के साथ मानवता धर्म भी निभाते दिखाई दे रहे हैं। घुघरी के बहराटोला में एक महिला सुनिया मरकाम की डिलेवरी की सूचना पर 108 एंबुलेंस कर्मी ईएमटी राजेश पायलट कोमल, योगेंद्र राजपूत के साथ मौके पर पहुंचे तो मरीज के घर तक वाहन पहुंचने कठिनाई जा रही थी। जिसके चलते एंबुलेंस कर्मचारियों ने मरीज को खटिया में लिटाया और खटिया सहित करीब तीन किमी तक पैदल चलकर एंबुलेंस तक पहुंचे। डिस्ट्रिक मैनेजर कपिल शर्मा ने बताया कि जिले में कई ग्रामीण क्षेत्रों में पक्की सड़क नहीं होने पर इस तरह कठिनाईयां खड़ी हो जाती है, लेकिन एंबुलेंस स्टॉफ हर हालत में मरीज तक समय में पहुंचने की कोशिश करता है। महिला सुनिया बाई को 108 एंबुलेंस से तत्काल तबलपानी उपस्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया स्थानीय आशा द्वारा बताया गया की उक्त महिला की हाई रिस्क प्रेग्नेंसी है।

              राजेश कुमार छाता, एम्बुलेंस पायलट।

No comments:

Post a Comment