चावल दाल का काॅम्बो है बेस्ट, इनके पोषक तत्वों के बारे में जानिए - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, June 16, 2022

चावल दाल का काॅम्बो है बेस्ट, इनके पोषक तत्वों के बारे में जानिए

 



रेवांचल टाईम्स:चावल दाल (Rice-Pulse) को भारतीय खाने में बहुत ही तवज्जों दी जाती है. दोपहर के लंच में हर घर में चावल दाल का काॅम्बो तो रहता ही है. वहीं आप अगर जल्दबाजी में हैं और ठीक से खाना खाने का समय नहीं है तो चावल दाल ही बस खाते हैं तो आपको सारे पोषक तत्व मिल जाते हैं. चावल दाल को सबसे हेल्दी और पोषक फूड माना जाता है. इतना ही नहीं यह बच्चों की ग्रोथ के लिए भी अच्छा माना जाता है. आइए आपको बताते हैं आखिर चावल दाल को इतना पौष्टिक खाना क्यों माना जाता है?


एक रिपोर्ट के मुताबिक, अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो आपके लिए चावल दाल का काॅम्बो बेस्ट है. यह एक तरह का मैजिक के तरह काम करेगा. अगर आप वजन कम करने के दौरान चावल दाल को एक मात्रा में चार सप्ताह तक अपने डिनर में खाते हैं तो आपको इसका असर जरूर देखने को मिलेगा. इसके लिए आप दाल ज्यादा मात्रा में लें और चावल कम. आप चाहें तोे व्हाइट के जगह ब्राउन राइस भी ले सकते हैं. 

 

जानें चावल दाल के पोषक तत्व

दाल में सभी जरूरी प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, कैल्शियम और काब्र्स होते हैं. चावल दाल के काॅम्बो में घी मिलाने से यह एक संतुलित आहार बन जाता है क्योंकि प्योर घी में विटामिन ए, डी, ई और के होता है जो विकास के लिए अच्छा होता है.


मेटाबाॅलिज्म को करता है तेज और डाइजेशन के लिए भी है अच्छा

दाल चावल और घी को एक साथ खाने से यह पाचन के लिए अच्छा होता है, जो मेटाबाॅलिज्म(Metabolism) को तेज करता है. इसमें प्रोटीन होता है जो मांसपेशियों के निर्माण के लिए बहुत जरूरी है.


Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि 

रेवांचल टाईम्स किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.


No comments:

Post a Comment