क्या होता है सिरदर्द: जानिए प्रकार, कारण, दवाइयां, योगा और घरेलू उपचार - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Friday, February 18, 2022

क्या होता है सिरदर्द: जानिए प्रकार, कारण, दवाइयां, योगा और घरेलू उपचार




रेवांचल टाइम्स :दुनियाभर के लोगों में सिरदर्द आम हो चुका है। हर दूसरे व्यक्ति में आपको यह समस्या देखने के लिए मिलेगी। सिरदर्द से दुनियाभर में ना जाने कितने ही लोग परेशान है। यह आज के समय में एक आम समस्या बन चुकी है और ऑफिस में काम करने वालों से लेकर घर पर रहने वालों तक में इसे देखा जाता है। आज के समय में अगर सिरदर्द को सामान्य बात कहे तो गलत नहीं होगा, हालाँकि ऐसा है नहीं। क्योंकि सिरदर्द बड़ी-बड़ी बीमारियों के संकेत देने वाला होता है। सिरदर्द से कई बीमारियां शुरू होती है और लोग उसे मामूली समझकर अनदेखा कर देते हैं। हालाँकि बाद में यह बड़ी परेशानी बनकर सामने आता है। अब आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं सिरदर्द के प्रकार, सिरदर्द के कारण, इसकी दवाइयां और इससे बचने के घरेलू उपाय। आइए जानते हैं। इसके लिए सबसे पहले हम ये जान लेते हैं कि सिर दर्द क्या है?

सिर दर्द क्या है- सिरदर्द सिर के किसी भी हिस्से में होने वाला दर्द है। आप सभी को बता दें कि सिरदर्द, सिर के एक या दोनों तरफ होने वाला दर्द हैं और यह सिर में एक बिंदु से शुरू होकर पूरे सिर में फैल जाता है या फिर किसी एक निश्चित स्थान पर होने लगता है। उसके बाद व्यक्ति की हालत बुरी हो जाती है और वह छटपटाने लगता है। यह एक ऐसा दर्द है जो सिर में सनसनी पैदा करता है और कभी तेज़ हो जाता है तो कभी हलके-हलके होता रहता है। किसी भी व्यक्ति के अंदर सिरदर्द धीरे-धीरे या अचानक उत्पन्न हो सकते हैं और एक घंटे से लेकर कई दिनों तक रह सकते हैं। कभी-कभी किसी-किसी को हर दिन सिरदर्द होता है जो आम नहीं है।

सिरदर्द के प्रकार- आप सभी को बता दें कि सिरदर्द दो प्रकार के होते हैं। इनमे पहली लिस्ट में प्राथमिक सिरदर्द शामिल होता है तो दूसरी लिस्ट में शामिल होता है माध्यमिक सिरदर्द। आपको बता दें कि प्राथमिक सिरदर्द को टेंशन सिरदर्द, क्लस्टर सिरदर्द, और माइग्रेन सिरदर्द कहा जाता हैं। वहीँ दूसरी तरफ माध्यमिक सिरदर्द में रीबाउंड और थंडरक्लैप सिरदर्द, स्ट्रेस सिरदर्द, कैफीन सिरदर्द को शामिल किया जाता हैं। वहीँ आज के समय में सबसे आम प्रकार तनाव (टेंशन) के कारण होने वाला सिरदर्द है। आजकल लोगों के अंदर तनाव देखने के लिए मिल रहा है और इससे संबंधित सिरदर्द व्यक्ति के कंधों, गर्दन, खोपड़ी और जबड़े की मांसपेशियों के कसने (तंग होने) के कारण होने लगता है। यह एक ऐसा सिरदर्द है जो हमेशा तनाव, अवसाद या चिंता से जुड़ा होता है। सबसे अधिक काम करने, पर्याप्त नींद न लेने, भोजन में अनियमितता बरतने या शराब का सेवन करने पर तनाव होते हैं और उसके बाद बढ़ने लगता है सिरदर्द। वैसे तो इस दर्द को आम कहा जा सकता है लेकिन कभी-कभी सिरदर्द एक गंभीर बीमारी का संकेत देने वाला होता है और अगर इसे ना समझा जाए तो बड़ी आफत आ सकती है। अगर कभी अचानक से गंभीर सिरदर्द होता है तो डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अगर एक झटके के बाद सिरदर्द होता है या सिरदर्द के साथ गर्दन में अकड़न, बुखार, भ्रम, बेहोशी या आँख अथवा कान में दर्द होता है तब भी डॉक्टर्स को दिखाना सही रहता है।

अब आइए जानते हैं प्राथमिक सिरदर्द के रूपों के बारे में-

माइग्रेन – आप सभी को बता दें कि माइग्रेन प्राथमिक सिरदर्द का दूसरा सबसे सामान्य रूप है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, माइग्रेन अक्षमता (disability) के कारण काम न कर पाने का छठा सबसे बड़ा कारण है। माइग्रेन कुछ घंटों से लेकर 2 से 3 दिनों तक रहने वाला दर्द है।

क्लस्टर (cluster) सिरदर्द – क्लस्टर सिरदर्द 15 मिनट से 3 घंटे तक रहता है और यहअचानक एक से लेकर आठ बार प्रतिदिन, कुछ सप्ताह या महीनों के लिए होने वाला दर्द है। कभी-कभी हो सकता है कि दो क्लस्टर सर दर्द के बीच में सिरदर्द का कोई लक्षण दिखाई न दे। जी दरअसल यह सिरदर्द महीनों ही नहीं सालों तक रहने वाला दर्द है।

टेंशन सिरदर्द (Tension headaches) – टेंशन सिरदर्द सामान्य रूप से दिन के बीच में धीरे-धीरे शुरू होता है। यह तनाव से जुड़ा होता है और कभी कुछ घंटे रहता है तो कभी पूरा दिन। वहीँ गंभीर सिरदर्द महीने में 15 या अधिक दिनों के लिए कम से कम 3 महीने के लिए होते हैं।

अब जानते हैं माध्यमिक सिरदर्द के रूपों के बारे में-

रीबाउंड सिरदर्द (Rebound headaches) – सिरदर्द के लक्षणों का इलाज करने वाली दवा का अगर अधिक उपयोग कर लिया जाए तो हम रीबाउंड सिरदर्द के शिकार हो जाते हैं। यह सिरदर्द दवा लेने पर बंद हो जाते हैं लेकिन जैसे-जैसे दवा का असर ख़त्म होने लगता है यह दर्द एक बार फिर से बहुत भयंकर हो जाते हैं।

थंडरक्लैप सिरदर्द (Thunderclap headaches) – यह अचानक होने वाला सिरदर्द हैं, और यह सबसे तेज और गंभीर होता है। यह दर्द एक मिनट से कम समय में इतनी तेज होता है कि व्यक्ति कुछ समझ ही नहीं पाता। वहीं यह 5 मिनट से अधिक समय तक रहते हैं।

कैफीन सिरदर्द – विथड्रावल (withdrawal) सिरदर्द कैफीन के अधिक समय तक उपयोग को रोकने के कारण होता है।

स्ट्रेस सिरदर्द (Stress Headache) – यह तनाव लेने के बाद होने वाला सिरदर्द है जो दवा लेने या नींद लेने से ठीक हो जाता है।

सिरदर्द खत्म करने के घरेलू उपाय-

ग्रीन टी- अगर आप सिरदर्द से बहुत परेशान हैं तो आप ग्रीन टी बनाकर पी सकते हैं क्योंकि यह सिरदर्द को कुछ ही समय में खत्म करने के लिए रामबाण मानी जाती है और इसके इस्तेमाल से सिरदर्द में काफी राहत मिलती है।

बर्फ से बना पैक- अगर आप सिरदर्द से तुरंत राहत पाना चाहते हैं तो यह तरीका सबसे बेहतरीन है। आप इस तरीके से आसानी से सिरदर्द से निजात पा सकते हैं। इसके लिए आपको बस यह करना है कि आइस पैक लेकर उसे गर्दन के पीछे लगा लेना है। ऐसे करने से आपको माइग्रेन या सिरदर्द से आसानी से राहत मिलेगी।

तुलसी- आपके सिरदर्द को भगाने में तुलसी भी अहम किरदार निभा सकती है। जी दरअसल तुलसी मांसपेशियों को आराम देने में सबसे मुख्य है। कई वार थकी हुई मांसपेशियों के कारण सिर का दर्द शुरू हो जाता है और ऐसे में इसे कम करने के लिए आप तुलसी को इस्तेमाल कर सकते हैं। इसे कैसे इस्तेमाल करना है वो भी हम बता देते हैं। इसे इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले एक साफ़ कपडा लें और फिर उसे ठंडे बर्फ के पानी में डालें। उसके बाद उस कपडे को निचोड़ें और अपने माथे पर कुछ मिनट तक उसे लगाकर रखें। ऐसा बार-बार करते रहे।

मसाज लें- अगर सिर दर्द बढ़ता जा रहा है तो किसी से सिर, माथे, गर्दन और कंधों की मालिश करवा लें। जी दरअसल यह सबसे सस्ता और अच्छा घरेलू उपाय है और इसे करने से काफी ज्यादा आराम मिलता है। वैसे तो मसाज आप घर पर खुद भी कर सकते हैं लेकिन किसी अन्य से करवाएंगे तो आपको आराम जल्द मिलेगा।

राई का पेस्ट- अगर भारी और भयंकर सिरदर्द से परेशान हैं तो राई को पीसकर माथे पर लगा लें और लेट जाए। इससे भी आपको कुछ समय में आराम मिल सकता है।

शतावरी - सिरदर्द के लिए शतावरी सबसे बेहतरीन है। अगर आप इसे इस्तामेल कर सकते हैं तो जरूर करें। इसके लिए आपको करना ये है कि शतावरी को कूटकर रस निकाल लेना है और उसके बाद इसमें तिल का तेल मिलाकर सिर पर मालिश करना है। ऐसा करने से कुछ ही समय के बाद आपका सिरदर्द खत्म-गायब हो जाएगा।

तेजपत्ते- अगर गर्मी या ठंड के मौसम में सिरदर्द तेज हो रहा हो, तो आप तेजपत्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल करने के लिए 2-3 तेजपत्ते व उसके 1-2 डंठलों को पानी में पीसकर हल्का गर्म कर लें। अब उसके बाद सिर पर मोटा लेप करें। अगर इसे लगाने से एक बार में फर्क नहीं दिख रहा है तो इसे दोबारा लगाएं, इसके बाद आपको आराम मिलेगा।

कपूर और घी- अगर सिरदर्द तेज है तो आप कपूर को घी में मिलाकर मालिश करें, इससे आपको थोड़ी देर में आराम मिलेगा।

गाय का ताजा घी- अगर आप आधे सिरदर्द से परेशान रहते हैं तो सुबह-शाम 2-4 बूँद नाक में रुई से टपकाने अथवा सूंघते रहने से भी लाभ होगा।

सिरदर्द भगाने के लिए करें योगा- अगर आप सिरदर्द से परेशान हैं तो योगा आपको काफी राहत दे सकता है। योगा करने से शरीर को कई बड़े फायदे होते हैं और सिरदर्द भी चुटकियों में गायब हो जाता है। वैसे आज हम आपको वही योगा बताने जा रहे हैं जो आपको सिरदर्द से राहत दिलवा सकता है। इस योगा को करने के लिए दाहिने नासिका छिद्र को बंद करें और बाएं से सांस लें। ऐसा आपको 5 मिनिट तक करना है और उसके बाद आप देखेंगे कि आपका सिरदर्द गायब हो गया है।

No comments:

Post a Comment