अनोखा मामला :साहब…पत्नी बीड़ी पीती है…मुझे तलाक दिला दो… SSP दफ्तर पहुंचे पति ने लगाई फरियाद - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, January 11, 2022

अनोखा मामला :साहब…पत्नी बीड़ी पीती है…मुझे तलाक दिला दो… SSP दफ्तर पहुंचे पति ने लगाई फरियाद



 रेवांचल टाईम्स: बुलंदशहर से एक अनोखा मामला सामने आया है. यहां एसएसपी दफ्तर पहुंचे एक व्यक्ति ने कुछ ऐसा कहा, जिसे सुनकर एकबारगी सभी हैरान हो गए. पत्नी कि शिकायत लेकर एसएसपी दफ्तर के महिला सेल पहुंचे व्यक्ति ने पत्नी की गलत लत का हवाला देते हुए उससे तलाक दिलाने की विनती तक कर डाली.


एसएसपी दफ्तर स्थित महिला सेल पहुंचे पति ने वहां मौजूद इंस्पेक्टर से कहा, ‘साहब बीवी बीड़ी पीती है, जिससे मुझे एलर्जी होती है. कई बार समझाने के बावजूद नहीं मानती…आप मुझे उससे तलाक दिला दो. पति की बात सुनकर इंसपेक्टर ने उसकी पत्नी को बुलवाया. पत्नी ने बताया कि वह जब टेंशन में होती है तो बीड़ी पीती है.




वहीं जब पुलिस ने महिला से बीड़ी पीने का कारण पूछा तो उसने बताया कि, ‘जब भी वह किसी बात को लेकर परेशान होती है तो बीड़ी पी लेती है, जिसपर महिला सेल की प्रभारी ने उससे कहा कि, बीड़ी पीने से उसे शारीरिक नुकसान सहित पति को भी परेशानी होती है, जिससे दोनो की शादी खतरे में पड़ गई है. इसके बाद दोनों का फैसला करवाकर घर भेज दिया गया.

इस मामले में इंस्पेक्टर महिला सेल अरूणा राय ने बताया कि, ‘व्यक्ति ने अपनी पत्नी के बीड़ी पीने की शिकायत की थी. पत्नी को बुलाकर पूछताछ की तो उसने बताया कि वह जब परेशान होती है तो बीड़ी पीती है. हालांकि, अब दोनो को समझा-बुझाकर साथ भेज दिया है. महिला ने भी भविष्य में बीड़ी नहीं पीने का वादा किया है.

No comments:

Post a Comment