सर्द‍ियों में रोजाना खाएं मूली, शुगर रहेगा कंट्रोल - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, January 10, 2022

सर्द‍ियों में रोजाना खाएं मूली, शुगर रहेगा कंट्रोल



सर्द‍ियां आते ही सब्‍जी बाजार में सीजनल फलों और सब्‍ज‍ियों की बहार आ जाती है. सीजनल फलों और सब्‍ज‍ियों में शामिल है मूली. मूली खाने कच्‍चा, पकाकर और अचार के रूप में भी खाया जा सकता है. मूली में कैल्‍श‍ियम और मैग्‍नीशियम पाया जाता है. इसे खाने से प्रतिरोधक क्षमता बढती है. मूली खाने से दिल की बीमारी का खतरा कम होता है और ब्‍लड फ्लो अच्‍छा रहता है. मूली खाने के कौन-कौन से लाभ हैं, यहां जानिये:


1. डायबिटीज का रिस्‍क कम करता है:
मूली में केमिकल कंपाउंड होते हैं, जो खून में शुगर के स्‍तर को रेगुलेट करता है. मूली खाने से शरीर में नेचुरल एडिपोनेक्‍टिन (प्रोटीन हार्मोन) बनते हैं. शरीर में इसका स्‍तर ज्‍यादा रहने से शुगर का लेवल कंट्रोल रहता है. इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट भी होता है, जिसकी वजह से डायबिटीज नहीं होता.

डायबिटीज का रिस्‍क कम करता है:
मूली में केमिकल कंपाउंड होते हैं, जो खून में शुगर के स्‍तर को रेगुलेट करता है. मूली खाने से शरीर में नेचुरल एडिपोनेक्‍टिन (प्रोटीन हार्मोन) बनते हैं. शरीर में इसका स्‍तर ज्‍यादा रहने से शुगर का लेवल कंट्रोल रहता है. इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट भी होता है, जिसकी वजह से डायबिटीज नहीं होता.

लीवर के लिये अच्‍छा:
मूली में ऐसे कंपाउंड होते हैं जो लीवर को डिटॉक्सीफाई करने और नुकसान से बचाने में मदद करते हैं.

दिल की सेहत के लिये अच्‍छा:
मूली में एंटीऑ‍क्‍स‍िडेंट और कैल्‍श‍ियम और पोटैशियम जैसे मिनरल्‍स होते हैं. यह ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल रखता है और दिल की बीमारी के खतरे से बचाता है. मूली भी प्राकृतिक नाइट्रेट का एक अच्छा स्रोत है जो रक्त प्रवाह में सुधार करता है.

कैंसर से बचाव:
मूली में पर्याप्त मात्रा में ग्लूकोसाइनोलेट्स-सल्फर कंपाउंड होते हैं जो कैंसर का कारण बनने वाले जेनेटिक म्‍यूटेशन से कोशिकाओं की रक्षा करता है. यही नहीं यह ट्यूमर सेल्‍स भी नहीं बनने देता.

पाचन में मददगार :
मूली में फाइबर होता है, जो खाना पचाने में मददगार होता है. इसे खाने से अपच या कॉन्‍सट‍िपेशन नहीं होता.

No comments:

Post a Comment