मंगलवार के दिन करें ये काम, नहीं होगी कभी पैसे की कमी - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, January 4, 2022

मंगलवार के दिन करें ये काम, नहीं होगी कभी पैसे की कमी



राम भक्‍त हनुमान को कलयुग में जागृत देव कहा जाता है. श्री हनुमान अपने भक्‍तों के सभी कष्‍ट हर लेते हैं. उनकी कृपा हो जाए तो व्‍यक्‍त‍ि को कभी पैसे की तंगी का सामना नहीं करना पडता है. अगर आप हमेशा पैसे की तंगी से जूझते हैं, काम होते होते रुके जाते हैं और समाज में सम्‍मान नहीं मिल रहा है, तो हर मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करें. मंगलवार को हनुमान जी का दिन माना जाता है. इस दिन हनुमान चालीसा का पाठ आपको कई समस्‍याओं से मुक्‍त‍ि दिला सकता है. मंगलवार को हनुमान चालीसा पढने से क्‍या-क्‍या लाभ मिलते हैं, यहां जानिये.

1. आर्थ‍िक समस्‍या दूर होगी: अगर आप कर्ज में डूबे हुए और लाख कोशिशों के बावजूद आपकी स्‍थ‍िति में सुधार नहीं हो रहा है. तो मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करें. आपको ना केवल कर्ज से मुक्‍त‍ि मिलेगी, बल्‍क‍ि आपकी आय भी धीरे-धीरे बढने लगेगी.

2. बढेगा आत्‍मविश्‍वास: हनुमान चालीसा का पाठ करने से आत्‍मविश्‍वास में वृद्ध‍ि होती है. मंगलवार को या रोजाना हनुमान चालीसा का पाठ करें और अपने आत्‍मविश्‍वास में अभूतपूर्व मजबूती दखेंगे. आत्‍मविश्‍वास आने से आपको हर क्षेत्र में सफलता हासिल होगी.

खत्‍म होगा डर: मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करने से जातक को भय से मुक्‍त‍ि प्राप्‍त होती है. जीवन में आने वाले छोटे-छोटे बदलावों और अज्ञात शक्‍त‍ियों से लगने वाला डर समाप्‍त हो जाता है. जातक भगमुक्‍त होकर अपना जीवन खुशहाल जी पाता है.

रोग से मुक्‍त‍ि : हनुमान चालीसा में भी इस बात का वर्णन है कि श्री हनुमान रोग और कष्‍टों से रक्षा करते हैं. जो व्‍यक्‍त‍ि हनुमान चालीसा का पाठ करता है, वह रोगों से दूर रहता है.

बुरी नजर से रक्षा: श्री हनुमान अपने भक्‍तों को बुरी नजर से बचाते हैं. हनुमान चालीसा का पाठ करने वाले जातकों पर बुरी नजर का साया नहीं पडता.

No comments:

Post a Comment